संस्कारविहीन होता आईआईटी-एम

पूर्व छात्रों, जिनके साथ आईआईटी-मद्रास के बारे में पीगुरूज के साथ विचारों का एक स्वच्छंद आदान-प्रदान हुआ, का विचार था कि संस्था का पतन एकीकृत मानविकी पाठ्यक्रमों के शुभारंभ के साथ शुरू हुआ।

0
611
पूर्व छात्रों, जिनके साथ आईआईटी-मद्रास के बारे में पीगुरूज के साथ विचारों का एक स्वच्छंद आदान-प्रदान हुआ, का विचार था कि संस्था का पतन एकीकृत मानविकी पाठ्यक्रमों के शुभारंभ के साथ शुरू हुआ।
पूर्व छात्रों, जिनके साथ आईआईटी-मद्रास के बारे में पीगुरूज के साथ विचारों का एक स्वच्छंद आदान-प्रदान हुआ, का विचार था कि संस्था का पतन एकीकृत मानविकी पाठ्यक्रमों के शुभारंभ के साथ शुरू हुआ।
  • जब से इन तत्वों के लिए आईआईटी-एम कैंपस दरवाजे खोले गए, तभी से संस्थान की गुणवत्ता और मानक में भारी गिरावट आई

पुराने लोग और पुराने छात्र भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-मद्रास (आईआईटी-एम) में बिताए गए समय को याद करते हुए, उन्हें जीवन के सबसे बेहतरीन दिन मानते हैं। एक प्रमुख आईआईटीयन ने देश के एक समय के प्रमुख तकनीकी संस्थान के मामलों के बारे में पीगुरूज को बताया, “इस संस्था के साथ सम्बंधित होना शान और कुलीनता की भावना थी। यह एक विशिष्ट गुरुकुल प्रणाली थी, लेकिन अब नहीं है।”

यदि इस प्रतिष्ठान में चल रहे संकेतों को समझें, तो आज का आईआईटी-एम, इंस्टीट्यूट फॉर इम्मोरल ट्रैफिक-मार्क्सिस्ट्स (वामपंथियों का अनैतिक प्रतिष्ठान) बन चुका है। शिक्षक संकाय, जो असीमित शैक्षणिक स्वतंत्रता का आनंद लेते थे और कभी छात्रों द्वारा सम्मानित और आदरणीय थे – आज बहुत ज्यादा डरे हुए हैं। इतना ही नहीं बल्कि मार्क्सवादी-माओवादी-मुल्ला (एमएमएम) के प्रतिशोध के डर से, उनमें से कई को अपने मोबाइल फोन के रिंग टोन को भी हटाने के लिए मजबूर होना पड़ा जो “श्री रंगनाथ …” जैसे भक्ति गीत बजाते थे।

पूर्व छात्रों, जिनके साथ आईआईटी-मद्रास के बारे में पीगुरूज के साथ विचारों का एक स्वच्छंद आदान-प्रदान हुआ, का विचार था कि संस्था का पतन एकीकृत मानविकी पाठ्यक्रमों के शुभारंभ के साथ शुरू हुआ।

2004 से, आईआईटी-एम कैंपस को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के केंद्र में बदल दिया गया है। यह आईआईटी-एम में शांतिप्रिय जैन छात्रों, जो अपने धर्म द्वारा निर्धारित धार्मिक जीवन जीना पसन्द करते हैं, पर हमलों और बर्बरता के बाद नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया । लेकिन कैंपस में छात्रों और संकाय को सबसे ज्यादा चौकाने वाली बात जो है, वह पिछले चार वर्षों के दौरान छात्रों द्वारा आत्महत्याओं की एक श्रृंखला थी, आखिरी आत्महत्या फ़ातिमा लतीफ़ नाम की एक लड़की की थी, जो नवंबर 2019 में पांच साल के एकीकृत मानविकी पाठ्यक्रम में केरल की छात्र थी।[1]

वामपंथी छात्र और पेरियारवादी (पेरियाराइट्स), जिन्होंने कैंपस में आतंक का राज फैलाया है, ने एक ब्राह्मण शिक्षक पर फातिमा की आत्महत्या का आरोप लगाया। लेकिन आईआईटी-एम कैंपस में हुए हालिया घटनाक्रम ने पूरी घटना को एक नया मोड़ दे दिया है। एक लड़की, जो खुद एक वामपंथी है, ने स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) और पेरियाराइट्स (जो लोग दिवंगत ईवी रामासामी नाइकर की जीवन शैली का अनुसरण करते हैं, जो एक अराजकतावादी और द्रविड़ आंदोलन का संस्थापक था) पर छात्राओं के यौन शोषण का आरोप लगाया है। एक फेसबुक पोस्टिंग में, (जो सोशल मीडिया से अजीब तरीके से गायब हो गया है) उस छात्रा ने फातिमा की आत्महत्या के लिए वाम-पेरियाराइट संयोजन को दोषी ठहराया।

इतना ही नहीं, एक अन्य घटना में, जिसे चेन्नई में मीडिया द्वारा छुपाया गया, लेकिन आईआईटी-एम के दो छात्र नेताओं को भी चेन्नई पुलिस ने यौन उत्पीड़न की एक छात्रा द्वारा दर्ज शिकायत के बाद गिरफ्तार किया था। हालांकि, डीन छात्र, प्रोफेसर शिव, सहित आईआईटी-एम अधिकारियों ने पूरे मामले के बारे में अनभिज्ञता व्यक्त की, कोट्टुरपुरम पुलिस ने पीगुरूज को बताया कि जस्टिन जोसेफ नाम के एक छात्र को छात्राओं से दुर्व्यवहार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

“आईआईटी से मेरी जानकारी के अनुसार, आईआईटी मद्रास से दो लोगों को यौन उत्पीड़न के मामले में निलंबित कर दिया गया। नाम – जस्टिन जोसेफ (एचएसएस विभाग – डॉ जो थॉमस कराकुट्टी का छात्र) और जयकृष्णन (मैकेनिकल विभाग – प्रोफेसर शालिग्राम तिवारी का छात्र)” एक लोकप्रिय वेब पोर्टल, मेडियाँ के सम्पादक प्रमुख आनंद टी प्रसाद ने ट्वीट किया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

जिस लड़की ने फेसबुक पर लिखा था कि फातिमा की शहादत कामातुर वामपंथी छात्र नेताओं की देन थी, उसने यह भी कहा कि यौन छेड़छाड़ के आरोप सही हैं। “यह आईआईटी मद्रास परिसर में एक नियमित प्रणाली बन गयी है,” उसने कहा।

राष्ट्र विरोधी चरित्रों और वामपंथी कार्यकर्ताओं के परिसर में प्रवेश की सुविधा के लिए मानविकी विंग का शुभारंभ किया गया।

अर्जुन संपत, जो एक हिंदू कार्यकर्ता है, उनके सामाजिक मुद्दों पर विद्वतापूर्ण भाषणों के कारण वे आईआईटी-एम में काफी प्रसिद्ध हैं, उन्होंने भी ट्विटर पर पोस्ट किया; “अंबेडकर पेरियार गुट द्वारा आईआईटी मद्रास में यौन उत्पीड़न। हमारी जानकारी के अनुसार, आईआईटी मद्रास से यौन उत्पीड़न के मामलों में दो लोगों को निलंबित कर दिया गया है। 1. जस्टिन जोसेफ (डॉ जो थॉमस कराकुट्टी के एचएसएस विभाग का छात्र) 2. जयकृष्णन (प्रोफेसर शालिग्राम तिवारी के मेकेनिकल विभाग का छात्र। यौन उत्पीड़न का मामला प्रोफेसर चेला राजन की मानविकी के छात्र द्वारा दायर किया गया था … यह वही लड़की है जिसने फेसबुक पर लिखा था कि आईआईटी-एम में सभी शिक्षक पाकिस्तान विरोधी हैं और अपने व्याख्यानों में ऐसा कहते हैं। सभी आरोपी कट्टर एपीएससी- वामपंथी-नक्सली कार्यकर्ता हैं,” अर्जुन संपत ने लिखा है।

पूर्व छात्रों, जिनके साथ आईआईटी-मद्रास के बारे में पीगुरूज के साथ विचारों का एक स्वच्छंद आदान-प्रदान हुआ, का विचार था कि संस्था का पतन एकीकृत मानविकी पाठ्यक्रमों के शुभारंभ के साथ शुरू हुआ। डॉक्टरेट के एक छात्र ने कहा, “आईआईटी परिसर में अर्थशास्त्र या विकास अध्ययन पढ़ाने की कोई संभावना या गुंजाइश नहीं है। ये पाठ्यक्रम 2004 में शुरू किए गए थे, जब तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने उस कार्यक्रम की अनुमति दी थी।”

एक अन्य पूर्व छात्र, जो एक प्रसिद्ध शैक्षणिक संस्थान का नेतृत्व कर रहे हैं, ने बताया कि मानविकी विंग को राष्ट्र विरोधी पात्रों और वामपंथी कार्यकर्ताओं के परिसर में प्रवेश की सुविधा के लिए शुरू किया गया था। “सामान्य पाठ्यक्रम में, ये एसएफआई और माओवादी तत्व कभी भी आईआईटी एम परिसर में प्रवेश प्राप्त करने में सक्षम नहीं होते। इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी के छात्र बुद्धिमान, परिश्रमी और मेहनती हैं जबकि वामपंथी और दलित कार्यकर्ताओं के पास प्रतिस्पर्धा करने के लिए दिमाग नहीं है। इन तत्वों के लिए आईआईटी-एम कैंपस के दरवाजे खुलने के बाद से संस्थान की गुणवत्ता और मानक में भारी गिरावट आई।

आईआईटी-एम कैंपस में अराजकता का राज है। निर्देशक जो शुरू में कांग्रेस सरकार (पी चिदंबरम पढ़ें) द्वारा नियुक्त किये गए थे, ने पूर्ण परिवर्तन करते हुए एक और कार्यकाल प्राप्त करने के लिए एक शहर स्थित आरएसएस विचारक से मदद मांगी प्रोफेसर ने कहा – “वह हर परिस्थिति में ढलने वाला आदमी है और नई सरकार के दिल्ली में सत्ता संभालने के बाद एक और पलटी मारने में संकोच नहीं करेगा। लेकिन अगर आप आईआईटी-मद्रास को बचाना चाहते हैं, तो एकमात्र विकल्प मानविकी कार्यक्रम को पूरी तरह से रोकना है। तमिलनाडु में कला और विज्ञान के सैकड़ों महाविद्यालय हैं, जहां इन पाठ्यक्रमों को समायोजित किया जा सकता है। आईआईटी मद्रास में इस तरह के कार्यक्रम नहीं होने चाहिए।”

संदर्भ:

[1] IIT Madras student Fathima Lateef death case: All you need to knowNovember 15, 2019, India Today

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.