दिल्ली परिणाम: कहानी दो पराजितों की

दिल्ली के मतदाताओं ने फिर से राष्ट्रीय दलों को आईना दिखाया है - एक जिसने नेतृत्व निर्माण में विश्वास नहीं किया और दूसरा वह जिसने आत्महत्या कर ली।

0
1621
दिल्ली के मतदाताओं ने फिर से राष्ट्रीय दलों को आईना दिखाया है - एक जिसने नेतृत्व निर्माण में विश्वास नहीं किया और दूसरा वह जिसने आत्महत्या कर ली।
दिल्ली के मतदाताओं ने फिर से राष्ट्रीय दलों को आईना दिखाया है - एक जिसने नेतृत्व निर्माण में विश्वास नहीं किया और दूसरा वह जिसने आत्महत्या कर ली।

दिल्ली विधानसभा चुनाव में बुरी तरह हार होने के तुरंत बाद, कांग्रेस पार्टी ने कहा कि वह परिणामों से निराश है लेकिन उदास नहीं है। वास्तव में, उसे निराश भी नहीं होना चाहिए। इसने हारने के लिए कड़ा संघर्ष किया था और सफल रही। 2015 के शून्य-सीट के प्रदर्शन को दोहराना आसान काम नहीं था। न केवल कांग्रेस ने उस करतब को बरकरार रखा, बल्कि लगभग सभी उम्मीदवारों ने अपनी सुरक्षा जमा राशि (जमानत) जब्त कराई। इसके अलावा, इसका वोट-शेयर 2015 के लगभग आधे स्तर तक गिर गया।

चुनाव प्रक्रिया की शुरुआत से सभी संकेत इशारा कर रहे थे कि कांग्रेस मुकाबले को लेकर गंभीर नहीं थी और केवल औपचारिकता के रूप में मैदान में थी। इसने उन उम्मीदवारों को चुना जो पहले ही बदनाम हो चुके थे, केंद्रीय स्तर के इसके वरिष्ठ नेतृत्व ने रैलियों और बैठकों में केवल अतिथि के रूप में अपना चेहरा दिखाया, इसने चुनावों के लिए दिल्ली प्रमुख के रूप में एक खराब ट्रैक रिकॉर्ड वाले व्यक्ति को नियुक्त किया था, और इसने इस धारणा को छोड़ने का कोई प्रयास नहीं किया कि इसने लड़ाई शुरू होने से पहले ही हार मान ली थी। मतदान समाप्त होने के बाद रहस्य उजागर कर दिया गया, जब कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं ने टिप्पणी की कि वे नहीं चाहते थे कि भाजपा विरोधी वोट विभाजित हो जाएं और भाजपा के लिए लाभप्रद हो।

कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व के रवैये ने जमीनी स्तर पर पार्टी के सामान्य कार्यकर्ताओं के मनोबल को भारी नुकसान पहुंचाया। इसने उन उम्मीदवारों को भी निराश किया जो अपने बड़े नेताओं के पूर्ण समर्थन की उम्मीद कर रहे थे। भाजपा को पराजित देखने की उनकी ज्वलंत इच्छा में, कांग्रेस का नेतृत्व एक फिसलन भरे पथ पर नीचे चला गया, जो पार्टी की मृत्यु की ओर इशारा करता है।

एक पार्टी जिसने शीला दीक्षित के नेतृत्व में लगातार तीन बार दिल्ली पर शासन किया और आजादी के बाद से ज्यादातर समय भारत पर शासन किया, ने आम आदमी पार्टी (आप) के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। यह मानती है कि ऐसा करने से इसने नाटकीय रूप से भाजपा को नुकसान पहुंचाया है। इसे एहसास नहीं है कि जबकि भाजपा निकट भविष्य में वापस उभर सकती है, लेकिन इस तरह की रणनीति यह सुनिश्चित करेगी कि कांग्रेस कभी भी अपनी खोई हुई महिमा को हासिल न करे।

अगर कांग्रेस गंभीर होती, तो वह आप को टक्कर दे सकती थी, खासकर मुस्लिम समुदाय के वर्चस्व वाले निर्वाचन क्षेत्रों में। हो सकता है कि अल्पसंख्यक वोटों में विभाजन के कारण भाजपा को कुछ लाभ हो जाता, लेकिन कांग्रेस भी मैदान जीत सकती थी – और कुछ सीटों पर जीत भी हासिल कर सकती थी। लेकिन इसका शीर्ष नेतृत्व स्पष्ट रूप से मानता है कि भाजपा को सत्ता प्राप्त होने की तुलना में कांग्रेस का शून्य पर रहना बेहतर है। पार्टी ने केंद्र की सत्तारूढ़ पार्टी को नुकसान पहुंचाने के लिए खुद को मारना पसंद किया। विचार आता है कि पार्टी का जमीनी कार्यकर्ता, जिसने कांग्रेस के लिए अपना सब कुछ दिया, वह इस ‘बलिदान’ को कैसे देखता है।

बेशक, आधिकारिक तौर पर, कांग्रेस ने यह आरोप खारिज कर दिया कि उसने जानबूझकर अपना सबसे अच्छा प्रदर्शन नहीं दिया। क्या तब हम यह मान सकते हैं कि इसका सबसे अच्छा प्रयास केवल शून्य संख्या में सीटों का परिणाम हो सकता है? अगर वास्तव में ऐसा ही है, तो पार्टी दिल्ली में अपना बोरिया बिस्तर बांध सकती है और अपने कार्यकर्ताओं को अन्यत्र स्थानांतरित होने के लिए स्वतंत्र कर सकती है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

भाजपा का प्रदर्शन भी निराशाजनक रहा है – और केवल कांग्रेस की तुलना में बेहतर है। इसने अपनी सीट संख्या को मामूली रूप से बढ़ाने में कामयाबी हासिल की, हालांकि इसका वोट-शेयर काफी बढ़ गया (लेखन के समय आंकड़ों के हिसाब से)। कांग्रेस के विपरीत, यह दम से लड़ी, लेकिन ऐसे मुद्दों पर जो मतदाताओं के साथ पूरी तरह से सम्बंधित नहीं थे। जबकि आप ने दिल्ली के लोगों को पानी, बिजली, परिवहन, स्वास्थ्य – बुनियादी सेवाओं के वितरण में अपनी उपलब्धियों के बारे में बताया, कुछ भाजपा नेताओं ने इस प्रतियोगिता को भारत-पाकिस्तान मैच करार दिया। उनमें से एक ने तो अरविंद केजरीवाल की एक आतंकवादी से तुलना करने में भी कसर नहीं छोड़ी।

बीजेपी ने शाहीन बाग घटना के मद्देनजर अपने पक्ष में जो ध्रुवीकरण की उम्मीद की थी, वह नहीं हुआ। हालांकि अल्पसंख्यक मतदाता आप के साथ बने रहे, लेकिन अन्य सामुहिक रूप से भाजपा के साथ नहीं गए। विरोध स्थल पर भारत विरोधी नारे लगाने वालों ने भाजपा के हित में काम किया होता यदि यह एक राष्ट्रीय चुनाव होता। लेकिन स्थानीय मुद्दों के प्रभुत्व के साथ, आप के खिलाफ काम करने में रणनीति विफल रही। मीडिया में यह बताया गया कि केजरीवाल ने मतदाताओं से कहा था कि वे केंद्र में मोदी का समर्थन कर सकते हैं लेकिन स्थानीय मुद्दों पर उनकी पार्टी के प्रदर्शन के बल पर दिल्ली में आप को वोट दें।

आप के पास स्थानीय मामलों में जोर देने का एक सार्थक कारण था – भाजपा द्वारा नियंत्रित नगर निगमों का खराब प्रदर्शन। भाजपा के पास चीजों को सुधारने और यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त समय था कि निगम कुशलता से काम करें और गुणवत्ता वाली नागरिक सुविधाएं आम आदमी को पहुँचाई जाएं। ऐसा कभी नहीं हुआ और पार्टी ने विफलता की कीमत चुकाई।

यदि भाजपा के संदेश को गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया था, तो मजबूत स्थानीय नेता की अनुपस्थिति ने हालात को और भी बदतर बना दिया था। पार्टी ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को अपनी किस्मत को पुनर्जीवित करने के लिए, और उनकी रैलियों से पार्टी को कुछ सीटें हासिल करने में मदद करने पर भरोसा किया। लेकिन मतदाताओं के मन स्पष्ट थे: उन्होंने केंद्र में मोदी का समर्थन किया, लेकिन भाजपा के एक स्थानीय चेहरे की जरूरत थी जो केजरीवाल का एक विकल्प हो सके। दिल्ली भाजपा प्रमुख और सांसद मनोज तिवारी को एक विश्वसनीय विकल्प के रूप में नहीं देखा गया। भाजपा यह तर्क दे सकती है कि किरण बेदी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में होने के बावजूद वह 2015 में हार गई थी। हालाँकि, यह उनकी वजह से नहीं बल्कि जिस जल्दबाजी में उनको उम्मीदवार के रूप में प्रस्तुत किया गया उसकी वजह से हार हुई थी; वास्तव में, मतदाताओं ने इसे हार की कगार पर खड़ी एक पार्टी द्वारा हताशा में उठाये गए कदम के रूप में देखा था। यह याद रखना चाहिए कि शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश करने के बाद कांग्रेस के पास दिल्ली में अपना लंबा कार्यकाल था। भाजपा के पास भी अतीत में, मदन लाल खुराना और साहिब सिंह वर्मा जैसे स्पष्ट स्थानीय नेता थे।

एक शानदार अंतर से जीतने के बाद, मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनकी टीम के पास एक बड़ी जिम्मेदारी है। मतदाता निर्मोही है, और इसे असंतुष्ट होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। आप आत्मतुष्टि और अहंकार के गड्ढे में गिरने के जोखिम में जा सकती है। यह आने वाले दिनों में अपने आप को कैसे संचालित करती है और कैसे केंद्र के साथ अपने संबंधों को संभालती है, इसका भविष्य निर्धारित करेगा।

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.