जीएसटी घोटाला – क्या हसममुख अधिया अब बोलेंगे? केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी के बिना 1400 करोड़ रुपये क्यों नियत किये?

जीएसटीएन के बारे में कई सवाल उठते हैं, जैसे की, इसके वित्तपोषण और आदििया द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली प्रक्रिया

1
659

क्या अधिया इन महत्वपूर्ण सवालों पर जनता को जवाब देंगे? यह राष्ट्र हित में है कि जीएसटीएन पर एक सूचित बहस हो।

मार्च 28 – वस्तु और सेवा कर नेटवर्क (जीएसटीएन) का नींव दिवस है, जो तत्कालीन केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम द्वारा 2013 में शुरू किया गया था। जीएसटीएन एक कंपनी है, जो वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को इकट्ठा और प्रशासन करने के लिए एक तन्त्र के रूप में कार्य करता है। जीएसटीएन में, 51 प्रतिशत हिस्सा निजी बैंकों के पास है और शेष 49 प्रतिशत हिस्सा केंद्र और राज्य सरकारों के पास था। मार्च 2013 में चिदंबरम को कैसे पता चला कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली एनडीए सरकार जीएसटी लागू करने जा रही है, यह एक दिलचस्प सवाल है। क्यों मोदी सरकार ने जीएसटी संग्रह को संभालने के लिए चिदंबरम द्वारा जारी निजी कंपनी जीएसटीएन को मंजूरी दे दी, यह एक और जिज्ञासु सवाल है।

पूरे भारत के केन्द्रीय उत्पाद शुल्क और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीईसी) के अधिकारियों के व्हाट्सएप समूह ने इसे भारत सरकार के लिए एक काला दिन कहा है। इस सब के केंद्र में एक आदमी है – हसमुख अधिया। मोदी शासन में, जीएसटीएन ने वित्त सचिव हसमुख अधिया के संरक्षण को एक बड़े पैमाने पर विकसित किया है।

निविदा प्रक्रिया की मध्यस्थता के बारे में गंभीर संदेह व्यक्त किया गया जिसके कारण इन्फोसिस को अनुबंध मिला।

GSTN Shareholding pattern

1 सितंबर 2015 को हसमुख अधिया ने राजस्व सचिव के रूप में पद ग्रहण किया। वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी, जो जीएसटीएन प्रकिया से जुड़े हुए हैं, ने हमें बताया कि अधिया ने इन्फोसिस को कॉन्ट्रैक्ट देने में अतिशीघ्रता दिखायी। अधिया के दबाव के कारण इन्फोसिस को यह कॉन्ट्रैक्ट सितम्बर 2015 में दिया गया। नाम न छापने की शर्त पर, अधिकारी ने कहा, “यहां तक कि व्यय सचिव अशोक लवासा को भी संदेह था और पूरा सीबीईसी इस जीएसटीएन के खिलाफ था। निविदा प्रक्रिया की मध्यस्थता के बारे में गंभीर संदेह व्यक्त किया गया जिसके कारण इन्फोसिस को अनुबंध मिला। लेकिन अधिया ने नहीं सुना। यह एक स्वयंंभू सत्ता थी(उदय सिंह कुमावत की सहायता से), जिसने व्यय विभाग को भी बुलडोज़ करते हुए जीएसटीएन को आगे बढ़ाया। चिदंबरम ने 2013 में जीएसटीएन पर काम करने वाले इन दोनों अधिकारियों को क्यों शामिल किया?

सीबीईसी लगातार पहले दिन से जीएसटीएन के विचार का विरोध कर रहा है। जीएसटीएन से संबंधित प्रारंभिक बैठकों में उपस्थित एक अधिकारी ने हमें बताया कि अधिया ने सीबीईसी का अपमान ही नहीं किया बल्कि एक बड़ी परियोजना चलाने की उनकी क्षमता पर भी सवाल उठाया, उन सभी को समझाया कि जीएसटीएन पहले दिन से ही सबसे बढ़िया परिणाम देगा। अधिया का मामला सरल था – जीएसटीएन क्षमता व्यक्तिपरक थी और सीबीईसी इस को संभालने के लिए बिल्कुल बेकार था। सीबीईसी नेतृत्व ने नम्रता से आत्मसमर्पण कर दिया, लेकिन एक गुस्सा भरा हुआ था और जो अब बाहर निकल रहा है।

अधिकारी ने कहा, “जीएसएटी के अंतर्गत आने वाले सीमा शुल्क मापांक को विभाग ने तुरंत ही जारी कर दिया। ये ही नहीं बल्कि देशभर में इसको निर्विघ्न रूप से लागू किया गया। इसके बावजूद 8 महीनों बाद भी जीएसटीएन अपने लक्ष्य को हासिल करने में असफल रहा है। इस अधिकारी ने अधिया की मंशा पर प्रश्नचिन्ह उठाते हुए पूछा कि क्या अधिया अपने शब्दों को वापस लेते हुए विभाग को उसके कार्य का उचित श्रेय देंगे?”

शुरुआत से सीबीईसी कह रही है कि जीएसटीएन के लिए पूरी निविदा त्रुटिपूर्ण रही है और इन्फोसिस ने इस अनुबंध को अवैध रूप से प्राप्त किया है। वित्त मंत्रालय में जीएसटीएन से संबंधित सभी मामलों को संभालने वाले शख्स का अनुमान लगाना कोई मुश्किल काम नहीं और न ही कोई आश्चर्यजनक नाम है – उदय सिंह कुमावत! क्या कुमावत को जीएसटीएन के बारे में कुछ जानकारी मिली थी, जिसके कारण अधिया पूरे समय उन्हें बचा रहे थे? क्यों नहीं नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) को जीएसटीएन फाइलों को सौंप दिया जाए? आखिरकार, इस मुद्दे में हमारे राष्ट्रीय हित शामिल है! बोली लगने की प्रक्रियाओं में कौन सी कंपनियों ने भाग लिया? किसने बोलियों की तकनीकी अहर्ताओं को पूरा किया? क्या किसी भी बहु-राष्ट्रीय कॉर्पोरेशन (एमएनसी) की तकनीकी बोली को दबाने और अस्वीकार करने का एक जानबूझकर प्रयास किया गया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इंफोसिस को अनुबंध मिले? क्या बोली लगाने वाली सभी कंपनियों को एक स्तर के मैदान पर लड़ने का मौका मिलता है?

जब इस तरह के एक बड़े व्यय को सरकारी खजाने से लिया जाता है, तो क्या सीएजी को इस मामले में गहराई से पूछताछ नहीं करनी चाहिए?

क्या बोली लगाने वाले अन्य प्रतिभागियों ने बोली प्रक्रिया पूरी होने के बाद एक शिकायत दर्ज की थी? क्या वित्त मंत्रालय ने इन शिकायतों के विवरण को दबाया? क्या कुमावत ने वित्त मंत्रालय में तब तत्काल अतिरिक्त सचिव के साथ इन शिकायतों को साझा किया था?

नाम न छापने की शर्त पर मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा – “संपूर्ण जीएसटीएन बोली प्रक्रिया एक बनावटी प्रक्रिया है और यह एक घोटाला है। या तो सभी फाइलें – सभी प्रासंगिक दस्तावेज और आपत्तियां – सार्वजनिक तौर पर रखा जाए या उन्हें केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को सौंप दें। बहुत से दबे सच बाहर आएंगे ”

एक कम ज्ञात तथ्य यह है कि अधिया अपने गुजरात के दिनों से भी जीएसटीएन के साथ जुड़े हुए हैं जब वह अतिरिक्त मुख्य सचिव (वित्त प्रभार) थे। अब जीएसटीएन से जुड़े सभी लोगों में, अधिया का सबसे लंबा संबंध रहा है।

सरकार की जीएसटीएन में 49% हिस्सेदारी है, लेकिन इससे पहले ही चिदंबरम द्वारा शुरू की गई परियोजना के लिए पहले से ही 5000 करोड़ रूपए दिया गया है। जब इस तरह के एक बड़े व्यय को सरकारी खजाने से लिया जाता है, तो क्या सीएजी को इस मामले में गहराई से पूछताछ नहीं करनी चाहिए?

सीएजी मुख्यालय में एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर पीगुरूज को बताया कि जीएसटीएन निविदाएं पूरी कर ली गयी हैं और वे किसी भी जानकारी के लिए गुप्त नहीं हैं, इस संबंध में हिसाब-किताब की जाँच को भूल जाओ। हसमुख अधिया राष्ट्र से क्या छुपाने की कोशिश कर रहा है?

क्या उन्हें लगता था कि प्रधानमंत्री हर किसी पर – अधिया से लेकर – जो भी इस जीएसटीएन गंदगी के लिए जवाबदेह और जिम्मेदार है, कार्यवाही करेंगे?

सीएजी अधिकारी के मुताबिक यह निविदा, कॉमनवेल्थ गेम्स (सीडब्ल्यूजी) में निविदा घोटाले के साथ कई समानताओं की बात करती है, जिसने राष्ट्र का ध्यान आकर्षित किया। सीडब्ल्यूजी के मामले में एक निजी संस्था को निविदाएं भी दी गईं थीं और मानदंडों के उल्लंघन भी हुए और यह जीएसटीएन के मामले में भी हुआ है।

क्या जीएसटीएन सीडब्ल्यूजी के मार्ग पर जा रहा है? अगर सभी फाइलों को खंगाला जाता है, तो सच सामने आयेगा।
सीएजीऑडिट – इस बिल्ली के गले में घण्टी कौन बांधेगा? क्या यह सच है कि जीएसटी फ़ाइलों और जीएसटीएन डेटा पर सीएजी और हसमुख अधिया के कार्यालय के बीच एक गन्दी लड़ाई चल रही है? क्या यह सच है कि कुमावत जो वित्त मंत्रालय में जीएसटीएन के मामलों का संचालन करते हुए संयुक्त सचिव हैं, उन्होंने सभी विवरणों को दबा दिया है और सीएजी के साथ सहयोग नहीं कर रहे हैं?

क्या यह कहना सही है कि कुमावत, अधिया के सख्त निर्देशों के तहत काम कर रहे हैं? क्या यही वजह है कि कुमावत के लिए अधिया एक ताकतवर बाध्य हैं?

अधिया ने मुखोटे के पीछे से कहा कि सीएजी के पास जीएसटीएन का ऑडिट करने की ताकत है, जबकि एक कुटिल और चतुर चाल में उन्होंने सीएजी की पहुँच को केवल जीएसटीएन बोर्ड के फैसले के ऑडिट के लिए सीमित कर दिया। यह वास्तव में लेखा परीक्षक को अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों जैसे बोली प्रक्रिया, संबद्ध फाइलों और वित्त मंत्रालय में सभी संबंधित जीएसटीएन मुद्दों से दूर रखने का एक तरीका है। सीएजी ऑडिट से दूर रखने वाले सरकारी खजाने से जुड़े सभी खर्चों के संबंध में सभी वित्तीय मुद्दे क्यों हैं?

क्या ऐसा करने के लिए जानबूझकर एक खाँचा तैयार किया गया ताकि सीएजी तमाम गैरकानूनी स्थितियों का खुलासा न सकें, जिसमें जीएसटीएन ढका हुआ है? जीएसटीएन ऑडिट में मुनाफा कहाँ पहुँचता है? क्या यह सच है कि जो सीएजी अधिकारी जीएसटीएन से संबंधित कठिन प्रश्नों को प्रस्तुत करते हैं या तो वित्त सचिव अधिया द्वारा धमकाये गए या चुप कराये जा रहे हैं? सीएजी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीगुरूज को बताया कि उत्तरी ब्लॉक में हुई एक बैठक में, अदिया ने सीएजी अधिकारियों का अपमान किया और उनकी क्षमता पर सवाल उठाते हुए और अधिक महत्वपूर्ण, जीएसटीएन के लेखापरीक्षा की आवश्यकता पर भी सवाल उठाए।

1400 करोड़ रुपये वास्तविक उपयोगकर्ता शुल्क – केंद्रीय मंत्रिमंडल पर एक धोखाधड़ी?

जीएसटीएन को करदाताओं द्वारा भुगतान किया जाने वाला वास्तविक उपयोगकर्ता शुल्क केन्द्रीय और राज्य सरकारों द्वारा साझा किया गया है। दिलचस्प है, अधिया द्वारा 1400 करोड़ रुपये की राशि को मंजूरी दी गई थी। इस मामले में 1000 करोड़ रुपये से अधिक का खर्च शामिल है, नियमों के अनुसार यह केंद्रीय कैबिनेट के सामने क्यों नहीं रखा गया है? क्या यह कैबिनेट के साथ धोखा नहीं है?

क्या वित्त सचिव अधिया अवैध रूप से इस अनुमोदन में शामिल थे और अपने आदेश को आगे बढ़ाया? क्या यह उसी तरह का मामला है जैसा पी चिदंबरम ने एयरसेल मैक्सिस घोटाले में विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) की मंजूरी में किया? चिदंबरम ने स्वयम्भू बनकर एयरसेल-मैक्सिस मामले में एफआईपीबी मंजूरी के बिना आर्थिक क्लीयरेंस (सीसीईए) की कैबिनेट समिति को प्रस्ताव भेजे बिना मंजूरी पर फैसला किया। अधिया ने कुछ ऐसा ही किया है, नियमों के निरर्थक उल्लंघन के मामले में यह मामला सामने आया है। क्या अधिया ने वित्त मंत्री अरुण जेटली को लूप में रखा है? व्यय विभाग को नजरअंदाज क्यों किया गया और वहां के अधिकारियों को नोट शीटों पर पुनर्विचार करने और फिर से लिखने को क्यों मजबूर किया गया? क्या यह सच है कि व्यय अधिकारियों की दो आपत्तियों को गुप्त रूप से फाइलों से हटा दिया गया और उन्हें अपनी राय फिर से लिखने के लिए कहा गया? क्या व्यय विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने अधिया के इस प्रस्ताव पर आपत्ति जताई क्योंकि उन्होंने इस पूरी प्रक्रिया को वापस चलाया था? केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा दिये इस प्रस्ताव को दबाने के के पीछे उनकी क्या आवश्यकता थी? क्या उन्हें लगता था कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी विशेष रूप से जीएसटीएन के आसपास के विवादों के प्रकाश में इसे मंजूरी नहीं देंगे? क्या उन्हें लगता था कि प्रधानमंत्री हर किसी पर – अधिया से लेकर – जो भी इस जीएसटीएन गंदगी के लिए जवाबदेह और जिम्मेदार है, कार्यवाही करेंगे?

जीएसटीएन के लिए सामान्य वित्तीय नियम (जीएफआर) प्रयोज्यता
जीएसटीएन से संबंधित हर व्यय का भुगतान सरकारी खज़ाने से किया गया है। निजी हितधारकों ने जीएसटीएन के खर्चों के लिए कुछ भी योगदान नहीं दिया है। यह मामला है, जीएसटीएन ने अहंकार से हंसमुख अधिया के अनौपचारिक निर्देशों पर वित्त मंत्रालय को “सूचित” करने का निर्णय लिया कि जीएफआर उन पर लागू नहीं किया जा सकता है।

जून 2017 में जीएसटीएन की तैयारी के लिए प्रधान मंत्री की अध्यक्षता वाली बैठक में, अधिया ने प्रधानमंत्री से झूठ कहा कि जीएसटीएन पूर्ण रूप से तैयार है?

जीएफआर एक ऐसा नियम है जिसे केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंजूरी दे दी है जो कि किसी भी व्यय को नियंत्रित करता है, जो कि खजाने से किया जाता है। यह भरोसेमंद सूत्रों से पता चला है कि अधिया ने जीएसटीएन को जीएफआर के गैर-प्रयोज्यता को मंजूरी दी है और इसके बदले जीएसटीएन ने खुद ही तैयार किए गए नियमों का एक समूह स्वीकार कर लिया है। क्यों श्री अधिया और आपके पास यह करने की शक्ति है? क्या वित्त मंत्री या वित्त सचिव को केंद्रीय मंत्रिमंडल के निर्णय को काटने की शक्ति प्राप्त है जिसमें, जीएसटीएन के लिए जीएफआर की प्रयोज्यता के रूप में महत्वपूर्ण बताया गया है, जिसमें राजकोष से 5000 करोड़ रुपये से अधिक खर्च किया गया है? केंद्रीय मंत्रिमंडल के साथ एक और धोखाधड़ी?

क्या यह सही है कि कुमावत के नीचे काम कर रहे सभी अधिकारियों ने इस फाइल को संभालने से इस लीक पर चलने से इनकार कर दिया और अदिया द्वारा वांछित नोट पत्रक तैयार किये? आज तक जीएसटीएन ने सरकारी खजाने से 5000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। उनसे जीएफआर का पालन करने की उम्मीद क्यों नहीं की जा रही है? जब वे नए नियमों को तय करने का निर्णय लेते हैं (अपनी स्वयं की इक्षा के नियमों और शर्तों पर) तो केंद्रीय कैबिनेट लूप में क्यों नहीं था?

जीएसटी से जूझने वाले किसी भी व्यापारी, वकील, चार्टर्ड एकाउंटेंट या नौकरशाह से बात करें। एक बात जो कि वे सब सहमत हैं – उनके वैचारिक अर्थों के बावजूद यह है कि – जीएसटीएन एक आपदा है। यह समय है कि सरकार आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक और अन्य निजी वित्तीय कंपनियों जैसे निजी बैंकों को कर संग्रह की गतिविधि से बाहर ले जाकर जीएसटीएन को पूरी तरह से अपने स्वामित्व में ले ले, जो लोकतांत्रिक देश में सरकार का सबसे जरूरी काम है। जीएसटीएन की स्वामित्व संरचना निम्नानुसार है:

जीएसटीएन के बारे में बहुत कुछ बोला और लिखा गया है, पीगुरूज द्वारा विभिन्न लेखों के जरिए, जीएसटीएन की कहानी को समय की अवधि में प्रलेखित किया गया है। नौ महीनों के बाद भी, जीएसटीएन के मामले में शायद ही कोई प्रगति दिखाई दी है।

प्रसिद्ध कर अधिवक्ता और संवैधानिक विशेषज्ञ अरविंद दातार ने सरकार को विनाशकारी प्रभाव के बारे में चेतावनी दी, जो जीएसटी हमारी अर्थव्यवस्था पर डाल सकता है। भाजपा नेता और अर्थशास्त्री सुब्रह्मण्यम स्वामी ने बार-बार गंभीर मुद्दों पर सवाल खड़े किए हैं जो राष्ट्रीय सुरक्षा और आर्थिक अखंडता को लेकर चिंतित हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी और सूचनाओं की सुरक्षा

जब कैंब्रिज एनालिटिका और डेटा चोरी / उल्लंघनों के मामले सुर्खियां बना रहे हैं और भारत सरकार कई मोर्चों पर नुकसान को नियंत्रित करने के प्रयास कर रही है, तो डेटा सुरक्षा और जीएसटीएन से संबंधित मुद्दों पर एक मौन छाया है। क्यों श्री अधिया? क्या जीएसटीएन से संबंधित सभी सुरक्षा मामलों पर कोई बहस नहीं होनी चाहिए? सीबीईसी को जीएसटीएन के डेटा के ढेर क्यों नहीं उपलब्ध कराया जा रहा है? सीबीई को जानबूझकर डेटा उपलब्ध न कराने के लिए अधिया ने जीएसटीएन को निर्देशित क्यों किया है? सीबीईसी से ज्यादा जीएसटीएन जैसी एक विशेष स्वार्थ पूरक संस्था पर भरोसा करने का क्या कारण है? पीगुरूज को सीबीईसी फाइलों की कई नोट शीट्स मिली हैं, जिसमें जीएसटीएन से संबंधित चिंताओं के बारे में गर्म बहस हुई है। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, जिन्होंने नाम न छापने की शर्त पर बात की, अधिया हमेशा इसे चालाकी से छुपाता है और यहां तक कि उन्मादी भी हो जाता है।

जीएसटीआर 3 बी – राष्ट्र के लिए अधिया का झूठ?
क्या जून 2017 में हुई बैठक में हसमुख अधिया ने जीएसटी परिषद से झूठ बोला? जीएसटीआर 3 बी पर जीएसटी कानून के तहत कभी भी विचार नहीं किया गया। अधिया ने जीएसटी परिषद की बैठक में अचानक एक घोषणा की जिसमें कहा गया है कि व्यापार और उद्योग को सुविधाजनक बनाने के लिए एक सरल रिटर्न शुरू किया जा रहा है और जीएसटी 1-2-3 रिटर्न उपयुक्त समय पर होगा। अंदरूनी सूत्रों के अनुसार मामले का तथ्य यह है कि जीएसटीएन तीन रिटर्न के साथ तैयार नहीं था जिसके लिए नई रिटर्न तैयार करने की आवश्यकता थी, जीएसटीआर 3 बी। जून 2017 में जीएसटीएन की तैयारी के लिए प्रधान मंत्री की अध्यक्षता वाली बैठक में, अधिया ने प्रधानमंत्री से झूठ कहा कि जीएसटीएन पूर्ण रूप से तैयार है? अगर जीएसटीएन पहले दिन से ही तैयार था, जैसा कि अधिया ने हमेशा दावा किया, तो फिर 8 महीने के बाद भी यह खराब प्रदर्शन क्यों है? सच क्या है? क्या यह सच है कि विशाल सिक्का ने वित्त मंत्री अरुण जेटली और हसमुख अधिया को सूचित किया कि इंफोसिस रिटर्न के साथ तैयार नहीं है, के बाद जीएसटीआर 3 बी का फैसला किया गया था? क्या अधिया ने यह जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय से छुपाई, और उस मीटिंग में भी जिसकी अध्यक्षता खुद प्रधानमंत्री ने की थी?

टैक्स रिटर्न चक्र के पतन
यह एक खुला रहस्य है कि रिटर्न चक्र – जीएसटीआर 1-2-3 – जैसा कि जीएसटी कानून में परिकल्पित है, ढह गया। विस्तार पर विस्तार सिर्फ एक बहाना है जो अधिया सिर्फ समय व्यतीत करने के लिए कर रहे हैं। कब दुनिया को यह वास्तविकता बताएंगे? व्यापार और उद्योग काफी पीड़ित हुआ है? क्या उन्हें इस पीड़ा और दुख से अभी और जूझना होगा, जब तक अधिया अपने करियर में आगे बढ़ने के लिए अपनी नग्न महत्वाकांक्षाओं को हासिल नहीं कर लेता?

जीएसटी के संदिग्ध और विचित्र कार्यान्वयन से प्रभावित लोग अधिया पर पूर्ण बल के साथ प्रहार कर रहे हैं।

क्रेडिट मामले
ऋण संक्रमण से जुड़े मामले और उपयोग किए गए ऋण जीएसटी कार्यान्वयन के बाद का सबसे बड़ा दर्द बिंदु है। एक जीएसटी अधिकारी ने पीगुरूज को सूचित किया है कि कई उदाहरण हैं जहां करदाताओं को गलत तरीके से कर आवंटित किया गया है और फाइल में विश्लेषण किए जाने के दौरान अधिया ने इन मुद्दों को दबा दिया है। ऐसा प्रतीत होता है कि आदिया ने सीबीईसी अधिकारियों के साथ दुर्व्यवहार किया है और यहां तक कि अधिकारियों को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी है यदि वे जीएसटीएन के खिलाफ बोलते हैं। क्या ये सच है?

गलतियों का सुधार
गलती करना मानव का स्वभाव है। जीएसटीएन के अनुसार ऐसा नहीं है। यदि आप रिटर्न दाखिल करते समय गलती करते हैं, तो अपनी गलतियों को सुधारने के लिए कोई तत्काल तंत्र नहीं है। जब एक व्यापारी ने अधिया से इस मामले की शिकायत की, तो उन्होंने अहंकार से जवाब दिया – आप गलती क्यों करते हैं? इसे सही तरीके से करना सीखो! श्री अधिया, जीएसटीएन की घंटी कौन बांधेगा?

निर्यातक और उनकी दुर्दशा
निर्यातकों की एसोसिएशन के एक वरिष्ठ सदस्य ने हमें बताया है कि अधिया को निर्यातकों की रिफंड की समस्या को हल करने का कोई इरादा नहीं है, जो कार्यशील पूंजी को अवरुद्ध कर रहे हैं। उनकी दुर्दशा एक अंतहीन सर्कस में बदल गई है। क्या प्रकाशिकी और मीडिया प्रबंधन में शामिल होने के अलावा वित्त मंत्रालय में किसी को इस बारे में कोई चिंता है?

नेतृत्व का अभाव
यदि कोई केस स्टडी है तो किसी प्रोजेक्ट को कार्यान्वित न करने के बारे में दस्तावेज बनने की आवश्यकता है – अधिया और जीएसटी एकदम सही उदाहरण होंगे। एक आश्चर्यजनक कदम, उनकी मंडली द्वारा चमत्कारी कदम के रूप में पेश किया गया था, अधिया ने अतिरिक्त कार्यभार संभाला, जीएसटीएन के अध्यक्ष होने की जिम्मेदारी। दो सप्ताह की अवधि में, अराजकता की राक्षसता को महसूस करते हुए, वह भाग गए और जीएसटीएन को एबी पंडे के हाथों में डाल दिया, जो हर रोज घोटालों में होते हैं जो कि आधार परियोजना में हुआ है।

अंतत अब हम देख रहे हैं कि आधीया ट्विटर पर चुप्पी साधे हुए हैं और पहले की तरह लोगों से वार्तालाप नहीं करते। जीएसटी के लागू होने से पहले तो आधीया ट्विटर पर बहुत ही सक्रिय रहा करते थे। ये ही नहीं बल्कि वह देर रात में भी लोगों के प्रश्न के उत्तर देने मे नहीं चूकते थे। उनके सकारात्मक बर्ताव से व्यापारी वर्ग काफी खुश था। लेकिन फिर, जीएसटी अराजकता के बाद, वह ट्विटर से लगभग गायब हो गये। कारण? जीएसटी के शुभारंभ के बाद से इस बारे में किसी भी चिंतित जवाब-पत्र, आरोपों और गलियों के साथ उत्तर दिया गया है। जीएसटी के संदिग्ध और विचित्र कार्यान्वयन से प्रभावित लोग अधिया पर पूर्ण बल के साथ प्रहार कर रहे हैं। अधिया के लिए यह भुगतान वापसी का समय है।

क्या अधिया इन महत्वपूर्ण सवालों पर जनता को जवाब देंगे? यह राष्ट्र हित में है कि जीएसटीएन पर एक सूचित बहस हो।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.