सुनंदा का मामला – शशि थरूर के खिलाफ आरोप तय करने के लिए अदालत ने आदेश को अभी रोक कर रखा। दिल्ली पुलिस ने हत्या के आरोप को दोहराया

सुनंदा की मौत के सात साल बाद, मामला एक बार फिर विशेष अदालत में चलना शुरू हुआ!

1
523
सुनंदा की मौत के सात साल बाद, मामला एक बार फिर विशेष अदालत में चलना शुरू हुआ!
सुनंदा की मौत के सात साल बाद, मामला एक बार फिर विशेष अदालत में चलना शुरू हुआ!

सुनंदा पुष्कर की सात साल से अधिक पुरानी रहस्यमय मौत का मामला, एक विशेष अदालत में फिर से चल पडा!

तीन साल की लंबी बहस और जवाबी दलीलों के बाद, दिल्ली की एक विशेष अदालत ने सोमवार को कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की सात साल से अधिक पुरानी रहस्यमय मौत के मामले में आरोप तय करने के आदेश अभी रोक कर रखा है। थरूर और दिल्ली पुलिस दोनों को सुनने के बाद, विशेष न्यायाधीश गीतांजलि गोयल ने 29 अप्रैल को आदेश के लिए मामले को सूचीबद्ध किया। यदि तब तक आदेश तैयार नहीं होता है, तो पास की एक तारीख दे दी जाएगी, उन्होंने कहा।

दिल्ली पुलिस (डीपी) के विशेष लोक अभियोजक अतुल श्रीवास्तव ने शशि थरूर पर हत्या के आरोपों को दोहराया और सुनंदा के शरीर में नींद की गोली अल्प्राजोलम इंजेक्ट करने की संभावना को इंगित किया। 2018 के अंत तक, दिल्ली पुलिस ने थरूर पर धारा 498ए (क्रूरता) और 306 (आत्महत्या के लिए उकसाना) के तहत आरोप लगाये थे। बाद में, नवंबर 2019 में बहस के दौरान, डीपी ने भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या) के तहत मुकदमा चलाया।

दूसरी ओर, शशि थरूर के वकील विकास पाहवा ने दोहराया कि सुनंदा की मौत के कारणों पर कोई निश्चित राय नहीं है।

सुनंदा 17 जनवरी, 2014 को नई दिल्ली के होटल लीला में मृत पाई गई थीं, यह घटना सुनंदा द्वारा शशि थरूर से जुड़े आईपीएल क्रिकेट जोड़-तोड़ को उजागर करने के लिए कुछ मीडियाकर्मियों को कॉल करने और इसकी घोषणा करने के कुछ घंटों के भीतर ही हुई। उस समय थरूर जो कि सुनंदा के साथ झगड़ा कर रहे थे, एक केंद्रीय मंत्री थे और दिल्ली पुलिस की पहली जांच टीम ने इस मामले को दबाया, हालांकि एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ने स्पष्ट रूप से सुनंदा के शरीर में जहरीले पदार्थों और अल्प्राज़ोलम की काफी अधिक खुराकों की मौजूदगी की पुष्टि की थी। बाद में, जनवरी 2015 में, दिल्ली पुलिस ने शशि थरूर का नाम लिए बिना हत्या के आरोपों की एफआईआर दर्ज की। हालांकि थरूर से दिल्ली पुलिस ने तीन बार से अधिक पूछताछ की, लेकिन डीपी ने उन्हें आगे की पूछताछ के लिए गिरफ्तार करने से बचना पसंद किया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

2018 में, दिल्ली उच्च न्यायालय में केस हारने वाले भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी सर्वोच्च न्यायालय तक गए। सर्वोच्च न्यायालय से नोटिस मिलने के बाद, कुछ ही दिनों के भीतर दिल्ली पुलिस ने शशि थरूर के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने और घरेलू हिंसा का मुकदमा दर्ज करते हुए सुनवाई अदालत (ट्रायल कोर्ट) में आरोप पत्र दायर किया।

सोमवार को अभियोजन पक्ष के अनुसार, सुनंदा पूरी तरह से स्वस्थ थीं और उनकी मृत्यु का कारण अल्प्राजोलम की खुराक थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार, सुनंदा, शशि थरूर के कथित विवाहेतर संबंधों को लेकर कई विवादों के कारण थरूर द्वारा मानसिक क्रूरता का शिकार हुई थीं। वकील श्रीवास्तव ने सोमवार को पति-पत्नी की बातचीत के माध्यम से अदालत को बताया कि थरूर ने पत्नी को उनकी “उपेक्षा करके” “मानसिक तनाव” दिया। उन्होंने आगे बताया कि सुनंदा ने शशि थरूर पर “उनके विश्वास को तोड़ने” और “उन्हें छोड़ने” का आरोप लगाया था।

जहां तक आईपीसी की धारा 302 के तहत वैकल्पिक आरोप लगाने का सवाल है, दिल्ली पुलिस के वकील ने कहा कि चिकित्सा विशेषज्ञों ने पुष्कर को अल्प्राजोलम के इंजेक्शन लगाए जाने की संभावना से “इंकार नहीं किया”, हालाँकि यह मौखिक रूप से कहा गया था।

जब श्रीवास्तव ने तर्क दिया कि अभियोजन “अपना सर्वश्रेष्ठ दे रहा था” और “जब व्यक्ति का परीक्षण होगा” तब सच्चाई सामने आयेगी, न्यायाधीश गीतांजलि गोयल ने सवाल किया कि क्या अभियोजन “यदि, हो सकता है, लेकिन” पर आधारित हो सकता है। “कुछ साबित करना होगा…वे कह रहे हैं कि इंजेक्शन लगाया गया हो सकता है। क्या अभियोजन अनुमान पर आधारित हो सकता है?” उन्होंने पूछा। न्यायालय ने यह भी नोट किया कि दवा की मात्रा या यहां तक कि इसकी थोड़ी भी मात्रा जो विषाक्तता का कारण हो सकती है या उपभोक्ता की उम्र पर इसका प्रभाव रिकॉर्ड में नहीं आया था[1]

दूसरी ओर, शशि थरूर के वकील विकास पाहवा ने दोहराया कि सुनंदा की मौत के कारणों पर कोई निश्चित राय नहीं है। पाहवा ने कहा – “अभियोजक एक राय के साथ साक्ष्य को प्रतिस्थापित नहीं कर सकता है।” उन्होंने तर्क दिया कि “इंजेक्शन सिद्धांत कल्पना का एक अनुमान था” और धारा 302 आईपीसी के तहत आरोप लगाने का आधार नहीं हो सकता है।

उन्होंने आगे तर्क दिया कि मानसिक क्रूरता का सुझाव देने के लिए सबूत “साधारण” था और यहां तक कि विवाहेतर रिश्ते का अस्तित्व धारा 306 आईपीसी के एक मामले का समर्थन करने के लिए पर्याप्त नहीं था। पाहवा ने तर्क दिया, “शादियों में उतार-चढ़ाव होते हैं, लेकिन वे बाल की खाल निकालना चाहते हैं, जब कि ऐसा कुछ भी नहीं है। यह कानूनन स्वीकार्य नहीं है।” किसी भी “गंभीर संदेह” या सामग्री की अनुपस्थिति में, थरूर के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाया जा सकता है, यह तर्क दिया गया।

संदर्भ:

[1] Delhi Court reserves order on framing of charges against Shashi Tharoor in Sunanda Pushkar death caseApr 12, 2021, Bar and Bench

1 COMMENT

  1. […] शशि थरूर को बुधवार को उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर की रहस्यमयी मौत के मामले में निचली […]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.