ईडी ने फिर से राजनीतिक रूप से जुड़े लॉटरी सरगना सैंटियागो मार्टिन की 700 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति कुर्क की

क्या अब बीजेपी सैंटियागो मार्टिन के बेटे को निष्कासित कर देगी, क्योंकि ईडी ने दूसरी बार उसकी संपत्ति जब्त की है?

0
688
ईडी ने फिर से राजनीतिक रूप से जुड़े लॉटरी सरगना सैंटियागो मार्टिन की 700 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति कुर्क की
ईडी ने फिर से राजनीतिक रूप से जुड़े लॉटरी सरगना सैंटियागो मार्टिन की 700 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति कुर्क की

दूसरी बार कुख्यात लॉटरी सरगना सैंटियागो मार्टिन पर नकेल कसते हुए, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सोमवार को सिक्किम लॉटरी के संचालन से काले धन को वैध बनाने का गोरखधंधा जो दक्षिण भारत के राज्यों तक फैला है, से संबंधित धोखाधड़ी के संबंध में उसकी 700 करोड़ रुपये से अधिक की बाजार मूल्य की संपत्ति जब्त की। तमिलनाडु के कोयम्बटूर जिले में 88 भूखंडों और 61 फ्लैटों की कुर्की के लिए अनंतिम आदेश  ईडी ने लॉटरी सरगना सैंटियागो मार्टिन और उसके सहयोगियों के खिलाफ धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत जारी किया है। यद्यपि आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार इन संपत्तियों का मूल्य 119 करोड़ रुपये दिखाया गया है, बाजार मूल्य 750 करोड़ रुपये से अधिक होने का अनुमान है।

पहले की जब्ती में, ईडी ने विवादास्पद लॉटरी सरगना सैंटियागो मार्टिन के 138 करोड़ रुपये (800 करोड़ रुपये से अधिक का बाजार मूल्य) की संपत्ति जब्त की थी, सरगना जो डीएमके, कांग्रेस से लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) तक से राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। उसका बेटा चार्ल्स जोस मार्टिन, जिसका दुबई में बहुत बड़ा कारोबार है, को जून 2015 में भाजपा में शामिल किया गया था, शामिल करने वाला भाजपा नेता राम माधव के अलावा और कोई नहीं था, जो राजनीति में नैतिकता की दुहाई देते हैं।

मार्टिन के बेटे का भाजपा में शामिल होना तमिलनाडु भाजपा इकाई के लिए एक झटका था क्योंकि 2006 से वह और पिता सभी तरह के विवादों में फंसे हुए थे। राम माधव की सिफारिश के कारण, चार्ल्स को दिल्ली के मुख्यालय में भाजपा में शामिल किया गया था। यह लॉटरी सरगना के परिवार के सदस्यों की शक्ति को दर्शाता है, भले ही सत्ता में कोई भी हो [1]

Son of Santiago Martin joining BJP
Son of Santiago Martin joining BJP

यह राम माधव की मौजूदगी में भाजपा में शामिल होने की चौंकाने वाली तस्वीर थी, जिसमें राज्य की भाजपा इकाई की आपत्तियों को दरकिनार किया गया था। अब राम माधव का इस बारे में क्या कहना है?

सैंटियागो मार्टिन 2006 तक अड्डा चला रहा था जब घमंड के कारण वह एक सार्वजनिक समारोह में घुसा और मुख्यमंत्री मुथुवेल करुणानिधि के साथ दुर्व्यवहार किया। लोगों का कहना है कि डीएमके के कुछ नेताओं ने कुछ अनुबंधों का वादा करते हुए उससे पैसे लिए और जब ऐसा नहीं हो रहा था, तो वह नाराज हो गया, वह करुणानिधि के समारोह में उनसे वादा किए गए प्रोजेक्ट की संभावनाओं के बारे में पूछने के लिए घुस गया। इस घटना के बाद, मार्टिन एक भगोड़ा बन गया और बाद में जेल गया। तमिलनाडु की राजनीति के अंदर और बाहर जानने वाले लोगों का कहना है कि मार्टिन ने करुणानिधि के साथ समझौता करने के लिए बहुत पैसा बहाया था, जो कि डीएमके सुप्रीमो द्वारा लिखी गई फिल्म का वित्तपोषण करना था।

मार्टिन केरल में सीपीआई (एम) का प्रिय भी था। पार्टी के समाचार पत्र “देशाभिमानी” में निवेश के रूप में उससे दो करोड़ रुपये लेते हुए पार्टी के नेताओं को पकड़े जाने पर विवाद शुरू हो गया था। हालांकि, राज्य कांग्रेस इकाई मार्टिन के खिलाफ थी, पार्टी के वरिष्ठ नेता और जाने माने वकील अभिषेक मनु सिंघवी लॉटरी सरगना की वकालत की।

मार्टिन के रंक से राजा बनने की कहानी भी रहस्यमय है। वह श्रमिक ठेकेदार के रूप में काम करने के बाद 1988 में म्यांमार से भारत वापस आया। अचानक वह लॉटरी कानूनों में सेंध का उपयोग करते हुए सिक्किम, नेपाल और भूटान सरकार लॉटरी का सेवा प्रदाता या सुचालक बन गया। कई सरकारों द्वारा जनता के हित में 2005 तक लॉटरी पर प्रतिबंध लगाने के बाद उसे कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। यह व्यापक रूप से माना जाता है कि मार्टिन का लॉटरी व्यवसाय दक्षिण भारत के कई शक्तिशाली राजनेताओं द्वारा काले धन को सफेद में बदलने के लिए एक उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया गया था। मार्टिन के पास राजनेताओं की इक्षाएँ पूरी कर अपनी बात मनमाने का हुनर है। भाजपा के विचारक राम माधव की 2005 में हालिया चापलूसी नवीनतम थी, कई लोग कहते हैं। उससे मिलने वाले ढेरों विज्ञापनों की वजह से, मीडिया हाउसों ने भी इस कुख्यात लॉटरी सरगना की अवैधताओं पर चुप्पी साध ली।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

मार्टिन और उसकी कंपनी फ्यूचर गेमिंग सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड (अब फ्यूचर गेमिंग एंड होटल सर्विसेज लिमिटेड और पहले मार्टिन लॉटरी एजेंसीज़ लिमिटेड) को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की प्राथमिकी और आरोप-पत्र के आधार पर एक मामले का सामना करना पड़ रहा है। मार्टिन की लॉटरी का संचालन केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, नेपाल और भूटान में होता है, जिसमें 20,000 करोड़ रुपये तक के काले धन को वैध बनाने का धंधा शामिल हैं। पत्नी और बेटे सहित उसके परिवार के सदस्य उसके सभी विवादास्पद काले धन को वैध बनाने के व्यवसायों का हिस्सा हैं।

संदर्भ:

[1] Lottery king Santiago Martin’s son joins BJPJun 24, 2015, Indian Express

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.