ईडी की हिरासत से तिहाड़ जेल में कुटिल चिदंबरम वापस। एजेंसियां उसके फर्जी मेडिकल दावों का मुकाबला करेगी

ट्रायल कोर्ट ने चिदंबरम को 14 नवंबर तक तिहाड़ जेल में वापस भेज दिया

0
478
ट्रायल कोर्ट ने चिदंबरम को 14 नवंबर तक तिहाड़ जेल में वापस भेज दिया
ट्रायल कोर्ट ने चिदंबरम को 14 नवंबर तक तिहाड़ जेल में वापस भेज दिया

अपनी चिकित्सा स्थिति पर झूठे दावे करने की अपनी चाल में विफल होने के बाद कुटिल पूर्व वित्त और गृह मंत्री पी चिदंबरम तिहाड़ जेल में फिर से वापस आ गया है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा दो सप्ताह की लंबी पूछताछ के बाद बुधवार को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने चिदंबरम को आईएनएक्स मीडिया धन शोधन मामले में 13 नवंबर तक तिहाड़ जेल में न्यायिक हिरासत में वापस भेज दिया। अदालत ने तिहाड़ अधिकारियों को चिदंबरम को दवा, पश्चिमी शौचालय, सुरक्षा और एक अलग बन्दीगृह उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहर ने अतिरिक्त दिन की हिरासत के लिए ईडी की मांग को खारिज कर दिया और यह भी आदेश दिया कि पूर्व मंत्री को उनकी चिकित्सीय स्थिति को देखते हुए घर का खाना देने की अनुमति दी जाए।

इस बीच, सुबह चिदंबरम ने अपनी बीमारियों का हवाला देते हुए अंतरिम जमानत अर्जी के साथ दिल्ली उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। ईडी के धन शोधन मामले में उनकी नियमित जमानत पर सुनवाई के लिए उच्च न्यायालय ने पहले ही 4 नवंबर की तारीख तय कर दी थी। अंतरिम आवेदन का उल्लेख मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरि शंकर की पीठ के समक्ष वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने किया, जिन्होंने मामले को तत्काल सूचीबद्ध करने की मांग की। पीठ ने गुरुवार को उपयुक्त अदालत के समक्ष मामले को सूचीबद्ध किया।

ईडी ने 16 अक्टूबर को चिदंबरम को हिरासत में ले लिया है। उन्हें 21 अगस्त को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा गिरफ्तार किया गया था।

एजेंसी से उम्मीद है कि वह एम्स के सटीक मेडिकल रिकॉर्ड का हवाला देते हुए चिदम्बरम के खराब स्वास्थ्य के बारे में किये तुच्छ दावे का विरोध किया जाएगा।

फास्ट ट्रैक कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्राधिकरण को वरिष्ठ कांग्रेस नेता को पर्याप्त सुरक्षा प्रदान करने का निर्देश दिया, यह देखते हुए कि वह एक संरक्षित व्यक्ति है। “उसे अपनी निर्धारित दवाइयाँ ले जाने की अनुमति दी जा सकती है। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि आरोपी को उसकी बीमारी के लिए जेल अस्पताल में और यदि आवश्यक हो, तो आरएमएल अस्पताल, सफदरजंग या एम्स अस्पताल जैसे किसी भी बहु-विषयक अस्पताल में चिकित्सीय जाँच मिले” – चिदंबरम के हैदराबाद स्थित अस्पताल में भर्ती होने के अनुरोध को उनके पेट से संबंधित मुद्दों के लिए खारिज करने के आदेश में कहा गया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

“अधीक्षक, सेंट्रल जेल, तिहाड़, दिल्ली आरोपी (चिदंबरम) को एक पश्चिमी शौचालय की सुविधा प्रदान करेगा, विशेष रूप से उसके मेडिकल रिकॉर्ड और बीमारियों पर विचार करते हुए घर का भोजन भी देगा। हालांकि, घर का खाना अधीक्षक के कार्यालय में दिया जाएगा। यह आवश्यक सुरक्षा जांच के बाद अभियुक्त को प्रदान कर दिया जाएगा,” आदेश में कहा गया।

ईडी ने 16 अक्टूबर को चिदंबरम को हिरासत में ले लिया है। उन्हें 21 अगस्त को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा गिरफ्तार किया गया था। सीबीआई ने सीबीआई मामले में जमानत देने के लिए न्यायमूर्ति आर बानुमति की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की पीठ के समक्ष एक समीक्षा याचिका दायर की है। याचिका में, सीबीआई ने भानुमति की अध्यक्षता वाली पीठ के जमानत देने के फैसले में पीठ के फैसले में कई त्रुटियों का हवाला दिया[1]

संदर्भ:

[1] त्रुटियों की ओर इशारा करते हुए, सीबीआई ने न्यायमूर्ति भानुमति की अध्यक्षता वाली पीठ द्वारा चिदंबरम को जमानत देने के फैसले की समीक्षा दायर कीOct 29, 2019, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.