ईडी ने बड़े विमानन घोटाले में चिदंबरम को समन भेजा

क्या 2G- घोटाला और एतिहाद को एयर इंडिया के विमान बेचना आपस में सम्बंधित हैं? ईडी द्वारा चिदंबरम को भेजे समन में इससे संबंधित सवाल पूछा हो सकता है!

1
661
ईडी ने बड़े विमानन घोटाले में चिदंबरम को समन भेजा
ईडी ने बड़े विमानन घोटाले में चिदंबरम को समन भेजा

भ्रष्ट पूर्व वित्त और गृह मंत्री पलानियाप्पन चिदंबरम के चारों ओर यह शिकंजा कसता जा रहा है। एयरसेल-मैक्सिस और आईएनएक्स मीडिया रिश्वत मामलों के बाद, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उन्हें यूपीए के दौरान 70,000 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के 111 विमान खरीद में काले धन को वैध बनाने के मामले की जांच के सिलसिले में तलब किया है। चिदंबरम को 23 अगस्त को जांचकर्ताओं के सामने पेश होने के लिए कहा गया है।

इस बीच, मंगलवार को आईएनएक्स-मीडिया रिश्वत मामले में गिरफ्तारी से एक साल से अधिक के अंतरिम संरक्षण में दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा दोपहर में आदेश पारित करने की उम्मीद है। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने चिदंबरम से हिरासत में पूछताछ की आवश्यकता के लिए अदालत से मांग की है।

विमानन घोटाले में, पूर्व नागरिक उड्डयन मंत्री प्रफुल्ल पटेल से पहले ही एजेंसियों द्वारा पूछताछ की गई थी। हाल ही में भगोड़े पैरवीकार दीपक तलवार के निर्वासन के बाद मामले को पुनर्जीवित किया गया।चिदंबरम से कथित बहु-करोड़ विमानन घोटाले और हवाई स्थान के प्रतिष्ठापन के अनियमितताओं की वजह से एयर इंडिया को हुए नुकसान पर बहुत समय तक अच्छी तरह से पूछताछ की जाएगी।

उन पर राष्ट्रीय विमान सेवाओं के लिए लगभग 70,000 करोड़ रुपये की लागत वाले 111 विमानों की खरीद से जुड़े सवालों पर भी शिकंजा कसने की उम्मीद है। नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने 2011 में 111 हवाई जहाज – एयरबस से 48 और बोइंग से 68 – एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस के लिए 2006 में लगभग 70,000 करोड़ रुपये के ऑर्डर देने के सरकार के फैसले के औचित्य पर सवाल उठाया था।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

चिदंबरम मंत्रियों के एक सशक्त समूह का संचालन कर रहा था, जिसने 111 विमानों की इस संदिग्ध खरीद को मंजूरी दी थी। इस 70,000 करोड़ रुपए की खरीद ने वास्तव में एयर इंडिया के वित्तीय ढांचे को ध्वस्त कर दिया। बाद में चिदंबरम ने कम दरों पर एतिहाद को इन नई उड़ानों की बिक्री को भी मंजूरी दे दी, जिससे भारी नुकसान हुआ।

माना जाता है कि दीपक तलवार इस बड़े नागरिक विमानन सौदे में रिश्वत लेनदेन करने वाले के रूप में था और उसकी कंपनियों के माध्यम से पैसे का लेनदेन किया गया था। एयर एशिया के लिए संदिग्ध एफआईपीबी मंजूरी में चिदंबरम की भूमिका भी एजेंसियों के रडार के तहत है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.