दिल्‍ली आबकारी नीति मामले में मनीष सिसोदिया के खिलाफ गवाह बना सह-आरोपी!

मामले के आरोपियों में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, तत्कालीन आबकारी आयुक्त अरवा गोपी कृष्णा, उपायुक्त आनंद तिवारी और सहायक आयुक्त पंकज भटनागर शामिल हैं।

0
84
दिल्‍ली आबकारी नीति मामले में मनीष सिसोदिया के खिलाफ गवाह बना सह-आरोपी!
दिल्‍ली आबकारी नीति मामले में मनीष सिसोदिया के खिलाफ गवाह बना सह-आरोपी!

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री की मुश्किलें बढ़ सकती हैं

दिल्ली नई आबकारी नीति घोटाला मामले में आरोपी दिनेश अरोड़ा को सीबीआई, सरकारी गवाह बनाने जा रही है। दिनेश अरोड़ा को हाल ही में इस केस में अग्रिम जमानत भी मिली है। सीबीआई ने उनकी अर्जी राउज एवेन्यू कोर्ट में दाखिल की। स्पेशल सीबीआई जज एमके नागपाल की कोर्ट में इसकी सुनवाई शुरू हुई। इस दौरान आरोपी दिनेश अरोड़ा भी कोर्ट रूम में मौजूद था। उन्होंने कहा, ‘मेरी तरफ से मेरे वकील आरके ठाकुर द्वारा 1 नवंबर 2022 को एप्लिकेशन दी गई थी। मैं स्वेच्छा से सरकारी गवाह बनने को तैयार हूं।’ दिनेश अरोड़ा का बयान 14 नवंबर को दर्ज होगा।

दिनेश अरोड़ा ने कोर्ट में कहा, ‘मैं इस मामले से जुड़े सभी तथ्यों को कोर्ट के सामने रखूंगा। मैं इस मामले में मेरे ऊपर जो आरोप लगे हैं, उस संदर्भ में अपनी भूमिका के बारे में भी सब सच बताऊंगा। मैं जांच में भी सहयोग करता रहा हूं और आगे भी करता रहूंगा। मैं जांच अधिकारी के सामने कुछ स्टेटमेंट दे चुका हूं। मैं एसीएमएम की कोर्ट में इकबालिया बयान भी दे चुका हूं।’ अगस्त में सीबीआई ने दिल्ली के शराब घोटाले में एक मामला दर्ज किया था और आठ लोगों के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर (एलओसी) जारी किया था। आरोपियों में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, तत्कालीन आबकारी आयुक्त अरवा गोपी कृष्णा, उपायुक्त आनंद तिवारी और सहायक आयुक्त पंकज भटनागर शामिल हैं।

कोर्ट ने दिनेश अरोड़ा से पूछा कि क्या कोई दबाव तो नहीं, सीबीआई की तरफ से कोई धमकी तो नहीं मिली? इस पर अरोड़ा ने कहा कि वह स्वेच्छा से सरकारी गवाह बन रहा है। इस केस से संबंधित जो भी जानकारी उसके पास है, उसे बताने के लिए तैयार है। दिनेश अरोड़ा ने शपथ ली कि वह बिना किसी दबाव के सरकारी गवाह बनना चाहता है। दिनेश अरोडा ने अपने ऊपर लगे आरोपों को माफ किए जाने (क्षमादान) की अर्जी दाखिल की। दिनेश अरोड़ा की अर्जी पर कोर्ट 14 नवंबर को सुनवाई करेगा। 14 नवंबर को ही अरोड़ा का बयान भी दर्ज होगा। कोर्ट उसके बाद तय करेगा कि दिनेश अरोड़ा को सरकारी गवाह बनाया जाए या नहीं।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.