तो क्या आईसीआईसीआई की प्रेस विज्ञप्ति सिर्फ चन्दा कोचर को प्रशस्ति पत्र देने के लिए थी?

आईसीआईसीआई बैंक की समिति ने प्रेस विज्ञप्ति में अपनी एमडी और सीईओ को पाक-साफ साबित करने में और उनपर "पूर्ण विश्वास" और "पूर्ण आस्था" दिखाने में लगाया।

0
781

आईसीआईसीआई बैंक की प्रेस विज्ञप्ति में यह नहीं बताया गया है कि 2012 में वीडियोकॉन समूह को 40,000 करोड़ रुपये का ऋण या अग्रिम का दर्जा क्या है। छह साल इस विशाल ऋण की स्थिति क्या है?

पीगुरूज द्वारा आईसीआईसीआई बैंक के चीफ चंदा कोचर और उनके पति दीपक कोचर की फर्म और कर्ज ग्रस्त वीडियोकॉन समूह के साथ हुए धन के हस्तांतरण के बारे में जाँच एजेंसियों को बताया गया। इसके तीन दिन बाद बैंक की समिति ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की जिसमें उनकी महिला मालिक को क्लीन चिट दी गई। विस्तृत प्रेस विज्ञप्ति में, बैंक समिति ने स्वीकार किया कि उन्होंने 2012 में वीडियोकॉन के लिए बहुत अधिक कर्ज मुहैया कराया था, जबकि यह कहते हुए कि वे कई बैंकों के संघ का हिस्सा हैं और आईसीआईसीआई बैंक की पहुँच केवल 10 प्रतिशत तक सीमित है और शेष 90 प्रतिशत अन्य बैंकों के हिस्से हैं ।

इस मामले के तथ्य यह है कि प्रेस विज्ञप्ति में यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि इस अवधि के दौरान वीडियोकॉन समूह की कंपनियों से चंदा कोचर के पति की फर्म में 325 करोड़ रुपये कैसे आये।

इस प्रेस विज्ञप्ति में, आईसीआईसीआई बैंक का दावा है कि वे वीडियोकॉन समूह और इससे जुड़ी अन्य फर्मों को 3250 करोड़ रुपये के विवादास्पद वितरण का हिस्सा थे। बैंक का दावा है कि वे प्रमुख बैंक नहीं थे और केवल संघ का हिस्सा थे और उनकी हिस्सेदारी केवल 10 प्रतिशत थी। लेकिन आईसीआईसीआई बैंक ने चतुराई से छुपा लिया या बुनियादी विवाद का जवाब नहीं दिया कि वीडियोकॉन से संदिग्ध 3,250 करोड़ रुपये के लेनदेन होने के बाद जल्द ही आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक और सीईओ चंदा कोचर के पति की फर्म न्यूपावर नवीकरणीय प्राइवेट लिमिटेड को करीब 325 करोड़ (ऋण राशि का 10%) पहुँचाया गया।

यह विवाद वीडियोकॉन समूह की कंपनियों से चंदा कोचर के पति की फर्म के लिए धन प्रवाह के बारे में है, जब उस अवधि में वीडियोकॉन को 2012 में ऋण दिया गया था। इसकी जड़ में है निवेशक अरविंद गुप्ता द्वारा प्रधानमंत्री, वित्तमंत्री और तमाम जाँच एजेंसियों सीबीआई, आरबीआई, ईडी, एसएफआईओ को लिखा गया आठ पृष्ठों का शिकायत पत्र है, जो अक्टूबर 2016 में लिखा गया। अरविंद गुप्ता की शिकायत का विवरण पीगुरूज में दर्ज किया गया है[1]

प्रेस विज्ञप्ति में आईसीआईसीआई बैंक और अन्य 20 बैंकों और वित्तीय संस्थानों द्वारा तेल और गैस कार्यक्रम के लिए वीडियोकॉन समूह की फर्मों की परियोजना के लिए 40,000 करोड़ रुपये के वित्तपोषण का भी खुलासा हुआ है। हालांकि, आईसीआईसीआई बैंक की प्रेस विज्ञप्ति में यह नहीं बताया गया है कि 2012 में वीडियोकॉन समूह को 40,000 करोड़ रुपये का ऋण या अग्रिम का दर्जा क्या है। अब छह साल बीत चुके हैं। इस विशाल ऋण की स्थिति क्या है?

इन बुनियादी सवालों के जवाब देने के बजाय, आईसीआईसीआई बैंक की समिति ने अपने दो पृष्ठ के प्रेस विज्ञप्ति में पूरा समय अपनी एमडी और सीईओ चंदा कोचर को पाक-साफ साबित करने में और उनपर “पूर्ण विश्वास” और “पूर्ण आस्था” दिखाने में लगाया। इस लेख के अंत में विस्तृत प्रेस विज्ञप्ति प्रकाशित की गई है।

इस मामले के तथ्य यह है कि प्रेस विज्ञप्ति में यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि इस अवधि के दौरान वीडियोकॉन समूह की कंपनियों से चंदा कोचर के पति की फर्म में 325 करोड़ रुपये कैसे आये, जब आईसीआईसीआई सहित बैंक संघ द्वारा वीडियोकॉन समूह की कंपनियों को 3,250 करोड़ रुपये का ऋण दिया गया था।

सवाल यह है कि जांच एजेंसियों को इस विवाद की जड़ में जाने की अनुमति दी जानी चाहिए। हम इस मामले को पाठकों के पास छोड़ रहे हैं और आईसीआईसीआई बैंक की प्रेस विज्ञप्ति भी नीचे प्रकाशित कर रहे हैं, जिससे निवेशक अरविंद गुप्ता की शिकायत पर पीगुरूज के विवरण का जवाब दिया गया है।

ICICI Bank Press Release by Sree Iyer on Scribd

References:

[1] ICICI Bank head Chanda Kochhar and husband on the radar of probe agencies for doubtful loans to debt-ridden Videocon Group? Mar 25, 2018, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.