वित्त मंत्रालय ने नए आयकर पोर्टल में अंतहीन गड़बड़ियों के लिए इंफोसिस के सीईओ को तलब किया। क्या इंफोसिस को प्रतिबंधित करने का समय आ गया है?

इंफोसिस द्वारा बनाये गए सरकारी पोर्टलों का प्रदर्शन चिंता का विषय - क्या कार्रवाई होगी?

1
562
इंफोसिस द्वारा बनाये गए सरकारी पोर्टलों का प्रदर्शन चिंता का विषय - क्या कार्रवाई होगी?
इंफोसिस द्वारा बनाये गए सरकारी पोर्टलों का प्रदर्शन चिंता का विषय - क्या कार्रवाई होगी?

वित्त मंत्रालय ने नए आईटी पोर्टल की लगातार गड़बड़ियों पर इंफोसिस के सीईओ सलिल पारेख को तलब किया

प्रमुख सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस अपने मुख्य प्रोजेक्ट्स के साथ छेड़छाड़ करके मोदी सरकार के लिए वास्तविक शर्मिंदगी बनती जा रही है। आयकर विभाग ने रविवार को ट्वीट किया कि वित्त मंत्रालय ने इंफोसिस के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सलिल पारेख को पिछले तीन महीने से नए आयकर पोर्टल में हो रही गड़बड़ियों को लेकर तलब किया है।

हाल ही में पीगुरूज ने पूर्व आयकर आयुक्त डीपी कर द्वारा प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को दायर एक याचिका प्रकाशित की, जिसमें मौजूदा पोर्टल के ठीक तरह से काम करने के बावजूद इन्फोसिस को 4,200 करोड़ रुपये से अधिक के नए आयकर पोर्टल के अनुबंध की अनुमति देने के मामले में पूर्व राजस्व सचिव एबी पांडे की भूमिका की जांच करने के लिए कहा गया। डीपी कर ने आधार कार्ड के दिनों से इंफोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणि के साथ पांडे की निकटता और नीलेकणि के साथ अमेरिका में बसे पांडे की पत्नी के व्यापारिक संबंधों का आरोप लगाया। पीगुरूज ने पूर्व राजस्व सचिव एबी पांडे की “नापाक” गतिविधियों पर डीपी कर द्वारा दर्ज विस्तृत छह-पृष्ठ की शिकायत भी प्रकाशित की।[1]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सभी प्रमुख सरकारी पोर्टल – चाहे वह एमसीए, जीएसटी या नया आयकर पोर्टल हो – इंफोसिस द्वारा निर्मित और संचालित पूरी तरह से गड़बड़ और उपयोगकर्ताओं के लिए एक परेशानी का सबब हैं। इंफोसिस को सिर्फ इन तीन परियोजनाओं के लिए 6,000 करोड़ रुपये से अधिक मिले हैं। पीगुरूज के प्रबंध संपादक श्री अय्यर ने वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) नेटवर्क जीएसटीएन में विफलताओं और धोखाधड़ी और संदिग्ध गतिविधियों पर लेखों की एक श्रृंखला लिखी है।[2]

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने शुरू से ही जीएसटीएन के संदिग्ध संचालन के खिलाफ कई बार आवाज उठाई है क्योंकि जीएसटी नेटवर्क को आईसीआईसीआई और एचडीएफसी संघ जैसे निजी बैंकों द्वारा नियंत्रित किया गया था। बाद में सरकार ने जीएसटीएन को सरकारी नियंत्रण में लिया।[3]

2019 में, नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने जीएसटी प्रशासन में कई कदाचार और खामियों की ओर इशारा किया था। जीएसटी एक पुरानी कांग्रेस शासन परियोजना थी जिसे 90 के दशक के मध्य से शुरू किया गया था और मोदी सरकार द्वारा नंदन नीलेकणि के आधार कार्ड परियोजना को संरक्षण देने जैसे बहुत धूमधाम से लागू किया गया था, जिस पर विपक्ष में रहते हुए इसी भाजपा ने पुरजोर आपत्ति जताई थी।[4]

यहां सवाल यह है कि क्या मोदी सरकार गलत, अक्षम इंफोसिस को ब्लैक लिस्ट (प्रतिबंधित) में डालेगी, जिसने प्रमुख सरकारी पोर्टलों – एमसीए, जीएसटीएन और नए आयकर पोर्टल के प्रशासन को गड़बड़ कर दिया। सरकार के अलावा, इंफोसिस द्वारा संचालित सरकारी पोर्टलों का उपयोग करने से लाखों उपयोगकर्ता और व्यापारिक समुदाय पीड़ित हैं।

संदर्भ:

[1] पूर्व मुख्य आयकर आयुक्त डीपी कर ने पूर्व राजस्व सचिव एबी पांडे के खिलाफ इंफोसिस से सांठगांठ और रिश्वत के आरोपों की जांच की मांग कीJul 09, 2021, hindi.pgurus.com

[2] GSTN tender scam – Will Hasmukh Adhia speak now? Why was Rs.1400 crores allotted bypassing the Union Cabinet?Mar 29, 2018, PGurus.com

[3] Finally, after all the mess, the Government decides to take over GSTN. Will FM & Adhia admit they were wrong?Apr 11, 2018, PGurus.com

[4] जीएसटी के कार्यान्वयन में विफलताओं के लिए सीएजी ने वित्त मंत्रालय, राजस्व विभाग और जीएसटीएन को दोषी ठहरायाAug 01, 2019, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

  1. […] मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को इंफोसिस के सीईओ सलिल पारेख को 15 सितंबर तक आयकर पोर्टल को ठीक करने […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.