आयकर छापे से भारी नकदी और ईसाई संप्रदाय के बिलीवर्स चर्च और एशिया गोस्पल के स्वयंभू प्रमुख केपी योहनन द्वारा संचालित 500 करोड़ रुपये से अधिक के हवाला कारोबार का खुलासा हुआ

ईसाई संप्रदाय के प्रमुख केपी योहानन पर आयकर के छापे, केपी देश भर में पंजीकृत लगभग 30 ट्रस्ट संचालित करते हैं, उनमें से अधिकांश केवल कागज पर ही हैं!

0
537
ईसाई संप्रदाय के प्रमुख केपी योहानन पर आयकर के छापे, केपी देश भर में पंजीकृत लगभग 30 ट्रस्ट संचालित करते हैं, उनमें से अधिकांश केवल कागज पर ही हैं!
ईसाई संप्रदाय के प्रमुख केपी योहानन पर आयकर के छापे, केपी देश भर में पंजीकृत लगभग 30 ट्रस्ट संचालित करते हैं, उनमें से अधिकांश केवल कागज पर ही हैं!

ईसाई संप्रदाय के प्रमुख केपी योहनन पर आयकर के छापे

कई राज्यों में एक राष्ट्रव्यापी छापे में, आयकर विभाग ने भारी नकदी और 500 करोड़ से अधिक की ठगी (हवाला) का खुलासा किया है, ठगी को ईसाई संप्रदाय स्वयंभू प्रमुख केपी योहानन द्वारा अंजाम दिया गया, जो बिलीवर्स चर्च और एशिया गोस्पल का संचालन कर रहे हैं। ये संगठन पिछले कुछ दशकों से धर्मांतरण के लिए भारत में लाखों डॉलर की रकम लगा रहे हैं, मूल रूप से निचली जातियों के हिंदुओं का धर्मांतरण और ये संगठन बहुत सारे आरोपों का सामना कर रहे हैं। इस केरल स्थित इंजीलवादी ने अपने स्वयं के संप्रदाय को बनाया और राजधानी के रूप में स्व-नियुक्त किया और 5 नवंबर से आयकर विभाग केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, चंडीगढ़, पंजाब और तेलंगाना में उनके कार्यालयों पर छापेमारी कर रहा है। आयकर विभाग ने पाया कि उसने 30 से अधिक ट्रस्ट बनाये और यहां तक कि कोलकाता स्थित शेल (फर्जी) फर्मों में भी ठगी करने के लिए पैसा जमा किया।

केरल के तिरुवल्ला में केपी योहानन के संगठन बिलीवर्स चर्च का मुख्यालय है। यह समूह देश भर में, कई प्रार्थना स्थल, कई स्कूल और कॉलेज, और केरल में एक मेडिकल कॉलेज एवं एक अस्पताल संचालित करता है। योहानन के चर्चों और अन्य प्रतिष्ठानों के 66 स्थानों पर छापे मारे गए, योहानन कई बड़े राजनीतिक नेताओं के साथ संबंध रखता है और सत्ता का आनंद लेता है। पिछले 30 वर्षों से, इस समूह को भारत में धर्मांतरण के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और कई यूरोपीय चर्चों से भारी धनराशि मिल रही है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा भी इस विवादास्पद इंजीलवादी के भारी धन शोधन और विदेशों से आने वाले पैसे के खेल की जांच करने की उम्मीद है।

आयकर अधिकारियों ने स्वयंभू केपी योहानन के तौर-तरीकों के बारे में बताते हुए कहा – “बिलीवर्स चर्च और गोस्पल एशिया समूह देश भर में पंजीकृत लगभग 30 ट्रस्ट संचालित करता है, और उनमें से ज्यादातर केवल कागज पर ही मौजूद हैं और बेहिसाब धन को भारत में लाने के लिए और आवास लेनदेन के लिए उपयोग किए जाते हैं। यह पाया गया है कि समूह की कार्य प्रणाली अन्य पार्टियों की मदद से खर्चों को व्यवस्थित रूप से बढ़ाकर दिखाना है, ये पार्टियाँ समूह के अधिकारियों को घरेलू हवाला चैनलों के माध्यम से बढ़ी हुई रकम नकदी के रूप में वापस कर देते हैं। इन कुछ अन्य पार्टियों को भी छानबीन की कार्रवाई में शामिल किया गया था। इस खोज से अचल संपत्ति के कई लेनदेनों का खुलासा हुआ, जिसमें बेहिसाब नकद भुगतान शामिल है।” प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा भी इस विवादास्पद इंजीलवादी के भारी धन शोधन और विदेशों से आने वाले पैसे के खेल की जांच करने की उम्मीद है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

उन्होंने कहा, “अब तक मिले साक्ष्यों से पता चलता है कि नकदी में हेरफेर सैकड़ों करोड़ रुपये में हो सकती है। तलाशी के दौरान लगभग 6 करोड़ रुपये की अज्ञात नकदी भी मिली है, जिसमें दिल्ली के प्रार्थना स्थल पर मिले 3.85 करोड़ रुपये भी शामिल हैं। पर्याप्त इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटिंग और डेटा संग्रह पाया गया है, जिसकी जांच की जा रही है। आगे की जांच जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.