प्रवर्तन निदेशालय ने काले धन को वैध बनाने के मामले में मीडिया उद्योगपति राघव बहल को आरोपित किया

पीगुरूज द्वारा अवैध एफआईपीबी मंजूरी और राघव बहल द्वारा काले धन को वैध बनाने के बारे में लिखे जाने के दो साल बाद, ईडी ने ईसीआईआर दायर की।

3
658
प्रवर्तन निदेशालय ने काले धन को वैध बनाने के मामले में मीडिया उद्योगपति राघव बहल को आरोपित किया
प्रवर्तन निदेशालय ने काले धन को वैध बनाने के मामले में मीडिया उद्योगपति राघव बहल को आरोपित किया

भ्रष्ट मीडिया दबंग एनडीटीवी के प्रनॉय रॉय के बाद, एक और मीडिया दबंग राघव बहल को काले धन को वैध बनाने के लिए पकड़ा गया है, जो पिछले दशकों से धन के अस्पष्ट स्रोत के साथ कई उपक्रमों में प्रवेश कर रहा था। अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मीडिया दबंग राघव बहल, जो वर्तमान में एक अघोषित विदेशी संपत्ति खरीदने के लिए काले धन को सफेद करने के लिए द क्विंट वेबसाइट चला रहा है, के खिलाफ काले धन को वैध बनाने का मामला दर्ज किया है।

उन्होंने कहा कि एक प्रवर्तन मामले की सूचना रिपोर्ट (ईसीआईआर), एक पुलिस प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) समकक्ष, संघीय एजेंसी द्वारा इस सप्ताह की शुरुआत में उसके और अन्य के खिलाफ आयकर विभाग की शिकायत का संज्ञान लेने के बाद दर्ज की गई थी। धन शोधन निरोधक अधिनियम (PMLA) के तहत मामला दर्ज किया गया था।

उन्होंने कहा कि आयकर विभाग के आरोप-पत्र की जानकारी और उसमें दर्ज सबूतों के आधार पर ईसीआईआर दायर की गई। I-T विभाग ने हाल ही में मेरठ की एक अदालत के समक्ष काले धन विरोधी कानून या काले धन (अघोषित विदेशी आय और संपत्ति) और कर अधिनियम 2015 के प्रावधानों के तहत बहल के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था।

पीगुरूज ने स्टॉक एक्सचेंज हेरफेर से जुड़े इस काले धन को वैध बनाने के मामले की विस्तृत सूचना दी [1]:

बहल ने प्रवर्तन निदेशालय की कार्यवाही को स्वीकार करते हुए कहा कि एजेंसी ने लंदन में एक संपत्ति की खरीद के लिए भुगतान किए गए 2.38 करोड़ रुपये के कथित गैर-प्रकटीकरण के लिए दायर कर विभाग के आरोप-पत्र पर संज्ञान लेने के बाद कार्यवाही की है।

उसका आरोप है कि “उसे लगता है उसे बेवजह निशाना बनाया जा रहा है जबकि वह सारे करों को ईमानदारी और लगन से भुगतान कर रहा है”।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और सीबीडीटी और ईडी के प्रमुखों को भेजे गए पत्र में उन्होंने कहा, “मेरे या मेरे व्यावसायिक सरोकारों के ऋण दायित्वों के मामले में भी कोई धोखाधड़ी नहीं है।”

पत्र को उनके संगठन द्वारा पीटीआई के साथ साझा किया गया है।

बहल ने पत्र में कहा कि उन्होंने और उनकी पत्नी ने अपने टैक्स रिटर्न में “पूर्ण खुलासे” किए थे जो आयकर विभाग द्वारा जारी किए गए नोटिसों में कानूनी मुद्दों को संबोधित करते हैं जो दावा करते थे कि लंदन की संपत्ति एक अघोषित संपत्ति है जिसे काले धन का उपयोग करके बनाया गया था।

उन्होंने पत्र में कहा, “मैंने पहले ही इलाहाबाद हाईकोर्ट के समक्ष रिट याचिका में कारण बताओ नोटिस और बाद के कृत्यों को चुनौती दी है।”

बहल ने कहा कि वह एफएम को पत्र लिख रहा है ताकि “वे हस्तक्षेप न केवल उसके तरफ से करें बल्कि इसलिए भी करें ताकि काले धन को वैध बनाने वाले और काला धन रखने वालों के खिलाफ जरूरी और प्रशंसनीय मुहिम निरपराधी व्यक्तियों को सताने के संसाधनों का विपथन ना हो जाए”।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

“वास्तव में, इस तरह की कार्रवाई अधिकारियों को वास्तविक अपराधियों का पीछा करने की क्षमता से दूर ले जाती है, जो कीमती न्यायिक समय और संसाधनों को बर्बाद करने के अलावा, इन विधायी उपायों के मुख्य उद्देश्यों को हराने के लिए काम करेगा,” उन्होंने लिखा।

कर विभाग ने पिछले साल अक्टूबर में नोएडा में बहल के परिसरों पर “विभिन्न लाभार्थियों द्वारा प्राप्त किए गए फर्जी दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ (LTCG)” और कर चोरी के अन्य आरोपों के आधार पर छापे मारे थे।

बहल क्विंट समाचार पोर्टल और नेटवर्क 18 समूह के संस्थापक और एक ज्ञात मीडिया उद्यमी हैं।

पीगुरुस ने पहले भ्रष्ट पी चिदंबरम के साथ उसके व्यापार भागीदार और कुछ संदिग्ध वित्तीय स्वीकृति एवँ बेटे कार्ति के बारे में लेख लिखा था [2]

पीटीआई से इनपुट्स के साथ

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.