पेगासस के नए खुलासे में न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा का पुराना फोन नंबर, सर्वोच्च न्यायालय के रजिस्ट्री अधिकारियों के नंबर, भगोड़ों के वकील आदि शामिल हैं।

पेगासस टैपिंग गाथा से और खुलासे सामने आये!

0
931
पेगासस टैपिंग गाथा से और खुलासे सामने आये!
पेगासस टैपिंग गाथा से और खुलासे सामने आये!

पेगासस कांड – सर्वोच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार, जज अरुण मिश्रा के पुराने नंबर, भगोड़ों के वकील नवीनतम सूची में शामिल हैं

सर्वोच्च न्यायालय में पेगासस फोन टैपिंग मामले की सुनवाई के एक दिन पहले, बुधवार को फोन नंबरों की एक नई सूची जारी की गई, जिसमें सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश अरुण मिश्रा का पुराना फोन नम्बर, सर्वोच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार और कई बड़े नामों के वकीलों के फोन नंबर शामिल हैं। ‘द वायर’ पोर्टल द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, जो वर्तमान में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष हैं, ने कहा कि यह नंबर 2013-2014 के दौरान उनके पास था और वह अब इस नंबर का उपयोग नहीं कर रहे हैं।

“जिस दिन द वायर ने अपनी रिपोर्ट्स को चलाना शुरू किया, उस दिन एक वर्तमान जज से जुड़े नंबर की सूची में उपस्थिति का उल्लेख किया गया था। अब रिकॉर्ड पर उनसे बात करने के बाद, हम पुष्टि कर सकते हैं कि राजस्थान का एक मोबाइल नंबर पूर्व में न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा के नाम पर पंजीकृत था, जिसे 2019 में डेटाबेस में जोड़ा गया था, न्यायमूर्ति सितंबर 2020 में सर्वोच्च न्यायालय से सेवानिवृत्त हो गए थे। बीएसएनएल के रिकॉर्ड तक पहुंच रखने वाले एक गोपनीय सूत्र ने कहा कि यह नंबर 18 सितंबर, 2010 से 19 सितंबर, 2018 तक न्यायमूर्ति मिश्रा के नाम पर दर्ज था।[1]

पेगासस टैपिंग लिस्ट में क्रिश्चियन मिशेल और नीरव मोदी के वकील और मेहुल चोकसी के वकील का फोन भी शामिल था।

“चूंकि पेगासस की वास्तविक उपयोगिता यह है कि यह आधिकारिक एजेंसी को एन्क्रिप्टेड संचार तक पहुंच प्रदान करता है जो सामान्य पहुँच में नहीं होता है, द वायर ने अपनी सत्यापन प्रक्रिया के हिस्से के रूप में सेवानिवृत्त न्यायाधीश से पूछा कि क्या नम्बर छोड़ने के बाद भी उन्होंने व्हाट्सएप या अन्य मैसेजिंग ऐप का उपयोग अपने फोन पर जारी रखा है। उन्होंने जवाब दिया – ”+9194XXXXXXX नंबर 2013-2014 से मेरे पास नहीं है। मैं इस नंबर का उपयोग नहीं करता।” पोर्टल द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सर्वोच्च न्यायालय रजिस्ट्री के महत्वपूर्ण रिट सेक्शन में काम करने वाले एनके गांधी और टीआई राजपूत के फोन नंबर भी पेगासस स्पाइवेयर द्वारा जासूसी सूची में शामिल थे। रिलायंस एडीएजी समूह के अनिल अंबानी के खिलाफ अदालत की अवमानना के एक मामले में “एक आदेश के साथ छेड़छाड़ करने” के लिए तत्कालीन सीजेआई रंजन गोगोई द्वारा अदालत के दो जूनियर कर्मचारियों, तपन कुमार चक्रवर्ती और मानव शर्मा को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था।

पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी के जूनियर वकील एम थंगथुराई का फोन नंबर भी टैपिंग के निशाने पर था। थंगथुराई और रोहतगी दोनों ने द वायर द्वारा नंबर शामिल किए जाने के बारे में सूचित किए जाने पर आश्चर्य व्यक्त किया। रिपोर्ट में कहा गया है – “थांगथुरई, जिन्होंने कई वर्षों तक रोहतगी के साथ काम किया है, ने कहा कि उनका टेलीफोन नंबर उनके बॉस के नाम के तहत कई जगहों जैसे बैंक और अन्य जगहों पर सूचीबद्ध है, ताकि वरिष्ठ अधिवक्ता न्यायालय में होते हुए या अन्य किसी काम में व्यस्त होने पर “नियमित” कॉल, ओटीपी आदि से परेशान न हों। रोहतगी ने पुष्टि की कि यह वास्तव में कार्यशैली है।”

रोहतगी के एजी के रूप में पद छोड़ने के दो साल बाद यानी 2019 में उनका नम्बर जोड़ा गया था। इस अवधि के दौरान, रोहतगी ने कुछ प्रमुख मामलों में ‘सरकार’ का प्रतिनिधित्व करना जारी रखा, लेकिन कुछ मुद्दों पर सरकार से स्वतंत्र स्थिति लेना भी शुरू कर दिया था।

पेगासस टैपिंग लिस्ट में क्रिश्चियन मिशेल और नीरव मोदी के वकील और मुहुल चोकसी के वकील का फोन नम्बर भी शामिल था। टैपिंग लिस्ट में पाए गए इन आरोपियों के वकील अल्जो पी जोसेफ और विजय अग्रवाल थे।

जब पेगासस प्रोजेक्ट मीडिया संघ (कंसोर्टियम) ने पिछले महीने अपनी रिपोर्ट्स को प्रकाशित करने से पहले प्रधान मंत्री कार्यालय को पत्र लिखा, तो इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने इस बात से इनकार करते हुए जवाब दिया कि उसने किसी पर अवैध रूप से जासूसी नहीं की है। मंत्रालय ने कहा – “विशिष्ट लोगों पर सरकारी निगरानी के आरोपों का कोई ठोस आधार या इससे जुड़ी कोई सच्चाई नहीं है।”

संदर्भ:

[1] Supreme Court Registrars, Lawyers of Key Clients and Old Number of an SC Judge on Pegasus RadarAug 04, 2021, The Wire

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.