उत्तर प्रदेश: सब का प्रदेश

अगर प्रदेश के विकास की बात करें तो सड़को का जबरदस्त नेटवर्क, बहुत से मेडिकल स्कूल्स का बन जाना और उस से सभी के लिये बीमारी के इलाज की सुविधा, सहारनपुर में विश्वविद्यालय, जगह-जगह मेट्रो की सुविधायों में वृद्धि, जेवर में सबसे बड़ा हवाई अड्डा आदि कुछ उदाहरण है

0
548
उत्तर प्रदेश - सबका प्रदेश
उत्तर प्रदेश - सबका प्रदेश

उत्तर प्रदेश की बदलती तस्वीर

सबका प्रदेश है उत्तर प्रदेश, क्योंकि 2017 से “सबका विकास” एक वास्तविकता हो गयी है। मैं सहारनपुर जनपद के एक गांव में पैदा हुआ और लगभग 44 वर्षों से अब अमेरिका में रह रहा हूँ। लेकिन मैं प्रतिवर्ष भारत आता हूँ और अधिकतम समय अपने गांव (कोटा) में बिताता हूँ। इस लेख का ध्येय है अपने अनुभव लिखना जो मैंने देखे हैं।

आज की लॉ एन्ड आर्डर व्यवस्था बहुत ही अच्छी और सराहनीय है। पहले रात को बाहर जाने में सुरक्षा की चिंता होती थी जो कि 2017 के बाद अच्छी हो गई है। विशेष रूप से लड़कियों/ महिलाओं की सुरक्षा में काफी फर्क आया है।

पहले बिजली का बहुत अभाव था। हमारे गांव में बिजली आने-जाने का कोई निश्चित समय नहीं था। आज बिजली लगभग जाती ही नहीं है। इससे बच्चों की पढ़ाई, खेतों में सिंचाई (tubewell से), घर में और सड़कों पर रोशनी और सुरक्षा, सभी के व्यापार/ कारखानों में वृद्धि हुई है।

आज आम आदमी में राष्ट्रवाद की भावना जाग रही है और इस के कारण सत्ता का मिजाज भी बदल रहा है। मेरी सोच है कि बहुत समय से आंतरिक गद्दारों ने उत्तर प्रदेश और देश का सत्यानाश किया है। पिछले 4-5 वर्षों में इन गद्दारों पर  नियंत्रण लगने से प्रदेश के लॉ एंड ऑर्डर में काफी सुधार हुआ है। आप सोचें कि कोई भी साम्प्रदायिक दंगे क्यों नहीं हुये हैं? क्योंकि दंगा करने वाले समझ गये हैं कि प्रदेश बदल रहा है।

मैं अपने जिले में विद्या ज्ञान इंडिया नामक एनजीओ के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के सरकारी स्कूलों में जाता हूँ और उनकी सहायता करते हूँ। मैं निश्चित रूप से कह सकता हूँ कि बच्चों की पढ़ाई और स्कूलों की सुविधायें अच्छी हुई हैं। आवश्यकतायें बहुत हैं लेकिन सरकार निरन्तर प्रयत्नशील है। खेद का विषय है कि आज के सभी अध्यापक अपनी जिम्मेदारी पूर्व रूप से नहीं करते क्योंकि उनकी जवाब देही बहुत कम है। अध्यापकों का माता/ पिता से सम्पर्क कम है और सरकार भी उनको पढ़ाई के साथ-साथ अन्य जिम्मेदारी देती है।

अगर प्रदेश के विकास की बात करें तो सड़कों का जबरदस्त नेटवर्क, बहुत से मेडिकल स्कूल्स का बन जाना और उस से सभी के लिये बीमारी के इलाज की सुविधा, सहारनपुर में विश्वविद्यालय, जगह-जगह मेट्रो की सुविधायों में वृद्धि, जेवर में सबसे बड़ा हवाई अड्डा आदि कुछ उदाहरण है। व्यक्तिगत रूप से, 5 साल पहले दिल्ली से गाँव जाने के लिये कम से कम 6 घंटे लगते थे, लेकिन आज यह यात्रा 3-4 घंटे में हो सकती है।

अगर मैं संक्षेप में कहूँ तो आज का भारत और उत्तर प्रदेश सफलता की ओर और प्रगतिशील हैं और जातिवाद तथा परिवारवाद से भी बाहर निकल रहा हैं। अगर धर्म निरपेक्षता की बात करें तो उस में भी अगर उच्चतम न्यायालय के आदेश से राम मंदिर बना है तो प्रदेश सरकार ने मस्जिद के लिये भी जमीन निर्धारित की है। बनारस में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के लिये वहाँ की मस्जिद को सुरक्षित रखा गया है। मेरी सोच है कि प्रदेश में जो भी सुविधायें जैसे प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत घर, शौचालय, कुकिंग सिलिंडर, पानी के नल, राशन आदि देने में धर्म के आधार पर कोई भेद्‌भाव नही किया गया।

अगर आज की उत्तम व्यवस्था में हमारा प्रदेश सभी के सुख और समृद्धि की ओर गतिशील है तो हम इसी सरकार को कायम रखें। उत्तर प्रदेश के अच्छे भविष्य और विकास के लिये योगी जी की सरकार के बने रहने की आवश्यकता है। योगी जी उत्तर प्रदेश के लिये उपयोगी भी हैं और उनके कर्मयोग से प्रदेश में कर्मयोगिता भी बढ़ेगी।

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.