कोविड-19 टीकाकरण दूसरा चरण: 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी और 45 वर्ष से अधिक आयु के बीमार लोग 1 मार्च से कोविड-19 वैक्सीन (टीका) प्राप्त कर सकते हैं!

दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण 1 मार्च से शुरू होगा!

0
719
दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण 1 मार्च से शुरू होगा!
दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण 1 मार्च से शुरू होगा!

स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और प्रथम पंक्ति कर्मचारियों के बाद अब 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग और 45 वर्ष से अधिक उम्र के बीमार लोगो का टीकाकरण शुरू होगा!

भारत सरकार ने बुधवार को बड़े पैमाने पर कोविड टीकाकरण योजना की घोषणा की। 60 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोग और 45 वर्ष से अधिक उम्र के बीमार लोग सरकारी सुविधा केंद्रों में मुफ्त और कई निजी अस्पतालों में शुल्क के साथ, 1 मार्च से कोविड-19 वैक्सीन प्राप्त कर सकेंगे। इस महीने की शुरुआत में, भारत ने महामारी से जंग में प्रथम पंक्ति कर्मचारियों जैसा पुलिस और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का टीकाकरण शुरू किया था।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केंद्रीय मंत्रिमंडल के निर्णय को विस्तार से बताते हुए कहा – “दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का दूसरा चरण सोमवार से शुरू होगा, जिसमें 60 साल से ऊपर का कोई भी व्यक्ति (देश के लगभग 10 करोड़ लोग), और 45 साल से अधिक आयु के बीमार व्यक्तियों को 10,000 सरकारी सुविधा केंद्रों और 20,000 से अधिक निजी अस्पतालों में टीका लगाया जायेगा।”

मंत्री ने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण 16 जनवरी को शुरू हुआ था, जिसमें 1,07,67,000 लोगों ने टीकाकरण कराया और 14 लाख ने दूसरी खुराक भी ले ली है।

जावड़ेकर ने कहा, “जो कोई भी सरकारी केंद्र में जाएगा, उसे मुफ्त में वैक्सीन दी जाएगी। भारत सरकार उनके लिए भुगतान करेगी। सरकार आवश्यक खुराक (टीके) खरीदेगी और सभी राज्यों को भेजेगी।” उन्होंने कहा कि जो लोग निजी अस्पतालों से टीकाकरण करवाना चाहते हैं, उन्हें भुगतान करना होगा, लेकिन इसकी राशि स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा अगले तीन-चार दिनों के भीतर तय की जाएगी क्योंकि वे निर्माताओं के साथ-साथ अस्पतालों के साथ भी चर्चा कर रहे हैं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

यह पूछे जाने पर कि क्या लोगों के पास कोविशील्ड या कोवैक्सिन में चुनाव करने का विकल्प होगा, जावड़ेकर ने कहा कि भारत के पास दो टीके होने पर गर्व है, और दोनों ही सिद्ध प्रभावकारिता के साथ प्रभावी हैं। ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोविशिल्ड का निर्माण सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा किया जा रहा है, वहीं कोवैक्सिन का निर्माण भारत बायोटेक द्वारा किया जा रहा है।

मंत्री ने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण 16 जनवरी को शुरू हुआ था, जिसमें 1,07,67,000 लोगों ने टीकाकरण कराया और 14 लाख ने दूसरी खुराक भी ले ली है। उन्होंने कहा – “यह चरण मुख्य रूप से स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और अग्रिम पंक्ति के श्रमिकों के लिए था और पूरा खर्च सरकार द्वारा वहन किया गया था, उन सभी को मुफ्त टीका लगाया गया था।” जावड़ेकर ने कहा कि भारत में टीकाकरण सफल रहा है, “शायद ही कोई शिकायत मिली है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या मंत्री और प्रधान मंत्री, जो अब टीकाकरण कराने वालों की श्रेणी में होंगे, उन्हें टीका लगाया जाएगा, जावड़ेकर ने कहा कि जो लोग टीकाकरण लेना चाहते हैं, वे 1 मार्च को चुने हुए स्थान पर इसे ले लेंगे। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, जिन्होंने मंत्रिमंडल के फैसलों पर मीडिया को जानकारी दी, ने कहा कि अधिकांश मंत्रियों का सोचना है कि वे टीकाकरण के लिए भुगतान करेंगे।

अन्य देशों के नेताओं द्वारा पहले टीकाकरण लेने के बारे में एक अन्य सवाल पर, प्रसाद ने कहा कि यह अपना-अपना दृष्टिकोण है। उन्होंने कहा – “कई स्थानों पर, प्रधान मंत्री और मंत्री इसे पहले ही ले रहे हैं, यहाँ हमने सोचा है कि सबसे पहले हम अपने स्वास्थ्य क्षेत्र के सेनानियों का टीकाकरण करवाएँगे।”

[पीटीआई इनपुट्स के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.