पूर्व पत्रकार आशीष खेतान, एस्सार समूह के गुणगान के लिए पकड़े गए, एस्सार समूह के उपाध्यक्ष (कानूनी) के रूप में शामिल हुए

आशिष खेतान सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी का पाठ पढ़ा रहे थे लेकिन वह उसी दल का हिस्सा बन गया जिसकी वह अपने लेख में तारीफ करते थे !

0
629
पूर्व पत्रकार आशीष खेतान, एस्सार समूह के गुणगान के लिए पकड़े गए, एस्सार समूह के उपाध्यक्ष (कानूनी) के रूप में शामिल हुए
पूर्व पत्रकार आशीष खेतान, एस्सार समूह के गुणगान के लिए पकड़े गए, एस्सार समूह के उपाध्यक्ष (कानूनी) के रूप में शामिल हुए

पत्रकारिता और नैतिकता बारीकी से जुड़े हुए हैं और साथ-साथ चलते हैं, हालांकि अब यह दुर्लभ है। पत्रकारिता की आड़ में कई अनैतिक आचरण हो रहे हैं। ताजा उदाहरण पूर्व खोजी पत्रकार आशीष खेतान का मामला है जो बाद में राजनीति में शामिल हो गए। खेतान का पत्रकारिता करियर तब विवादों में घिर गया जब उन्हें एस्सार ग्रुप के समर्थन में कई कहानियाँ लिखने के लिए पकड़ा गया। अब आशीष खेतान, एस्सार समूह में कानूनी प्रभाग के उपाध्यक्ष के रूप में शामिल हो गए हैं।

एक व्यक्ति के रूप में आशीष खेतान को अपने करियर का रास्ता चुनने का पूरा अधिकार है। लेकिन जब कोई व्यक्ति एक विख्यात शख्सियत है या सार्वजनिक क्षेत्र में है, तो उसकी गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी और बात की जाएगी। आशीष खेतान ने कांग्रेस के शासनकाल के दौरान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं खासकर नरेंद्र मोदी और अमित शाह को निशाना बनाते हुए गुजरात दंगों के मामलों में स्टिंग ऑपरेशन करके पत्रकारिता में प्रसिद्धि हासिल की थी। खेतान की कई रिपोर्टें प्रख्यात वकील प्रशांत भूषण की जनहित याचिका (पीआईएल) का स्रोत या हिस्सा और पुलिंदा थीं, जिसने 2014 तक कई व्यापारियों और केंद्र सरकार को हिला दिया। उन्होंने 2 जी स्कैम सहित कई खोजी कहानियां भी लिखीं और उन पर आरोप लगाया कि जब टेलीकॉम घोटाले में कंपनी पकड़ी गई तो एस्सार ग्रुप के पक्ष में कहानियाँ लिखने में वह “भ्रष्ट” हो गया।

2014 के लोकसभा चुनावों में, आशीष खेतान को आम आदमी पार्टी (आप) के नई दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र के उम्मीदवार के रूप में चुना गया था। आप नेताओं का कहना है कि उन्हें प्रशांत भूषण की सिफारिश पर मैदान में उतारा गया था। जल्द ही गुरु और शिष्य विवाद में पड़ गए जब खेतान का नाम एस्सार डायरी घपले में आया। 2015 में, भूषण टीवी पर सार्वजनिक रूप से सामने आए और उन्होंने खेतान पर 2012 में तहलका पत्रिका में एस्सार ग्रुप के समर्थन में कहानियों को लिखने के लिए 3 करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया। खेतान ने 2 जी घोटाले में एस्सार ग्रुप और उसके मालिकों के खिलाफ आरोप-पत्र दायर करने के लिए सीबीआई के खिलाफ हमलावर लेख लिखा [1]

हालांकि, आरोपों और प्रत्यारोपों के उस समय के दौरान, आप सुप्रीमो ने खेतान का समर्थन किया और उन्हें दिल्ली डायलॉग कमीशन नामक राज्य के स्वामित्व वाले एक प्रबुद्ध संस्थान (थिंक टैंक) का प्रमुख बनाया और उन्हें एक बड़ा बंगला और कैबिनेट रैंक भी प्रदान किया। उन दिनों केजरीवाल की ओर से पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली पर हमला करने के लिए खेतान सामने और मुख्य था। वह आरोप लगाने की हद तक चला गया कि अरुण जेटली उद्योगपति अनिल अंबानी के सेवक थे और यहां तक कि पैसों के लेनदेन का विवरण भी प्रस्तुत किया था। खेतान ने जेटली पर अनिल अंबानी समूह से प्रति वर्ष 36 लाख रुपये सेवा प्रदान करने के लिए लेने का आरोप लगाया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

2018 तक, खेतान केजरीवाल से अलग हो गए और उन्होंने आप छोड़ने और लंदन में एलएलएम की पढ़ाई करने की घोषणा की। लेकिन आप नेताओं के पास बताने के लिए एक अलग कहानी है। उनका संस्करण यह है कि आशीष खेतान को कपिल सिब्बल और मनीष तिवारी जैसे कांग्रेसी नेताओं ने पूर्णतः पराजित कर दिया। यूपीए शासन के दौरान, ये नेता गुजरात-दंगा-मामले से संबंधित स्टिंग ऑपरेशनों में बीजेपी के खिलाफ उनकी रिपोर्ट के लिए खेतान का समर्थन कर रहे थे। आप नेताओं के अनुसार, खेतान अपने ठिकाने पर वापस चला गया और एस्सार समूह के अधिवक्ताओं-सह-राजनेताओं जैसे सलमान खुर्शीद ने उसे जीवन में इस नए रास्ते पर निर्देशित किया, अंततः एस्सार समूह का उपाध्यक्ष (कानूनी) बन गया। AAP नेताओं ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हीं ताकतों ने पत्रकार आशुतोष के आप पार्टी छोड़ने में भूमिका निभाई [2]

हम एक बार फिर से दोहराते हैं – हर किसी को अपना कैरियर मार्ग चुनने का अधिकार है। लेकिन जो लोग कभी नैतिकता का उपदेश देते थे उन्हें महसूस करना चाहिए कि वे जवाबदेह हैं क्योंकि उनका जीवन सार्वजनिक जांच के लिए खुला है।

संदर्भ:

[1] Essar links take its toll on mediaFeb 28, 2015, DNAIndia.com

[2] क्या अरुण जेटली ने अनिल अंबानी की फर्मों से कानूनी सेवा शुल्क लिया है? क्या यह निजी स्वार्थों की बात है? Sep 26, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.