कुटिल चिदंबरम मासूमियत का दिखावा करता है। आईएनएक्स मीडिया मामले के सरगना ने ट्वीट किया कि वह अकेले गिरफ्तार क्यों हुआ

क्या चिदंबरम जो जेल में दिन काट रहे हैं को ट्वीट करने की अनुमति देनी चाहिए, खासकर ऐसी भाषाओं में, जिन्हें वो जानते ही नहीं?

0
735
क्या चिदंबरम जो जेल में दिन काट रहे हैं को ट्वीट करने की अनुमति देनी चाहिए, खासकर ऐसी भाषाओं में, जिन्हें वो जानते ही नहीं?
क्या चिदंबरम जो जेल में दिन काट रहे हैं को ट्वीट करने की अनुमति देनी चाहिए, खासकर ऐसी भाषाओं में, जिन्हें वो जानते ही नहीं?

तिहाड़ जेल में जीवन के चौथे दिन, कुटिल पूर्व वित्त मंत्री पलान्यप्पन चिदंबरम ने सोमवार को परिवार सदस्यों के माध्यम से ट्वीट किया, जिसमें वे आश्चर्यचकित हो रहे हैं कि वह अकेले आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार क्यों किया गया, जबकि कई अधिकारियों ने विवादास्पद विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) मंजूरी की फाइल में हस्ताक्षर किए थे। मासूमियत को दिखाते हुए, भ्रष्ट पूर्व मंत्री ने कहा, वह एक दर्जन अधिकारियों के माध्यम से पारित फाइल में सिर्फ एक अंतिम हस्ताक्षरकर्ता था। यह उसके पहले ट्वीट से बिल्कुल उलट है, जहां उसने कहा था कि किसी भी अधिकारी ने कुछ भी गलत नहीं किया है और वह नहीं चाहते कि किसी को गिरफ्तार किया जाए।

“मैंने अपने परिवार से अनुरोध किया है कि वे मेरी ओर से निम्नलिखित ट्वीट करें: लोगों ने मुझसे पूछा है कि ‘यदि पूरी कार्रवाई करने और मामले की अनुशंसा आपसे करने वाले दर्जनों अधिकारियों को गिरफ्तार नहीं किया गया है, तो आपको क्यों गिरफ्तार किया गया है? केवल इसलिए कि आपने आखिरी हस्ताक्षर किया है?’ मेरे पास कोई जवाब नहीं है,” पी चिदंबरम द्वारा किये गए पहले ट्वीट में कहा गया, चिदम्बरम को अदालतों ने आईएनएक्स मीडिया घोटाले का “प्रमुख साजिशकर्ता” करार दिया है।

चिदंबरम और कार्ति के साथ सह-अभियुक्त बनने वाले ये शीर्ष अधिकारी सिंधुश्री खुल्लर, अनूप के पुजारी, प्रबोध सक्सेना (सभी आईएएस अधिकारी हैं, जिन्होंने आईएनएक्स मीडिया घोटाले के दौरान वित्त मंत्रालय में काम किया था) और सेवानिवृत्त अवर सचिव रवीन्द्र प्रसाद थे।

अधिकारियों पर दोष डालने के बाद, दूसरे ट्वीट में कुटिल चिदंबरम ने एक भ्रष्ट संतुलन कार्य किया : “किसी भी अधिकारी ने कुछ भी गलत नहीं किया है। मैं नहीं चाहता कि किसी को गिरफ्तार किया जाए।”

जल्द ही उसके सह-आरोपी बेटे कार्ति, जिसे पहली बार आईएनएक्स मीडिया घोटाले में गिरफ्तार किया गया था, ने अपने पिता (जो इस समय जेल में है) को आईएएस ऑफिसर्स एसोसिएशन के साथ टैग करते हुए एक जवाब में लिखा: “@iasassociation चुपी साधे हुए है जबकि उन्हीं में से एक को राजनीतिक झगड़े में संपार्श्विक क्षति के रूप में तंग किया जा रहा है।”

और दिलचस्प बात यह है कि चिदंबरम ने यही बात हिंदी में भी ट्वीट की। अब सवाल यह है कि चिदंबरम के परिवार का वह व्यक्ति कौन है जो हिंदी में लिखना जानता है। उनकी मातृभाषा तमिल में भी ट्वीट क्यों नहीं किया?

पिता और पुत्र अब विक्टिम कार्ड खेल रहे हैं। चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया घोटाले में “मुख्य साजिशकर्ता” कहा गया है। रिश्वत देने वाली और सह आरोपी इंद्राणी मुखर्जी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है और एक सरकारी गवाह बन गयी है। उन्होंने एजेंसियों और अदालत के सामने स्वीकार किया कि यह चिदंबरम ही थे जिन्होंने उनसे कार्ति की कम्पनी एडवांटेज स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग और चैस मैनेजमेंट सर्विसेज में रिश्वत के रूप में 5 करोड़ रुपये देने के लिए कहा था।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने पहले ही इस मामले में चार वरिष्ठ अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा चलाने की मंजूरी दायर कर दी है। चिदंबरम और कार्ति के साथ सह-अभियुक्त बनने वाले ये शीर्ष अधिकारी सिंधुश्री खुल्लर, अनूप के पुजारी, प्रबोध सक्सेना (सभी आईएएस अधिकारी हैं, जिन्होंने आईएनएक्स मीडिया घोटाले के दौरान वित्त मंत्रालय में काम किया था) और सेवानिवृत्त अवर सचिव रवीन्द्र प्रसाद थे। यह संभव है कि कुछ अधिकारी सरकारी गवाह में बदल सकते हैं।

एयरसेल – मैक्सिस घोटाले में भी आईएएस अधिकारी अशोक झा, अशोक चावला, कुमार संजय कृष्णन, दीपक कुमार सिंह और सेवानिवृत्त अवर सचिव राम शरण, चिदंबरम और बेटे के साथ सह-अभियुक्त थे।

यह एजेंसियों के लिए जेल में बंद व्यक्तियों द्वारा सोशल मीडिया पर संदेश पोस्ट करने से रोकने का समय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.