बैंक कर्मचारी संघ एआईबीईए ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलफुल (जान बूझकर) डिफॉल्टरों की सूची जारी की है। 2426 मामलों की कुल रकम 1,47,350 करोड़ रुपये है

एआईबीईए ने शनिवार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 1,47,350 करोड़ रुपये के बकाया देनदार विलफुल डिफॉल्टरों की सूची जारी की!

0
749
एआईबीईए ने शनिवार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 1,47,350 करोड़ रुपये के बकाया देनदार विलफुल डिफॉल्टरों की सूची जारी की!
एआईबीईए ने शनिवार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 1,47,350 करोड़ रुपये के बकाया देनदार विलफुल डिफॉल्टरों की सूची जारी की!

भारत के सबसे बड़े बैंक कर्मचारी संघ, अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) ने शनिवार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 1,47,350 करोड़ रुपये के बकाया देनदार विलफुल डिफॉल्टरों (जान बूझकर की गयी धोखाधड़ी) की सूची जारी की। एआईबीईए ने कहा कि सार्वजनिक मंच पर विलफुल डिफॉल्टरों के इस खुलासे का उद्देश्य देश के हित में है और मांग की है कि इन डिफॉल्टरों को चुनाव लड़ने और सार्वजनिक कार्यालय में पदस्थ होने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। एक विस्तृत बयान में, एआईबीईए के महासचिव सीएच वेंकटचलम ने मांग की कि बैंकों को सभी डिफॉल्टरों के नाम प्रकाशित करने चाहिए और व्यापारिक ऋणों की वसूली के लिए कड़े कदम उठाने होंगे और विलफुल डिफॉल्ट को एक आपराधिक कृत्य के रूप में माना जाना चाहिए। एआईबीईए ने यह भी कहा कि भारतीय बैंकों में कुल जमा राशि 138 लाख करोड़ रुपये से अधिक है और आम आदमी की बचत बैंकों में सुरक्षित है

एआईबीईए ने कहा – “आज सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक बड़े पैमाने पर हर नुक्कड़ और गली में अपनी शाखाओं के साथ विकसित हो रहे हैं। आज सभी वाणिज्यिक बैंकों की कुल जमा राशि 138 लाख करोड़ रुपये से अधिक है। इस प्रकार, बैंकों में आम आदमी की बचत सुरक्षित है।” संगठन ने यह भी मांग की कि केंद्र सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को मजबूत करना चाहिए और सभी बैंकों को पर्याप्त पूंजी प्रदान करनी चाहिए।

शीर्ष 33 विलफुल डिफॉल्टरों में गीतांजलि जेम्स, किंगफिशर एयरलाइंस, रूचि सोया, रोटोमैक, स्टर्लिंग ऑयल रिसोर्सेज हैं।

एआईबीईए द्वारा जारी की गई सूची के अनुसार, 30 सितंबर, 2019 तक, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक 1,47,350 करोड़ रुपये की रकम के विलफुल डिफॉल्टरों के 2426 मामलों का सामना कर रहे हैं। यह सूची उन लोगों की है जो 5 करोड़ रुपये से अधिक के धोखेबाज हैं, अदालतों में मामलों का सामना कर रहे हैं और विलफुल डिफॉल्टरों की श्रेणी में आते हैं। एआईबीईए द्वारा जारी विस्तृत सूची सार्वजनिक समझ के हित में इस लेख के नीचे प्रकाशित की गयी है। व्यापक रूप से ज्ञात एनपीए (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स/अनर्जक परिसंपत्तियाँ) श्रेणी इस सूची का हिस्सा नहीं है। कई बड़े व्यापारिक घरानों का बकाया एनपीए के तहत आता है, जो बैंकों द्वारा सार्वजनिक संदर्भ में नहीं प्रस्तुत किया गया है। यह व्यापक रूप से माना जाता है कि एनपीए 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है और अनिल अंबानी समूह, अदानी समूह और वीडियोकॉन समूह बड़े एनपीए का सामना कर रहे हैं

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

एआईबीईए द्वारा जारी की गई विलफुल डिफॉल्टरों की सूची में सबसे अधिक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) 43,887 करोड़ रुपये, पंजाब नेशनल बैंक 22,370 करोड़ रुपये और बैंक ऑफ बड़ौदा 14,661 करोड़ रुपये की बकाया राशि लेनदारी से जूझ रहे हैं। कुल 2426 मामलों में से, इन तीन बैंकों में विलफुल डिफॉल्टरों के 1365 मामले हैं। इस श्रेणी के सबसे बड़े 33 डिफॉल्टरों (500 करोड़ रुपये या उससे अधिक) पर कुल बकाया 32,737 करोड़ रुपये है। शीर्ष 33 विलफुल डिफॉल्टरों में गीतांजलि जेम्स, किंगफिशर एयरलाइंस, रूचि सोया, रोटोमैक, स्टर्लिंग ऑयल रिसोर्सेज हैं

एआईबीईए द्वारा जारी विलफुल डिफॉल्टरों की सूची और विस्तृत प्रेस स्टेटमेंट (बयान) इस लेख के नीचे प्रकाशित की गई है:

AIBEA Wilful Defaulters List July 18, 2020 by PGurus on Scribd

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.