आईसीआईसीआई – वीडियोकॉन ऋण घोटाला

आठ पृष्ठों की शिकायत, जिससे पता लगता है कि कैसे चंदा कोकर ने आईसीआईसीआई बैंक में अपनी स्थिति का दुरुपयोग किया

1
693

निवेशक अरविंद गुप्ता द्वारा दायर शिकायत के अनुसार, अप्रैल 2012 में आईसीआईसीआई बैंक के प्रमुख चंदा कोचर द्वारा करीब 3900 करोड़ रुपये का लोन वीडियोकॉन ग्रुप की कंपनियों को दिया गया।

भारतीय जांच एजेंसीयों ने इंडस्ट्रियल क्रेडिट एंड इंवेस्टमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (आईसीआईसीआई) की सीईओ चंदा कोचर और उनके परिवारवालों के पैसों की लेन देन की पूरी छानबीन की है। जांच में यह भी पता चला है कि कोचर अपने बैंकिंग पद का गलत इस्तेमाल कर वीडियोकॉन समूह तथा उसके सम्बंधित कंपनियों से अपना फायदा निकलवा रही थीं तथा अपने बैंकिंग रिश्तों का दुरुपयोग कर रही थीं। आईसीआईसीआई बैंक और वीडियोकॉन दोनों के एक निवेशक द्वारा दायर शिकायत पर एजेंसियां प्रधान मंत्री कार्यालय से प्राप्त निर्देशों पर काम कर रही थीं।

श्रीमती चंदा कोचर ने इस बेईमान घरेलू अपतटीय वित्त पोषण को सीईओ और एमडी के रूप में अपने पद के दुरुपयोग से मदद की।

निवेशक अरविंद गुप्ता द्वारा दायर शिकायत के अनुसार, अप्रैल 2012 में आईसीआईसीआई बैंक के प्रमुख चंदा कोचर द्वारा करीब 3900 करोड़ रुपये (602 मिलियन डॉलर) का लोन वीडियोकॉन ग्रुप की कंपनियों को दिया गया और 325 करोड़ रुपये (50 मिलियन डॉलर) को उनके पति दीपक कोचर की फर्म न्यूपॉवर नवीकरणीय प्राइवेट लिमिटेड को स्थानांतरित कर दिया गया।

शिकायत प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए है और वित्त मंत्री अरुण जेटली और सभी जांच एजेंसियों को प्रतिलिपि द्वारा सूचित किया, दिनांक 15 मार्च 2016, दीपक कोचर नूओपावर के प्रमुख शेयरधारक है और इसे कोचर परिवार के सदस्यों और वीडियोकॉन परिवार के सदस्यों द्वारा 50-50 आधार हिस्सेदारी पर गठित किया गया था। दिसंबर 2008 में एक समय, चंदा कोचर भी नूओपावर की शेयरधारक थी, जबकि आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड के संयुक्त प्रबंध निदेशक के पद पर थीं, जब उनके संरक्षक के वी कामथ बैंक का नेतृत्व कर रहे थे। [1]

विस्तृत शिकायत अरविंद गुप्ता के ब्लॉग पर उपलब्ध है।[2]

हमने लेख के अंत में शिकायत फिर से तैयार की है। शिकायत का सार नीचे दिया गया है:
“अप्रैल 2012 में, कोचर के परिवार को स्वामित्व और न्यूपॉवर नवीकरणीय ऊर्जा के नियंत्रण के पूर्ण हस्तांतरण के बाद, आईसीआईसीआई बैंक ने विभिन्न निजी कंपनियों को रुपए का ऋण बढ़ाकर ₹ 3,250 करोड़ कर दिया। नीचे दिए गए जानकारी के अनुसार:

Rupee Loan of Rs. 3,250 crore to the Promoters of Videocon Group by ICICI Bank
Name of the Company Date of ICICI Bank funding Amount of loan in Rs. Crore
Trend Electronics Limited 30.04.2012 650
Century Appliances Limited 30.04.2012 650
Kail Limited 30.04.2012 650
Value Industries Limited 30.04.2012 650
Evans Fraser & Company India Limited 30.04.2012 650
Total 3,250

इसके अलावा, आईसीआईसीआई बैंक के हाथों से विदेशी स्थलों का भी विस्तार किया गया है। आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप के स्वामित्व वाली किसी अन्य विदेशी संस्था में अपतटीय फंडिंग को बढ़ाकर ₹660 करोड़ किया गया।

केमैन द्वीप समूह में स्थित एक वीडियोकॉन ग्रुप की कंपनी अर्थात् तुस्कार ओवरसीज को आईसीआईसीआई बैंक लिमिटेड द्वारा यूके और कनाडा की शाखाओं के जरिये ₹660 करोड़ वित्त पोषित किया गया था। बताये गए ऋण को वीडियोकॉन समूह की 6 भारतीय कम्पनियों ने गारंटी देकर समर्थित किया, वे कम्पनियां हैं – टेक केयर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड, श्री दूत ट्रेडिंग एंड एजेंसियां लिमिटेड, वैल्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड और ट्रेंड इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड ।

महोदय, भारतीय कंपनियों में विदेशी निवेश के दौर में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार द्वारा किये गए घोटालों का पता लगाना एक अनोखी जांच का विषय रहा है। यह इस पृष्ठभूमि के खिलाफ है कि आईसीआईसीआई बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को प्रदान किए गए बैंक के वित्तपोषण का महत्व है। उपरोक्त उल्लेखित बैंकिंग लेनदेन आईसीआईसीआई बैंक की ओर से ऋण देने वाली पूरी प्रक्रिया के विवादित होने को दर्शाता है, जो वीडियोकॉन समूह के साथ है। इस तरह के लेनदेनों ने भारतीय निजी क्षेत्र के बैंकिंग घोटाले का गठन किया है।

जाहिर है, श्रीमती चंदा कोचर ने इस बेईमान घरेलू अपतटीय वित्त पोषण को सीईओ और एमडी के रूप में अपने पद के दुरुपयोग से मदद की। भ्रष्टाचार से निजी लाभ लेने के चंदा कोचर के लालच के कारण आईसीआईसीआई बैंक को गलत तरीके से नुकसान हुआ और आईसीआईसीआई बैंक का भविष्य अनिश्चित वित्तीय स्थिति में है। वेणुगोपाल दूत द्वारा समर्थित वीडियोकॉन जैसे समूहों को बढ़ाए लुभावने ऋण का गंभीर खतरा है जो आईसीआईसीआई बैंक के लिए एनपीए बन रहा है। श्रीमती चंदा कोचर का कार्य आईसीआईसीआई बैंक के हित में नहीं है और इससे आरबीआई को कड़ाई से निपटना चाहिए।

इसके अलावा, दिसंबर 2010 और मार्च 2012 के बीच की अवधि के दौरान, न्यूपॉवर नवीकरणीय को भी फर्स्टलैंड होल्डिंग्स लिमिटेड नामक एक अस्पष्ट मॉरीशस आधारित इकाई से अनिवार्य रूप से परिवर्तनीय वरीयता शेयरों (सीसीपीएस) के रूप में 325 करोड़ रूपए की बड़ी विदेशी पूंजी प्राप्त हुई। बाद में 2014 में, उपर्युक्त धन को डीएच अक्षय होल्डिंग लिमिटेड नामित एक अन्य मॉरीशस आधारित इकाई में स्थानांतरित कर दिया गया था। ”

आठ पृष्ठों की शिकायत, जिससे पता लगता है कि कैसे चंदा कोकर ने आईसीआईसीआई बैंक में अपनी स्थिति का दुरुपयोग किया, और कर्ज में दबे वीडियोकॉन समूह की मदद की और वीडियोकॉन कंपनियों से 325 करोड़ रुपये की बड़ी धन राशि अपने पति दीपक कोचर द्वारा नियंत्रित कंपनी में पहुँचाये।

सुप्रीम कोर्ट के नवीनतम फैसले के अनुसार, निजी बैंकर भी भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत आते हैं, क्योंकि वे आम जनता के पैसे को सम्भालते हैं। एजेंसियों से उम्मीद है कि चंदा कोचर और पति दीपक कोचर को बुलाएंगे और शक्तिशाली दंपति को बचाने के लिए सभी तरफ से एजेंसियों पर बहुत दबाव है। चंदा कोचर को अब जवाब देना है कि क्यों आईसीआईसीआई बैंक ने हजारों करोड़ रुपए कर्ज-ग्रस्त वीडियोकॉन समूह को दिए, जिसे हमेशा बकाएदारों की शीर्ष सूची में रखा गया था।

अरविंद गुप्ता द्वारा दायर आठ पृष्ठों की शिकायत आईसीआईसीआई – वीडियोकॉन समूह के विवादास्पद ऋण लेनदेन के बारे में, नीचे प्रकाशित किया गया है:


Note:
1. The conversion rate used in this article is 1 USD = 64.79 Rupees.

[1] Corporate governance, Mr. Narayana Murthy, Mr. K V Kamath and NDTV? Aug 18, 2017, PGurus.com

[2] Banking sector NPAs from mighty Corporate Cons? Mar 15, 2016, BankingSectorNPAs.blogspot.in

Complaint of Arvind Gupta on ICICI Bank – Videocon Loan Frauds by PGurus on Scribd

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.