ईडी ने डेक्कन क्रॉनिकल अखबार समूह और इसके मालिकों रेड्डी बंधुओं की 122 करोड़ रुपये की संपत्ति संलग्न की

ईडी ने डेक्कन क्रॉनिकल अखबार समूह की संपत्ति संलग्न की। नीलामी को जल्दी से किया जाना चाहिए क्योंकि कई लेनदारों का भुगतान होना है!

0
431
ईडी ने डेक्कन क्रॉनिकल अखबार समूह की संपत्ति संलग्न की। नीलामी को जल्दी से किया जाना चाहिए क्योंकि कई लेनदारों का भुगतान होना है!
ईडी ने डेक्कन क्रॉनिकल अखबार समूह की संपत्ति संलग्न की। नीलामी को जल्दी से किया जाना चाहिए क्योंकि कई लेनदारों का भुगतान होना है!

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को कर्ज में डूबे और बैंक ऋण धोखाधड़ी का सामना कर रहे डेक्कन क्रॉनिकल अखबार समूह और उसके मालिकों टी वेंकटराम रेड्डी और विनायकरवी रेड्डी की 122 करोड़ रुपये की संपत्ति संलग्न की। डेक्कन क्रॉनिकल समूह एशियन एज और आंध्र भूमि जैसे अन्य अखबारों को भी प्रकाशित कर रहा है। रेड्डी के नियंत्रित वाला यह समूह कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री टी सुब्बारामी रेड्डी से कृपा प्राप्त था। अब ईडी ने इस दागी समूह की कुल 265 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति संलग्न कर ली है। यह मूल्य सर्कल (वृत्त) दरों पर आधारित है और इन परिसंपत्तियों का बाजार मूल्य 600 करोड़ रुपये से अधिक होने की उम्मीद है।

समूह के मालिक उनके भतीजे हैं और कांग्रेस के शासनकाल में, बैंकों को इस समूह को भारी ऋण देने के लिए मजबूर किया गया था, जिससे 8000 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज हो गया था। ईडी ने यह भी कहा कि इस समूह को 15,000 करोड़ रुपये से अधिक की उधार की सुविधा भी प्राप्त है। इनमें से अधिकांश ऋण वित्त मंत्री पी चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान दिए गए थे।

पीएमएलए के तहत जांच, ईडी द्वारा एम/एस डीसीएचएल और उसके प्रबंधन के खिलाफ वर्ष 2015 में सीबीआई, बीएस एंड एफसी, बैंगलोर द्वारा दायर 6 एफआईआर और संबंधित आरोप-पत्र के आधार पर शुरू की गई थी।

अनंतिम रूप से, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने ऋण धोखाधड़ी के मामले में धन शोधन निवारण अधिनियम, 2002 (पीएमएलए) के तहत 122.15 करोड़ रुपये की कुल अचल संपत्ति संलग्न की है। संलग्न संपत्ति एम/एस डेक्कन क्रॉनिकल होल्डिंग्स लिमिटेड (डीसीएचएल) और इसके दो पूर्व मालिकों जैसे टी वेंकटराम रेड्डी और टी विनायकरवी रेड्डी और उनके द्वारा बनाई गयी एक बेनामी कंपनी की है। अचल संपत्ति में नई दिल्ली, हैदराबाद, गुड़गांव, चेन्नई, बैंगलोर आदि में स्थित 14 संपत्तियाँ शामिल हैं। ये सभी संलग्न संपत्ति एनसीएलटी प्रक्रिया के तहत शामिल नहीं हैं। इस मामले में यह दूसरी संलग्नता है। पहले की संलग्नता और इस संलग्नता के बाद, अब तक संलग्न कुल संपत्ति 264.56 करोड़ रुपये है।

ईडी ने एक बयान में कहा – “पीएमएलए के तहत जांच, ईडी द्वारा एम/एस डीसीएचएल और उसके प्रबंधन के खिलाफ वर्ष 2015 में सीबीआई, बीएस एंड एफसी, बैंगलोर द्वारा दायर 6 एफआईआर और संबंधित आरोप-पत्र के आधार पर शुरू की गई थी। सीसीएस पुलिस द्वारा एक और आरोप पत्र दायर किया गया और सेबी द्वारा एम/एस डीसीएचएल के खिलाफ अभियोजन भी दायर किया गया है। एम/एस डीसीएचएल और इसके मालिकों द्वारा की गयी कुल ऋण धोखाधड़ी का अनुमान 8180 करोड़ रुपये है। एम/एस डीसीएचएल वर्तमान में सीआईआरपी प्रक्रिया के तहत है जिसमें केवल 400 करोड़ रुपये की एक प्रस्ताव योजना को एनसीएलटी द्वारा अनुमोदित किया गया है।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

रेड्डी बंधु उस समय मुसीबत में पड़ गए जब बैंकों ने ऋण का पैसा वापस मांगना शुरू कर दिया। यह पता चला है कि एक निजी जेट खरीदने और अपने क्रिकेट आईपीएल क्लब डेक्कन चार्जर्स के लिए बहुत सारा पैसा लूटा गया था, डेक्कन चार्जर को बाद में मारन ग्रुप को बेच दिया गया। डीसीएचएल को एसआरईआई समूह को लगभग 450 करोड़ रुपये में नीलामी के माध्यम से बेचा गया था और यह सौदा अब अपीलीय फोरम में विवादों का सामना कर रहा है।

ईडी ने कहा कि पीएमएलए के तहत की गई जांच से पता चला है कि डीसीएचएल के तीन प्रमोटरों जैसे पीके अय्यर, वेंकटराम रेड्डी, और विनायकरवी रेड्डी ने एक सुनियोजित साजिश रची और कंपनी की बैलेंस शीट में हेरफेर करके मुनाफा-विज्ञापन राजस्व में वृद्धि की और बैंकों एवं शेयरधारकों को धोखा देने के लिए कंपनी की वित्तीय देनदारियों की एक आकर्षक तस्वीर दर्शायी। कंपनी की बैलेंस शीट्स में हेराफेरी की गयी और एक बैंक से लिए गए ऋण को अन्य वित्तीय संस्थानों से छिपाया गया। पिछले कुछ वर्षों में, एम/एस डीसीएचएल ने 15,000 करोड़ रुपये से अधिक की क्रेडिट सुविधाओं का लाभ उठाया।

बैंकिंग धोखाधड़ी के मामले के अलावा, रेड्डी बंधुओं को दिल्ली पुलिस ने एक मुखबिर (व्हिसलब्लोअर) अधिकारी की हत्या के प्रयास के लिए भी पकड़ा था।

“पैसे के लेन-देन की जांच से पता चला है कि अधिकांश ऋणों को समूह की कंपनियों में चक्रीय रूप से घुमाया गया था और पुराने ऋणों का भुगतान करने के लिए इस्तेमाल किया गया था। कार्यशील पूंजी की आवश्यकताओं के लिए और एम/एस डीसीएचएल की व्यावसायिक आवश्यकताओं के लिए, लिए गए ऋणों को फिजूल की परियोजनाओं और डायवर्ट फंडों में इस्तेमाल किया गया, जो कि बैंकों की सहमति के बिना नई परियोजनाओं में निवेश किए गए थे और अंततः घाटे के रूप में दर्शाये गए थे। ऋण की पर्याप्त मात्रा सहायक कंपनियों को भी दी गयी, जो सहायक कंपनियाँ कोई भी वैध व्यवसाय नहीं करती थी और बिना किसी उचित लेखांकन के दो पूर्व मालिकों के मालिकाना हक में थीं। यह भी पता चला है कि आरोपी मालिकों ने एम/एस डीसीएचएल द्वारा एम/एस ओडिसी में अत्यधिक बढ़े हुए मूल्यों पर किए गए निवेश से भारी रिश्वत प्राप्त की थी। मालिकों ने सार्वजनिक स्वामित्व वाली कंपनी एम/एस डीसीएचएल को अपनी मालकीयत की तरह चलाया, जिससे व्यापारिक प्रशासन के सभी मानदंड ध्वस्त हो गए। विभिन्न ट्रस्टों को कई संदिग्ध दान दिए गए थे।”

ईडी ने एक विस्तृत बयान में कहा – “पीएमएलए के तहत ईडी की जांच में यह भी पता चला है कि सीआईआरपी प्रक्रिया की शुरुआत के बावजूद, एम/एस डीसीएचएल के आरोपी मालिक और परिवार के करीबी सदस्यों ने प्रिंट मीडिया पर अप्रत्यक्ष नियंत्रण जारी रखा है और मोटे मासिक वेतन वाले पदों पर काम कर रहे हैं। ईडी ने एम/एस डीसीएचएल के नाम से पंजीकृत महंगे वाहनों को जब्त कर लिया है। प्रवर्तकों को मुख्य कंपनी के माध्यम से अपराध की छिपी हुई आय का उपयोग करके निजी संधियों के माध्यम से रियायती दरों पर गिरवी संपत्ति की फिर से खरीद करते भी पाया गया। बैंकों/ एनबीएफसी/ वित्तीय संस्थानों को हुए नुकसान की शुद्ध राशि का अनुमान 8180 करोड़ रुपये है, जिसमें न चुकाई गयी मूल ऋण राशि लगभग 3000 करोड़ रुपये शामिल है। अब तक 264.56 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति की पहचान की गई है और अनंतिम रूप से पीएमएलए के तहत संलग्न की गयी है। इस मामले में आगे की जांच जारी है।”

बैंकिंग धोखाधड़ी के मामले के अलावा, रेड्डी बंधुओं को दिल्ली पुलिस ने एक मुखबिर (व्हिसलब्लोअर) अधिकारी की हत्या के प्रयास के लिए भी पकड़ा था। डीसीएचएल दुकानों की ओडिसी श्रृंखला भी संचालित करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.