सत्तोलजी: क्राइस्टचर्च से चेतावनी

क्राइस्टचर्च में यह घटना चौंकाने वाली नहीं है क्योंकि मुस्लिम समुदाय बहुत वर्षों से निष्क्रिय रहा है।

0
640
सत्तोलजी: क्राइस्टचर्च से चेतावनी
सत्तोलजी: क्राइस्टचर्च से चेतावनी

एक आतंकी घटना के कारण न्यूजीलैंड में हुए जीवन का नुकसान दुखद है। पूरी दुनिया इस घटना की निंदा कर रही है और ये सही भी है। दुनिया के सभी समाजों के सभी वर्गों ने न केवल निंदा की है बल्कि मुस्लिम समुदाय की रक्षा के लिए अपराधियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी की है। मुस्लिम समुदायों से मेरा सवाल: अब इस्लामोफ़ोब कहां है? क्या इस्लामिक देशों या इस्लामी बहुसंख्य इलाकों में ऐसा होगा अगर ऐसी घटना गैर-मुस्लिमों के खिलाफ हुई होती?

क्राइस्टचर्च की यह घटना मुस्लिम समुदाय के लिए कुछ महत्वपूर्ण सवाल खड़े करती है। दुनिया भर में मुस्लिम आतंकवादियों द्वारा गैर-मुसलमानों के खिलाफ कई घटनाएं हुई हैं। परंतु, मुस्लिम समाज के सभी वर्गों द्वारा सार्वभौमिक उपयुक्त निंदा की कमी रही है। गैर-मुस्लिमों के खिलाफ किए गए समान अपराधों के खिलाफ मुस्लिम देशों द्वारा कार्रवाई भी नहीं की गई है। आपराधिक आतंकवादी संगठन उनके राज्यों द्वारा संरक्षित हैं। किसी भी तरह से या किसी भी कारण से हिंसा के किसी भी कार्य का समर्थन करना चाहे वह भौतिक या वैचारिक हो, समाज के हितों के लिए हानिकारक है।

आइए पिछली कुछ घटनाओं और उस पर मुस्लिम प्रतिक्रिया देखे।

1. कश्मीरी हिंदुओं के खिलाफ कश्मीर घाटी में हिंसा: अधिकांश कश्मीरी मुसलमानों ने सार्वजनिक रूप से इसे स्वीकार भी नहीं किया है क्योंकि उनका मानना ​​है कि कश्मीरी हिंदुओं को उनके अल्पसंख्यक होने के कारण अधिकार नहीं है। यह सीधे तौर पर अकर्मण्यता के रूप में देखा जाता है।

2. इजरायल के खिलाफ फिलिस्तीन द्वारा हिंसा के कार्य: एक भी मुस्लिम देश उस हिंसा के खिलाफ कभी विरोध नहीं करता क्योंकि उनका मानना ​​है कि इजरायल को मौजूद होने का कोई अधिकार नहीं है। गैर-इस्लामी देशों में पैदा हुए मुसलमानों को इजरायल से नफरत करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। क्यों?

3. यूरोप में मुस्लिम प्रवासियों द्वारा हिंसा के कार्य: किसी भी मुस्लिम संगठन द्वारा बड़े पैमाने पर निंदा नहीं की जाती है। वास्तव में, वे जर्मनी में अपराधियों को बचाते हुए पाए गए हैं।

4. हिंसा के लिए अभियान: सच्चे दिल से कई मुस्लिम प्रचारक मूर्तिपूजा के खिलाफ नफरत फैलाते हैं क्योंकि वे इसे अपना इस्लामिक कर्तव्य मानते हैं। उनका अभियान सीधे तौर पर हिंदुओं, बौद्धों, जैनियों, ईसाइयों और दुनिया के अन्य समुदायों को कष्ट पहुंचाता है, जिनकी धार्मिक पूजा मूर्तियों के माध्यम से होती है। इस्लामी आक्रमणकारियों द्वारा भारत में 40000 मंदिरों को ध्वस्त कर दिया गया था। कई इस्लामिक देशों में, अभी भी, वह अभियान चल रहा है। किसी भी मुस्लिम संगठन द्वारा कोई सार्वभौमिक निंदा नहीं की गई।

5. राजनीतिक उद्देश्य: कश्मीर आत्मनिर्णय के अधिकार की आड़ में बड़ी चतुराई से छिपे वैचारिक आतंकवाद का एक बढ़िया उदाहरण है। दुनिया यह नहीं जानती है कि केवल 1% कश्मीरी मुस्लिम आबादी को हथियारों और आतंक प्रशिक्षण द्वारा पाकिस्तान से समर्थन मिलता है। वह 1% शेष 99% आबादी को आतंकित कर रहा है। इसी तरह, फिलिस्तीनी मुद्दा इजरायल के लिए नफरत से पैदा हुआ एक राजनीतिक मुद्दा है। अधिकांश मुस्लिम राजनीतिक नेताएं जानबूझकर उन्हें अपने व्यक्तिगत लाभों के लिए हल नहीं करते। उनके अधिकांश नेता इस्लामिक राजनीतिक संघर्ष के नाम पर अत्यधिक समृद्ध होते हैं। कश्मीर में, लगभग 200 कश्मीरी मुस्लिम परिवार राज्य के अधिकांश धन को नियंत्रित करते हैं, जबकि वे केवल 1% मुस्लिम आबादी का  प्रतिनिधित्व करते हैं। फिलिस्तीन ने अपने सभी इस्लामी और संयुक्त राष्ट्र के दान से कुछ नेताओं को करोड़पति बनते देखा है। एक भी मुस्लिम संगठन ईमानदारी से अपनी गलतियों को स्वीकार नहीं करता है।

6. भूमि अतिक्रमण: मुस्लिम समुदायों को जनसांख्यिकी के नाम पर भूमि का अतिक्रमण करते हुए पाया गया है। इसलिए किसी भी क्षेत्र में, जब वे बहुसंख्यक बन जाते हैं, वे मूल आबादी को विस्थापित करके उस क्षेत्र को अपना बताते हैं। गैर-मुस्लिम उस क्षेत्र में सभी अधिकार खो देते हैं। किसी भी मुस्लिम समुदाय के नेता या संगठन ने इसकी निंदा नहीं की है।

7. लोकतांत्रिक समाजों में नकली अभियान: इस्लामोफोबिया प्रिंट और सोशल मीडिया में मुस्लिम संगठनों द्वारा चलाया जाने वाला अभियान मात्र है, न कि वास्तविक घटना। अधिकांश हिंसक कृत्यों को इस्लामोफोबिया के नाम पर समर्थन दिया जाता है। स्पष्ट रूप से निहित मुस्लिम संगठनों द्वारा प्रायोजित होने की वजह से उदारवादी आंदोलनों द्वारा इस्लामोफोब का बहुत सफलतापूर्वक स्वीकारा गया है। एक भी मुस्लिम संगठन ने इसकी निंदा नहीं की है।

8. तकिय्या: झूठ बोलने के लाइसेंस को मुस्लिम समुदाय के संगठनों द्वारा बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया गया है ताकि उनके राजनीतिक कथनों की रक्षा की जा सके। उदाहरण के लिए, भले ही दुनिया भर में, मुसलमानों के लिए सबसे बड़ा खतरा खुद मुसलमान ही हैं। चाहे शिया के खिलाफ सुन्नी हो या सुन्नी के खिलाफ शिया, लेकिन अन्याय का कारण गैर-मुस्लिमों या कुछ अन्य राजनीतिक कथनों को ठहराया जाता है। तारेक फ़तह जैसे अधिकांश तार्किक मुस्लिम पत्रकारों को स्वयं मुसलमानों द्वारा नियमित रूप से धमकी दी जाती है। प्रमुख पत्रकारों में से एक को हाल ही में मार दिया गया। मुस्लिम समुदायों को अब गंभीरता से आत्मनिरीक्षण करना चाहिए और स्पष्टीकरण देना चाहिए। गैर-मुस्लिम समुदाय उनसे अधिक सवाल करेंगे।

9. जनसांख्यिकी तोड़फोड़: अधिकांश मुस्लिम संगठन गैर-मुस्लिम महिलाओं के साथ शादी करने वाले मुस्लिम पुरुषों जैसी अवधारणाओं को बढ़ावा देते हैं। लेकिन मुस्लिम महिलाओं को बाहर शादी करने की अनुमति नहीं देते। इस अवधारणा का उपयोग भारत जैसे देशों में होता है जहाँ लव-जिहाद एक प्रायोजित अभियान है। अन्य देशों में भी मूळ निवासियों के खिलाफ इसी तरह के अभियान की न केवल निंदा की गई है लेकिन ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए समुदाय द्वारा पूरी तरह से कार्रवाई का अभाव है।

10. धर्मदूतीय कानून: इस्लाम में आज नास्तिकों की सबसे बड़ी संख्या है, लेकिन सबसे तेजी से बढ़ते धर्म के उनके नकली दावों को अक्सर उनकी घटती संख्या को छिपाने के लिए उपयोग किया जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आमतौर पर इस्लाम धर्म में शामिल होने का रास्ता तो है लेकिन बाहर निकलने का कोई रास्ता नहीं है। धर्मदूतीय कानून उन्हें अपनी स्थिति का खुलकर वर्णन करने से रोकते हैं। मुस्लिम समुदायों को इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण देना चाहिए।

11. आत्मसात्करण का अभाव: अधिकांश मुस्लिम संगठन अपने अनुयायियों को स्थानीय आबादी के साथ न घुलने-मिलने का अभियान चलाते हैं। उनके अभियान के परिणामस्वरूप इस्लामी समुदायों का एक बड़ा समूह धर्मनिरपेक्ष समाजों में रहते हुए भी अपनी अलग सांप्रदायिक पहचान बनाए हुए है। अक्सर दूसरे लोग उन्हें समझ नहीं पाते। चतुर मुस्लिम संगठनों द्वारा इसे फिर से इस्लामोफोब बताया जाता है।

12. मीडिया: मुस्लिम संगठनों ने मुख्यधारा के निवासियों द्वारा किसी भी प्रतिक्रिया को रोकने के लिए बहुत चालाकी से उदार मीडिया का उपयोग करके वामपंथी अभियान निर्माण किए है। इससे इस्लामिक उद्देश्यों को लेकर भारी संदेह पैदा हो गया है।

13. इस्लामिक देश: कोई भी इस्लामिक देश गैर-मुस्लिमों को खुले तौर पर अपना धर्म निभाने की अनुमति नहीं देता है। इसे सभी ने देखा है, और उनके देशों और समुदायों को अन्य धर्मों के लिए सार्वजानिक बनाने की मांग बढ़ रही है।

14. ऐतिहासिक उत्पीड़न: इस्लामी इतिहास इस्लाम में काफिरों या गैर-विश्वासियों के खिलाफ अभियानों की बात करता है। वह इतिहास उनके क्रूर इतिहास की एक सख्त अनुस्मारक है। वह दाग बना रहेगा, लेकिन इस्लामिक समुदाय के नेताओं द्वारा एक वास्तविक ‘क्षमा’ द्वारा हटाया जा सकता है।

15. ओआयसी – इस्लामिक देशों का संगठन: ओआयसी ने मुस्लिम समुदायों द्वारा हिंसा के कृत्यों की निंदा शायद ही कभी की है। कश्मीर, फिलिस्तीन, म्यांमार और अन्य सभी क्षेत्रों से लेकर, उन्होंने कभी भी वास्तविक मुद्दों का निष्पक्ष रूप से आत्मनिरीक्षण नहीं किया है। उन्होंने हमेशा उनकी निष्क्रियता के लिए दूसरों को दोषी ठहराया है।

16. हिंसक प्रवृति: गैर-मुस्लिमों के साथ कोई भी राजनीतिक विवाद सशस्त्र संघर्ष छेड़ने का कारण बन जाता है। कोई अन्य गैर-मुस्लिम समुदाय ऐसा क्यों नहीं करता है? किसी भी संघर्ष में, एक पक्ष हमेशा एक मुस्लिम समुदाय होती है। बौद्धों के विरुद्ध मुसलमान, ईसाईयों के विरुद्ध मुसलमान, यज़ीदी के विरुद्ध मुसलमान, हिंदुओं के विरुद्ध मुसलमान, यहूदियों के विरुद्ध मुसलमान इत्यादि। कभी-कभी दोनों पक्ष मुस्लिम भी होते हैं, जैसे शिया बनाम सुन्नी, सुन्नी बनाम अहमदिया, सुन्नी बनाम ड्रूज इत्यादि।

17. अधिकार: मुस्लिम समुदाय धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र-राज्यों में स्थानीय आबादी की तुलना में ज्यादा अधिकार मांगते हैं। जब वे अल्पसंख्यक होते हैं, तो वे विशेष उपचार की मांग करते हैं परंतु अपनी भूमि में  गैर-मुस्लिमों को इस तरह के अधिकार प्रदान नहीं करते हैं। इसकी वजह से स्थानीय समुदायों में बहुत अधिक असंतोष पैदा हुई है। मुस्लिम युवाओं के पास हथियार उठाने के लिए हमेशा कारण होता है। अधिकांश समृद्ध मुस्लिम देशों ने अन्य मुस्लिम देशों के शरणार्थियों को स्वीकार करने से भी इनकार कर दिया। क्या ये उनकी रणनीति थी? गैर-इस्लामी दुनिया अब भी हक्का-बक्का है।

18. कट्टरता: सामाजिक मुद्दे मुस्लिमों और गैर-मुस्लिमों के लिए एक समान हैं। फिर गैर मुस्लिमों को चोट पहुंचाने के लिए केवल मुस्लिम युवक ही क्यों कट्टरपंथी हो जाता है ये अचंबित करने वाला विषय है। क्या उनके धार्मिक ग्रंथों में समस्या है? किसी ने अभी तक इसका विश्लेषण नहीं किया है। यहां तक ​​कि इस मुद्दे पर इस्लामिक समुदाय के जवाब भी अस्पष्ट हैं।

मुस्लिम समुदायों को उपर्युक्त मुद्दों को खुले तरीके से सुलझाना चाहिए ताकि वे जिन समाजों में रहते हैं उन में रहने योग्य रहे। दुनिया ने एक हजार वर्षों में उनके इतिहास को देखा है। यह एक सर्वविदित तथ्य है कि मुसलमान ही स्वयं के लिए सबसे बड़ा खतरा हैं। अपने विभिन्न आंतरिक सांप्रदायिक दार्शनिक मतभेदों के कारण स्वयं मुसलमानों द्वारा अधिक मुसलमानों को मार दिया जाता है। आज की दुनिया में, सभी तथ्य और घटनाएं सब के विश्लेषण के लिए उपलब्ध हैं। मुसलमानों को गैर-मुस्लिम देशों में सुरक्षित पाया गया है।

सकारात्मक स्वीकृति और आत्मसात की संभावना में सुधार के लिए मुस्लिम समुदायों के लिए कुछ समाधान।
1. अराजनैतिकरण: इस्लामी खिलाफत के लिए इस्लामी आक्रमण सिद्धांतों को सार्वजनिक रूप से खारिज करना चाहिए। उदाहरण के लिए, अतीत में ग़ज़वा हिंद की वजह से सभी हिंदुओं के खिलाफ रक्तपात किया गया है। इसने हिंदू केंद्रीय स्थलों से मुस्लिम देशों का निर्माण किया है। अब उस सिद्धांत को भंग कर देना चाहिए।

2. शिक्षा: इस्लामी शिक्षा को सही करने की आवश्यकता है। मूर्तिपूजा हिंदू, बौद्ध, जैन और कई अन्य धर्मों जैसे धर्मों में पूजा की एक स्थापित विधि है। यहां तक ​​कि मुसलमान भी मक्का में एक पत्थर की पूजा करते हैं। अन्य संस्कृतियों और उनके विश्वास का सम्मान करना उनके प्रणाली से गुम एक महत्वपूर्ण शिक्षा तत्व है। इस्लाम संप्रदायों जैसे देवबंद, बरेलवी और सलाफिज़्म का मूल्यांकन वर्तमान विश्व व्यवस्था के लिए उनके मूल्य के तौर पर होना चाहिए। इस्लामी शिक्षा के गंभीर सुधार की पहल उनके सामुदायिक नेताओं द्वारा की जानी चाहिए।

3. विश्वव्यापी भाईचारा बनाम सांप्रदायिक भाईचारे का सिद्धांत: मुस्लिम समुदायों में विश्वव्यापी भाईचारा को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। अगर वे चाहते हैं कि उनके बेटे दूसरे समुदाय की महिलाओं से शादी करें तो उन्हें अपनी बेटियों की शादी दूसरे समुदायों में करने के लिए भी तैयार रहना चाहिए। नहीं तो उनके खिलाफ लगातार संदेह बढ़ता रहेगा। मुसलमान उसी समुदाय में रहते हैं जहाँ दूसरे रहते हैं और इसलिए स्वाभाविक रूप से उनसे दूसरों का सम्मान करने की अपेक्षा की जाती है। देना और लेना दुतरफा सड़क है।

4. धर्मदूतीय कानून को हटाना: धर्मदूतीय कानून को तुरंत निरस्त किया जाना चाहिए। मुसलमानों को अन्य धर्मों को उसी तरह से स्वीकार करने के लिए कहा जाना चाहिए जैसे कि दूसरों को इस्लामी धर्म को स्वीकार करने के लिए कहा जाता है। यह फिर से एक दो-तरफा सड़क है।

5. इस्लामी देशों या मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में दूसरों को अपने धर्म का खुलकर अनुसरण करने की अनुमति देनी चाहिए। केवल इतना ही नहीं बल्कि उन्हें गैर-मुसलमानों को सुरक्षा प्रदान करनी चाहिए। अब और अधिक केवल मुस्लिमों का देश नहीं होना चाहिए। यदि मुसलमान अन्य देशों में स्वतंत्र रूप से प्रवास कर सकते हैं, तो गैर-मुस्लिमों को भी स्वतंत्र रूप से वहां प्रवास करने दिया जाना चाहिए।

6. आतंकवादी राष्ट्र: पाकिस्तान दुनिया का आतंकी विश्वविद्यालय बनकर उभरा है। लगभग सभी इस्लामी आतंकवादी संगठन पाकिस्तान में अपनी साख प्राप्त करते हैं। संयुक्त राष्ट्र और पड़ोसी प्रभावित राज्यों का यह कर्तव्य है कि वे पाकिस्तान को कई छोटे स्वशासित राज्यों में विभाजित करें। सऊदी अरब और ईरान दुनिया भर में आतंकवाद का बहुत समय से वित्त पोषण कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र या राष्ट्रों के समूह को इन आतंक-प्रायोजित राज्यों में सुधार की माँग करनी चाहिए। यदि वे अनुपालन नहीं करते हैं तो इन राज्यों के खिलाफ सैन्य कार्रवाई को अधिकृत किया जाना चाहिए।

7. इस्लामोफोबिया: गैर-मुसलमानों को इस्लाम धर्म से कोई समस्या नहीं है। उनके खिलाफ इस्लामी धर्म की आक्रामकता ही समस्या है। वे अब बचाव कर रहे हैं। दुनिया उनके खिलाफ नहीं है, वे ही दुनिया के खिलाफ है। इसके अलावा, इस्लामोफोबिया अवधारणा मुस्लिम संगठनों द्वारा खुद को पीड़ितों के रूप में दिखाने के लिए बनाई गई है जो वे स्पष्ट रूप से नहीं हैं।

8. सुधार: इस्लामी कानूनों को गैर-मुस्लिम और मुस्लिम देशों में धर्मनिरपेक्ष कानूनों का भी पालन करना चाहिए। पारस्परिकता के एक आम तौर पर स्वीकृत सिद्धांत को लागू किया जाना चाहिए।
9. स्थानीय संस्कृतियों का सम्मान करने के लिए इस्लामी ग्रंथों को संशोधित किया जाना चाहिए।

10. गैर-मुस्लिम भूमि पर प्रवास के बाद, उन्हें अपने पुराने राजनीतिक मुद्दों को नई भूमि पर नहीं लाना चाहिए।

11. स्थानीय मुसलमानों को प्रशिक्षण द्वारा मध्य-पूर्वी राजनीति से अलग किया जाना चाहिए।

12. कट्टरपंथ मुस्लिम युवकों का बहिष्कार करना चाहिए। उन्हें अपराधी बताकर पुलिस में रिपोर्ट करें या उन्हें उन देशों में वापस भेजें जहां से वे कट्टरपंथ हुए थे।

अगर मुसलमान तुरंत सुधार नहीं करते हैं, तो दुनिया में धीरे-धीरे एक बड़ा ध्रुवीकरण होगा, यानी मुस्लिम बनाम गैर-मुस्लिम। क्राइस्टचर्च में यह घटना चौंकाने वाली नहीं है क्योंकि मुस्लिम समुदाय बहुत वर्षों से निष्क्रिय रही है।

गैर-मुस्लिम समुदायों को भी अब इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सक्रिय कदम उठाने चाहिए। गैर-मुस्लिम राष्ट्रों को अपनी स्थानीय आबादी को अधिक विश्वास प्रदान करके अपनी और अपने समुदायों की रक्षा करनी होगी। कुछ चीजें जो वे कर सकते हैं:
* धर्मनिरपेक्ष उपदेशों को शामिल करने के लिए सभी मस्जिदों को कानून द्वारा बाध्य किया चाहिए
* इस्लामी धार्मिक ग्रंथों को स्थानीय संस्कृतियों के अनुरूप संशोधित किया जाना चाहिए
* इस्लामी शिक्षकों को स्थानीय सांस्कृतिक लोकाचार को समझने के लिए प्रशिक्षित किया जाना चाहिए
* अरबी भाषाई और भाषा संबंध को हटाया जाना चाहिए
* सभी इस्लामी ग्रंथों को स्थानीय भाषा में होना चाहिए
* इस्लामी सांस्कृतिक प्रतीकों को स्थानीय समाजों के लिए प्रासंगिक बनाया जाना चाहिए
* कट्टरपंथी युवाओं को कट्टरता के अपने स्रोतों में वापस भेजा जाना चाहिए या हिंसा को रोकने के लिए आजीवन कारावास देना चाहिए

मैं आशा और कामना करता हूं कि सुरक्षा की बेहतर भावना ताकि सभी समुदायों के बीच स्थायी शांति रहे। इस घटना को बुद्धिमान लोगों को जागृत करना चाहिए ताकि हिंसा के इस विचारहीन चक्र का स्थायी समाधान किया जा सके। परिवर्तन मुश्किल है जब हम केवल दूसरों में बदलाव की उम्मीद करते हैं। परिवर्तन स्वयं से शुरू होता है। इस परिवर्तन को कार्यान्वित करने के लिए सभी पक्ष समान रूप से जिम्मेदार हैं।

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.