सीबीआई ने प्रणॉय रॉय, पत्नी राधिका, विक्रम चंद्रा के खिलाफ फर्जी खोल कम्पनियां बनाकर नेताओं की काली कमाई को सफेद करने के लिए एफआईआर दर्ज की।

एनडीटीवी मालिकों प्रणॉय रॉय, राधिका रॉय और सीईओ विक्रम चंद्रा पर यूपीए के कई राजनेताओं के काले धन को वैध बनाने का आरोप लगाया।

2
870
सीबीआई ने प्रणॉय रॉय, पत्नी राधिका, विक्रम चंद्रा के खिलाफ फर्जी खोल कम्पनियां बनाकर नेताओं की काली कमाई को सफेद करने के लिए एफआईआर दर्ज की।
सीबीआई ने प्रणॉय रॉय, पत्नी राधिका, विक्रम चंद्रा के खिलाफ फर्जी खोल कम्पनियां बनाकर नेताओं की काली कमाई को सफेद करने के लिए एफआईआर दर्ज की।

भ्रष्ट मीडिया फर्म नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (एनडीटीवी) पर शिकंजा कसते हुए, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मीडिया दबंग प्रणॉय रॉय, पत्नी राधिका और एनडीटीवी के पूर्व सीईओ विक्रम चंद्रा पर दुनियाभर में 30 फर्जी खोल कम्पनियां बनाकर नेताओं के काले धन को वैध बनाने का एक नया मामला दर्ज किया। 19 अगस्त, 2019 को दर्ज किए गए इस मामले में एनडीटीवी और कुछ जनता के अनजान सेवकों को भी आरोपी के रूप में नामित किया गया। वे जन सेवक जिन्होंने एनडीटीवी में पैसा लगाया, जैसा कि एफआईआर में बताया गया है, आप पूछेंगे वे कौन हैं? सूत्र बताते हैं, प्रमुख साजिशकर्ता (किंगपिन) कोई और नहीं बल्कि पूर्व वित्त मंत्री पलान्यप्पन चिदंबरम होना चाहिए, जो वर्तमान में सीबीआई की हिरासत में है।

लेख के अंत में सात-पृष्ठ की प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) प्रकाशित की गयी है। प्राथमिकी एनडीटीवी को काले धन को वैध बनाने में मदद करने में कुछ आयकर अधिकारियों की साजिश के बारे में भी बताती है। ऐसे संकेत हैं कि यह दो महिला विवादास्पद भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी होना चाहिए, जो एनडीटीवी के मामलों में मुखबिर आईआरएस अधिकारी एसके श्रीवास्तव और आयकर के अन्य शीर्ष आईआरएस अधिकारियों, जिनका इस्तेमाल चिदम्बरम द्वारा किया गया था, द्वारा उजागर किए गए थे। सूत्रों का कहना है कि इन भ्रष्ट अधिकारियों का नाम बाद में आरोप-पत्र में जोड़ा जाएगा।

एफआईआर के एक त्वरित अवलोकन से पता चलता है कि कुटिल प्रणॉय रॉय पत्रकारिता की आड़ में काले धन को वैध बनाने का काम कर रहे थे।

प्राथमिकी के अनुसार, एनडीटीवी का इस्तेमाल 2004 से 2010 तक दुनिया भर में फर्जी खोल फर्मों को बनाने के एक वाहन के रूप में इस्तेमाल करने के लिए किया गया था ताकि लोक सेवकों की अवैध कमाई को वैध बनाया जा सके। “मई 2004 से मई 2010 की अवधि के दौरान, एनडीटीवी लिमिटेड ने पूरी दुनिया में लगभग 32 सहायक कंपनियाँ बनाई, जिनमें से ज्यादातर कर आश्रयों (टैक्स हैवन्स) जैसे हॉलैंड, यूके, दुबई, मलेशिया, मॉरीशस आदि में हैं। इन कंपनियों में से अधिकांश के पास कोई व्यापारिक लेन-देन नहीं था और उन्होंने केवल विदेशों से धन लाने के लिए वित्तीय लेनदेन किए थे।
“यह आरोप लगाया जाता है कि ये लेन-देन बनावटी लेनदेन हैं और उपरोक्त धनराशि को एनडीटीवी लिमिटेड के माध्यम से अज्ञात लोक सेवकों द्वारा निवेश किया गया और बाद में जटिल लेनदेन और फर्जी खोल कंपनियों की कई परतों के माध्यम से भारत वापस लाया गया। अज्ञात लोक सेवकों के भ्रष्टाचार की जांच एनडीटीवी के माध्यम से की गई थी,” सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया है [1]

सूत्रों ने संकेत दिया कि प्रणॉय रॉय संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) के कई नेताओं की ओर से रेलवे इलेक्ट्रिकल लोकोमोटिव प्रोजेक्ट के लिए भारत में जनरल इलेक्ट्रिक (जीई) एजेंट के रूप में काम कर रहे थे और बरमूडा में नीदरलैंड की जीई की सहायक कंपनी के माध्यम से रिश्वत को भारत तक पहुँचाया। वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम ने इसे 25,000 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजना को मंजूरी दी और 300 करोड़ रुपये से अधिक को बरमूडा में जीई की सहायक कंपनी एनडीटीवी की नीदरलैंड की फर्म के माध्यम से भेजा गया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया है, एनडीटीवी ने भ्रष्ट नेताओं के काले धन को वैध बनाने के लिए एनडीटीवी इमेजिन, एनडीटीवी लाइफस्टाइल, एनडीटीवी कन्वर्जेंस, एनडीटीवी लैब्स और एनडीटीवी इमर्जिंग मार्केट्स, आदि के नाम से टीवी चैनल भी बनाये [2]

एफआईआर में यह भी बताया गया है कि कैसे भ्रष्ट चिदंबरम ने विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) का नेतृत्व करते हुए, एनडीटीवी को सितंबर 2009 तक 163 मिलियन अमेरिकी डॉलर (800 करोड़ रुपये से अधिक) से अधिक की स्वीकृति देने की संदिग्ध मंजूरी दी। नीचे दिया गया ग्राफिक देखें:
Universal Studios investment into NDTV

एफआईआर के एक त्वरित अवलोकन से पता चलता है कि कुटिल प्रणॉय रॉय पत्रकारिता की आड़ में काले धन को वैध बनाने का काम कर रहे थे।

एनडीटीवी मालिकों के खिलाफ सीबीआई की एफआईआर नीचे प्रकाशित की गई है ताकि पाठकों को पता चल सके कि कैसे मीडिया हाउसों में बदमाश पत्रकारिता की आड़ में काले धन को वैध बनाने का खेल खेल रहे हैं:

CBI FIR NDTV Dtd Aug 19, 2019 by PGurus on Scribd

संदर्भ:

[1] NDTV claimed they sold dreams. IT said: No. It is a sham transactionAug 1, 2016, PGurus.com

[2] ED issues notice to NDTV, Prannoy Roy, wife Radhika Roy and Vikram Chandra for Rs.4369 crores FEMA violations with the help of P ChidambaramOct 18, 2018, PGurus.com