बार-बार अपमान करने वाले ट्विटर को कारण बताओ नोटिस मिला और लेह को भारत के नक्शे के हिस्से के रूप में न दिखाने के लिए पांच दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा गया!

जैसा कि ट्विटर ने चीन के हिस्से के रूप में लेह को गलत तरीके से दिखाना जारी रखा है, भारत का कानूनी रुख - गलती सुधारो या जेल जाओ!

1
731
जैसा कि ट्विटर ने चीन के हिस्से के रूप में लेह को गलत तरीके से दिखाना जारी रखा है, भारत का कानूनी रुख - गलती सुधारो या जेल जाओ!
जैसा कि ट्विटर ने चीन के हिस्से के रूप में लेह को गलत तरीके से दिखाना जारी रखा है, भारत का कानूनी रुख - गलती सुधारो या जेल जाओ!

भटकी हुई सोशल मीडिया कंपनी ट्विटर भारत में कार्यवाही का सामना कर रही है। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (आईटी) ने लेह को लद्दाख के हिस्से के रूप में न दिखाने के लिए ट्विटर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। 9 नवंबर को जारी नोटिस में ट्विटर को पांच कार्यदिवसों के भीतर यह बताने के लिए कहा गया कि भारत की क्षेत्रीय अखंडता का अपमान करने के लिए उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई क्यों न शुरू की जाए। इससे पहले ट्विटर को लेह को चीन के हिस्से के रूप में दिखाने के लिए संसदीय समिति से समन का सामना करना पड़ा था और ट्विटर इंडिया के प्रतिनिधियों ने माफी भी मांगी थी। आईटी सचिव ने इस मामले पर ट्विटर के प्रमुख जैक डोरसी को पत्र भी लिखा।

मीनाक्षी लेखी की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति ने ट्विटर के प्रतिनिधियों को सात साल की जेल का सामना करने की चेतावनी दी थी और अमेरिका स्थित सोशल मीडिया कंपनी द्वारा लिखित माफीनामा पेश किया गया था। कई सांसदों ने ट्विटर को चेतावनी दी थी कि यदि वे भारत में काम करना चाहते हैं तो यहाँ के नियमों का पालन करना होगा।[1] ट्विटर ने अपना बचाव करते हुए माफी मांगी थी और अब उसने लेह को नक्शे और भू-स्थिति में भारत के हिस्से के रूप में न दिखाकर भारत को अपमानित किया है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

मंत्रालय ने अपने नोटिस में ट्विटर को पांच कार्यदिवसों के भीतर यह बताने का निर्देश दिया है कि ट्विटर और उसके प्रतिनिधियों के खिलाफ गलत नक्शा दिखाकर भारत की क्षेत्रीय अखंडता का अपमान करने के लिए कानूनी कार्रवाई क्यों नहीं शुरू की जानी चाहिए। भारत में मानचित्र को गलत तरीके से पेश करना या प्रकाशित करना एक गंभीर अपराध है, और इसकी सजा सात साल की जेल है।

मंत्रालय ने ट्विटर के वैश्विक उपाध्यक्ष (वाइस प्रेसिडेंट) को भेजे गए अपने नोटिस में उल्लेख किया कि जम्मू और कश्मीर के हिस्से के रूप में लेह को दिखाना भारत की संप्रभु संसद की अवज्ञा करने के लिए ट्विटर द्वारा एक जानबूझकर किया गया प्रयास है, संसद ने लद्दाख को भारत का एक संघ शासक क्षेत्र घोषित किया है और लेह में इसका मुख्यालय है।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा – “यहां यह बताना उचित है कि पहले ट्विटर ने लेह को पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के हिस्से के रूप में दिखाया था, जिसके बाद इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के सचिव ने ट्विटर के सीईओ जैक डोरसी को पत्र लिखकर इस पर आपत्ति जताई थी। उसकी प्रतिक्रिया में ट्विटर ने पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना को हटा दिया था। लेकिन ट्विटर ने लेह को केंद्रशासित प्रदेश लद्दाख के हिस्से के रूप में दिखाने के लिए अभी तक नक्शे को सही नहीं किया है। यह अभी भी लेह को जम्मू और कश्मीर के हिस्से के रूप में दिखा रहा है, जो भारत सरकार की आधिकारिक स्थिति के खिलाफ है।”

संदर्भ:

[1] भारतीय सांसदों के क्रोध का सामना करते हुए, ट्विटर ने लेह, जम्मू और कश्मीर को गलत तरीके से चीन के हिस्से के रूप में दिखाने हेतु संसदीय समिति से माफी मांगीOct 30, 2020, hindi.pgurus.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.