अर्नब फैसला – सर्वोच्च न्यायालय ने राज्य द्वारा किये जाने वाले उत्पीड़न के खिलाफ स्वतंत्रता और सावधानियों के महत्व पर प्रकाश डाला।

अर्नब की याचिका में सर्वोच्च न्यायालय ने एमवीए सरकार द्वारा की गयी अर्नब गोस्वामी की अत्याचारपूर्ण गिरफ्तारी के बारे में चिंता जताई, गिरफ्तारी आत्महत्या के लिए उकसाने के दो साल पुराने मामले में की गयी थी!

0
681
अर्नब की याचिका में सर्वोच्च न्यायालय ने एमवीए सरकार द्वारा की गयी अर्नब गोस्वामी की अत्याचारपूर्ण गिरफ्तारी के बारे में चिंता जताई, गिरफ्तारी आत्महत्या के लिए उकसाने के दो साल पुराने मामले में की गयी थी!
अर्नब की याचिका में सर्वोच्च न्यायालय ने एमवीए सरकार द्वारा की गयी अर्नब गोस्वामी की अत्याचारपूर्ण गिरफ्तारी के बारे में चिंता जताई, गिरफ्तारी आत्महत्या के लिए उकसाने के दो साल पुराने मामले में की गयी थी!

आपराधिक कानून किसी नागरिक के चयनात्मक उत्पीड़न के लिए एक हथियार न बन जाए!

शुक्रवार को एक ऐतिहासिक फैसले में, रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी की जमानत मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने तीखी टिप्पणी की कि राज्य द्वारा द्वेषपूर्ण रूप से लक्षित नागरिकों की स्वतंत्रता के मामलों में, अदालतों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि राज्य “आपराधिक कानून का इस्तेमाल एक उपकरण के रूप में किसी नागरिक के उत्पीड़न या उनकी स्वतंत्रता को खतरे में डालने” के लिए न करे। जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ और इंदिरा बनर्जी द्वारा पारित किए गए 55 पन्नों के फैसले में कई जगह दोहराया गया कि बॉम्बे हाईकोर्ट (उच्च न्यायालय) ने अर्नब की याचिका को खारिज करके गलती की और शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार द्वारा, आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में, अर्नब गोस्वामी की अत्याचार पूर्ण गिरफ्तारी के प्रति गहरी चिंता व्यक्त की गयी।

अर्नब की गिरफ्तारी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए, सर्वोच्च न्यायालय ने कई क्षेत्रों में पाया कि अपने टीवी कार्यक्रमों के माध्यम से सरकार के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए विख्यात टेलीविजन एंकर को मूल स्वतंत्रता के अधिकार से वंचित किया गया था। शीर्ष न्यायालय ने बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश में त्रुटि की ओर इशारा करते हुए कहा – “धारा 482 के तहत अपना कार्य करने में अपनी विफलता के परिणामस्वरूप उच्च न्यायालय ने जमानत के लिए अपीलार्थी के आवेदन पर विचार करने के लिए अनुच्छेद 226 के तहत अपने अधिकार क्षेत्र का उपयोग करने से खुद को अक्षम कर लिया। अनुच्छेद 226 के तहत इस तरह के एक आवेदन पर विचार करने में उच्च न्यायालय को प्रत्येक मामले के तथ्यों के आधार पर अपनी शक्तियों का उपयोग करने में सचेत होना चाहिए। हालांकि, उच्च न्यायालय को अपनी शक्ति का उपयोग करने से खुद को रोकना नहीं चाहिए, जब किसी नागरिक को उसकी व्यक्तिगत स्वतंत्रता से सत्ता की शक्ति द्वारा मनमाने ढंग से वंचित किया गया हो।”

शीर्ष अदालत ने एक व्यक्ति की स्वतंत्रता के बारे में दोहराते हुए कहा: “अदालतों को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि आपराधिक कानून के उचित प्रवर्तन में बाधा न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए सार्वजनिक हित की रक्षा की आवश्यकता है।

फैसले में कहा गया – “इस न्यायालय के दरवाजे एक ऐसे नागरिक के लिए बंद नहीं किए जा सकते हैं, जो प्रथम दृष्टया यह साबित करने में सक्षम हैं कि आपराधिक कानून की शक्ति का उपयोग करने के लिए राज्य के संसाधनों को हथियार बनाया जा रहा है। हमारी अदालतों को यह सुनिश्चित करना होगा कि वे नागरिकों को स्वतंत्रता से वंचित होने के खिलाफ रक्षा हेतु प्राथमिक उपाय बने रहें। एक दिन के लिए भी स्वतंत्रता का अभाव बहुत अधिक है। हमें हमेशा अपने निर्णयों के गहरे प्रणालीगत निहितार्थ के प्रति सचेत रहना चाहिए।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

शीर्ष अदालत ने एक व्यक्ति की स्वतंत्रता के बारे में दोहराते हुए कहा: “अदालतों को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि आपराधिक कानून के उचित प्रवर्तन में बाधा न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए सार्वजनिक हित की रक्षा की आवश्यकता है। अपराध की निष्पक्ष जांच इस दिशा में एक सहायता होगी, यह पूरे तंत्र की अदालतों, जिला न्यायपालिका, उच्च न्यायालय, सर्वोच्च न्यायालय का कर्तव्य है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि आपराधिक कानून नागरिकों के चयनात्मक उत्पीड़न के लिए एक हथियार न बन जाए।

“न्यायालयों को इस तंत्र के दोनों सिरों पर सक्रिय रहना चाहिए – उन्हें एक ओर आपराधिक कानून के उचित प्रवर्तन और दूसरी ओर आवश्यकता को सुनिश्चित करने की आवश्यकता है, यह सुनिश्चित किया जाए कि कानून लक्षित उत्पीड़न के लिए एक बहाना नहीं बन जाए। मानव युग में स्वतंत्रता उतनी ही क्षुद्र है जितना क्षुद्र शब्द। स्वतंत्रता तब बचती है, जब देश के नागरिक सतर्क रहते हैं, मीडिया में शोर होता है और न्यायालयों के गलियारे में कानून के (द्वारा नहीं) नियम का पालन होता है। फिर भी, बहुत बार स्वतंत्रता हताहत होती है जब इन घटकों में से एक को वांछित पाया जाता है।”

फैसले में आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में महाराष्ट्र पुलिस द्वारा दर्ज की गई एफआईआर पर तीखी टिप्पणी की गयी। शीर्ष अदालत ने अर्नब के खिलाफ प्रथम दृष्टया मामले पर सवाल उठाया[1]

पूर्ण 55-पृष्ठों का निर्णय और उस पर विश्लेषण पोर्टल लाइव लॉ द्वारा प्रकाशित किया गया है[2]

संदर्भ:

[1] No prima facie case against Arnab Goswami in abetment to suicide case, says Supreme CourtNov 27, 2020, Hindustan Times

[2] Deprivation For A Single Day Is A Day To Many, Courts Must Ensure That Criminal Law Does Not Become A Weapon For Selective Harassment Of Citizens: SC In Arnab Goswami JudgmentNov 27, 2020, Live Law

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.