सर्वोच्च न्यायालय को वकील ने बताया कि परम बीर सिंह भारत में ही हैं। सर्वोच्च न्यायालय ने गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान की और जांच में शामिल होने का आदेश दिया

क्या परम बीर सिंह की गवाही के साथ महाराष्ट्र में विभिन्न दलों के बीच एक दूसरे पर हावी होने का ये विशाल खेल खत्म हो जाएगा?

0
347
परम बीर सिंह को मिली गिरफ्तारी से सुरक्षा
परम बीर सिंह को मिली गिरफ्तारी से सुरक्षा

वकील ने बताया कि फरार परम बीर सिंह भारत में ही है, सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त को उनके खिलाफ महाराष्ट्र में दर्ज आपराधिक मामलों में गिरफ्तारी से सुरक्षा प्रदान की और राज्य सरकार, उसके डीजीपी और सीबीआई से उनकी याचिका पर जवाब मांगा। शीर्ष न्यायालय ने सिंह को जांच में शामिल होने का भी निर्देश दिया।

महाराष्ट्र के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले सिंह ने आपराधिक मामलों में फंसाये जाने का आरोप लगाया है। कठोर कदमों से सुरक्षा की मांग के अलावा, सिंह ने उनसे जुड़े पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। जस्टिस एसके कौल और जस्टिस एमएम सुंदरेश की उपस्थिति वाली पीठ ने सिंह की याचिका पर महाराष्ट्र सरकार और डीजीपी संजय पांडे और सीबीआई को नोटिस जारी किया।

इस खबर को अँग्रेजी में यहाँ पढ़ें!

पीठ ने आदेश दिया – “नोटिस जारी करें। 6 दिसंबर को वापसी योग्य। इस बीच, याचिकाकर्ता जांच में शामिल होगा और उसे गिरफ्तार नहीं किया जाएगा।”

सिंह के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता पुनीत बाली ने न्यायालय को बताया कि सिंह यदि महाराष्ट्र आये तो उन्हें मुंबई पुलिस से जान का खतरा है और इसलिए उन्हें अंतरिम सुरक्षा दी जानी चाहिए। न्यायालय ने अपने आदेश में यह भी कहा कि मामले के तथ्य बहुत परेशान करने वाले हैं और पूर्व गृह मंत्री और मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त के बीच की लड़ाई “जिज्ञासा से भरी हुई” है।

18 नवंबर को, शीर्ष न्यायालय ने कहा था कि जब तक कि फरार अधिकारी न्यायालय को अपने ठिकाने का खुलासा नहीं करते तब तक न्यायालय सिंह द्वारा दायर उस याचिका पर सुनवाई नहीं करेगा, जिसमें महाराष्ट्र सरकार द्वारा उनके खिलाफ शुरू की गई जांच को चुनौती दी गई थी। पीठ ने कहा था – “कोई सुरक्षा नहीं, कोई सुनवाई नहीं जब तक हमारे पास इस सवाल का जवाब नहीं आ जाता कि आप कहां हैं।”

सिंह पिछले कुछ महीनों से फरार है और मुंबई के एक न्यायालय ने पिछले हफ्ते मुंबई पुलिस की उस याचिका को स्वीकार कर लिया था जिसमें अधिकारी को ‘घोषित अपराधी‘ घोषित करने की मांग की गई थी। सर्वोच्च न्यायालय ने पिछले हफ्ते गुरुवार को इस बारे में संदेह व्यक्त किया था कि कहीं सिंह देश से भाग तो नहीं गए हैं।

“आपकी याचिका आपके अटॉर्नी धारक द्वारा दायर की गई है। आप कहां हैं? आप देश में हैं या बाहर? हम गलत हो सकते हैं लेकिन अगर आप कहीं विदेश में हैं और सर्वोच्च न्यायालय के आदेश की प्रतीक्षा कर रहे हैं, तो हम इस आदेश को कैसे दे सकते हैं?” सर्वोच्च न्यायालय ने परम बीर सिंह के वकील से सोमवार तक सिंह के ठिकाने का खुलासा करने की मांग की थी। [1]

विवादास्पद वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी जून से फरार था और उसे आखिरी बार जुलाई में अपने गृह नगर हरियाणा में देखा गया था। कई लोगों का मानना था कि जब महाराष्ट्र सरकार ने सिंह के खिलाफ जबरन वसूली के लिए कई मामले शुरू किए थे तब वह सितंबर तक नेपाल चला गया था।

संदर्भ :
[1] “आप कहाँ हैं?,” सर्वोच्च न्यायालय ने भगोड़े परम बीर सिंह से पूछा। उनके वकील से 22 नवंबर तक उनके ठिकाने का खुलासा करने को कहा। अनिल देशमुख की याचिका को किया खारिज!Nov 19,2021, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.