ओमिक्रॉन से बचाव की वैक्सीन जल्द ही तैयार कर लेंगे ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका

डॉ. एंथनी फौसी ने इस सप्ताह कहा कि कोविड के खिलाफ मौजूदा टीके और बूस्टर शॉट ओमिक्रॉन संक्रमण को रोकने के लिए पर्याप्त हैं

0
140
ओमिक्रॉन से बचाव की वैक्सीन जल्द ही तैयार कर लेंगे ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका
ओमिक्रॉन से बचाव की वैक्सीन जल्द ही तैयार कर लेंगे ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनेका

ओमिक्रॉन का टीका जल्द ही तैयार होगा

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका ने घोषणा की है कि उन्होंने एक ऐसे कोविड शॉट को विकसित करने का काम शुरू कर दिया है, जो विशेष रूप से नए स्ट्रेन को लक्षित करता है। यह खबर ऐसे समय पर सामने आई है, जब अनुमान लगाए जा रहे हैं कि नया कोविड वेरिएंट ओमिक्रॉन वैक्सीन से बच निकलने में कामयाब रहता है।

इस महीने की शुरुआत में फाइजर, मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन और एस्ट्राजेनेका सहित सभी प्रमुख दवा निर्माताओं ने अपने शॉट्स को अत्यधिक उत्परिवर्तित ओमिक्रॉन वेरिएंट के संदर्भ में जल्दी से जांचने और अनुकूलित करने की योजना की घोषणा की थी।

फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, ऑक्सफोर्ड के एक शोध समूह के प्रमुख सैंडी डगलस ने कहा, “वेरिएंट्स ऑफ कंसर्न के कई पिछले वेरिएंट्स की तरह और हमारे भागीदारों एस्ट्राजेनेका के साथ, हमने जरूरत पड़ने पर एक अपडेटिड वैक्सीन के उत्पादन को लेकर प्रारंभिक कदम उठाए हैं।”

उन्होंने आगे कहा कि एडेनोवायरस-आधारित टीके (जैसे कि ऑक्सफोर्ड या एस्ट्राजेनेका द्वारा बनाए गए हैं), किसी भी नए वेरिएंट से लड़ने के लिए उपयोग में लाए जा सकते हैं। डगलस ने कहा कि ऐसे समय पर जब कई तार्किक चुनौतियां हमारे सामने हैं, वास्तव में इसके महत्वपूर्ण फायदे होंगे।

द लैंसेट नामक पत्रिका में सोमवार को प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि भारत में कोविशील्ड नामक ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन द्वारा दी जाने वाली सुरक्षा दो खुराक प्राप्त करने के तीन महीने बाद कम हो जाती है।

एडिनबर्ग विश्वविद्यालय के नेतृत्व में शोधकर्ताओं की एक टीम के निष्कर्ष बताते हैं कि गंभीर बीमारी से सुरक्षा बनाए रखने में मदद के लिए बूस्टर खुराक की जरूरत होती है।

परिणाम कई अध्ययनों के अनुरूप हैं, जो लगभग सभी व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले टीकों की दो खुराक प्रदान करते हैं और जो अत्यधिक तेजी से फैलने वाले वेरिएंट के खिलाफ कम प्रभावी हैं। हालांकि, एक तीसरे मैसेंजर आरएनए शॉट ने एंटीबॉडी के स्तर को बढ़ाने का दावा किया है।

समाचार पत्र ने एस्ट्राजेनेका के हवाले से कहा, “ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के साथ मिलकर, हमने एक ओमिक्रॉन वेरिएंट वैक्सीन बनाने के लिए प्रारंभिक कदम उठाए हैं।” इसमें आगे बताया गया है कि भविष्य में सामने आने वाले आंकड़ों से लोगों को सूचित कर दिया जाएगा।

ऑक्सफोर्ड और भारत के सीरम इंस्टीट्यूट की साझेदारी के साथ एस्ट्राजेनेका शॉट को वैश्विक स्तर पर 2 अरब से अधिक खुराक के साथ व्यापक रूप से दिया गया था। इसकी आपूर्ति अधिकांश गरीब देशों में की जा रही है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, कई देशों ने रक्त के थक्कों से जुड़े एक दुर्लभ दुष्प्रभाव के उभरने के बाद इसके उपयोग को प्रतिबंधित कर दिया है।

इस बीच, अमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फौसी ने इस सप्ताह कहा कि कोविड के खिलाफ मौजूदा टीके और बूस्टर शॉट ओमिक्रॉन संक्रमण को रोकने के लिए पर्याप्त हैं। उन्होंने इस समय वायरस के नए, अत्यधिक संक्रामक स्ट्रेन से लड़ने के लिए टीकों को बदलने की सलाह को खारिज कर दिया।

फौसी ने कहा, “हमारा बूस्टर टीका ओमिक्रॉन के खिलाफ काम करता है। इस बिंदु पर, एक प्रकार-विशिष्ट बूस्टर की कोई आवश्यकता नहीं है।”

यूके स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी के डेटा से पता चला है कि बूस्टर खुराक लक्षणों के साथ संक्रमण के मामलों में सुरक्षा को 75 प्रतिशत तक बढ़ा देती है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी ने भी चेतावनी दी है कि ओमिक्रॉन-लक्षित शॉट्स की आवश्यकता है या नहीं, इस पर वैश्विक वैज्ञानिक सहमति तक पहुंचने में समय लगेगा।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.