भ्रष्ट अधिकारी यूएसआईबीसी के वैश्विक बोर्ड में शामिल हो गया – विडंबना तो देखिये!

क्या सरकार नए सेबी अध्यक्ष की नियुक्ति में समझदारी से चयन करेगी, क्या अब रमेश अभिषेक पर विचार नहीं किया जा रहा है?

0
648
क्या सरकार नए सेबी अध्यक्ष की नियुक्ति में समझदारी से चयन करेगी, क्या अब रमेश अभिषेक पर विचार नहीं किया जा रहा है?
क्या सरकार नए सेबी अध्यक्ष की नियुक्ति में समझदारी से चयन करेगी, क्या अब रमेश अभिषेक पर विचार नहीं किया जा रहा है?

संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) और कई पश्चिमी देशों में भ्रष्टाचार की रोकथाम हेतु सख्त नियम हैं। अंतर्राष्ट्रीय अनुबंध हासिल करने के लिए कंपनियां रिश्वत नहीं दे सकती हैं। मुखबिर हमेशा गुमनाम रहते हैं, सिक्योरिटीज एक्सचेंज बोर्ड (एसईसी) जैसी संस्थाओं द्वारा सुरक्षित रखे जाते हैं और वास्तव में, जब भ्रष्ट कंपनियों पर जुर्माना लगाया जाता है, तो मुखबिरों को एकत्र किए गए जुर्माने का एक प्रतिशत भी मिलता है। यहां तक कि फॉर्च्यून 500 कंपनियां भी कानून से नहीं बच सकती हैं क्योंकि उन में से कितनी ही कंपनियों पर मुकदमा चला है[1]। जब रमेश अभिषेक (आरए) जैसी “प्रतिष्ठा” वाले किसी व्यक्ति को अमेरिका-भारत व्यापार समिति (यूएसआईबीसी) के बोर्ड में नियुक्त किया जाता है, तो इस खबर को आत्मसात करने के लिए आपको बहुत भारी मन के साथ इस खबर को लेना होगा!

आरए की “उपलब्धियां

  1. रमेश अभिषेक के खिलाफ सीवीसी, लोकपाल और सीबीआई में एक मुखबिर की शिकायत के अनुसार, रमेश ने करोड़ों की काली कमाई की है, और उनकी दागी गतिविधियों के कारण उन्हें सरकार में किसी भी पद के लिए अयोग्य घोषित करने के लिए काफी है[2]। उनके खिलाफ बम्बई उच्च न्यायालय में भी मामले दर्ज हैं।
  2. उनके पास दिल्ली के मुनिरका एन्क्लेव और उससे सटे गुड़गांव के औद्योगिक क्षेत्र में आलीशान आवास के साथ-साथ कई और जगहों पर अवैध संपत्तियाँ हैं, जो उनके आधिकारिक वेतन के 100 गुना अधिक के साथ भी खरीदना असंभव है[3]
  3. एक आईपीएस अधिकारी, अतुल वर्मा, जो रमेश अभिषेक के एफएमसी अध्यक्ष रहते हुए उनके साथ काम कर रहे थे, ने अभिषेक के खिलाफ सीबीआई के समक्ष कमोडिटी ब्रोकर्स (दलालों) का इस्तेमाल करने और उनकी बेटी वेनेसा अभिषेक अग्रवाल की लॉ फर्म को दिए गए फर्जी कंसल्टेंसी चार्ज (परामर्श शुल्क) के रूप में रिश्वत लेने की शिकायत दर्ज की थी[4]। शिकायत में रमेश की पत्नी स्वप्ना अभिषेक द्वारा दलालों से करोड़ों रुपये के हीरे उपहार स्वरूप प्राप्त करने सहित कई अन्य आरोपों की जांच की मांग की गई है। शिकायतकर्ता ने बिहार में नौकरशाह के रूप में रमेश के शुरुआती दिनों के दौरान उनके काले चरित्र पर ध्यान आकर्षित किया है। रमेश तत्कालीन सीएम लालू प्रसाद यादव के प्रति पक्षपाती थे और उन्होंने कथित तौर पर ऐसा करके अवैध संपत्ति अर्जित की है। यह भी आरोप लगाया गया कि जब रमेश अभिषेक बिहार में एक आईएएस अधिकारी थे, तो उन्होंने लालू की हरसंभव मदद की और लालू ने अभिषेक के ससुर के भाई, श्री एस पी टेकरीवाल को वित्त मंत्री का पद देकर मुख्यमंत्री बनने पर उस एहसान को वापस किया।
  4. डीपीआईआईटी सचिव के रूप में भी, रमेश अभिषेक को अपनी बेटी की कंपनी थिंकिंग लीगल के माध्यम से स्टार्ट-अप्स से बड़े पैमाने पर रिश्वत का पैसा प्राप्त हुआ, रमेश की बेटी की कंपनी इन स्टार्ट-अप्स को कानूनी परामर्श प्रदान करती है[5]। रमेश अभिषेक के कार्यकाल में डीपीआईआईटी से फंडिंग प्राप्त करने वाले लगभग सभी स्टार्ट-अप्स ने थिंकिंग लीगल को अपने कानूनी सलाहकार के रूप में काम पर रखा था[6]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

क्या आरए सेबी अध्यक्ष की दौड़ में नहीं है?

अखबारों की रिपोर्टों में कहा गया है कि सरकार ने मद्रास उच्च न्यायालय से कहा है कि रमेश अभिषेक पर सेबी के अध्यक्ष पद के लिए विचार नहीं किया जाएगा[7]। अच्छा है। कारण बताया गया है कि उन्होंने इसके लिए आवेदन नहीं किया है। अगर सरकार सी बी भावे मामले की तरह अचानक और आश्चर्यजनक रूप से कोई जादू ना दिखाए, तो मैं खुश हो जाऊँगा। लेकिन अभी और भी है। ईमानदारी और क्षेत्र के गहन ज्ञान वाले व्यक्ति का चयन करना महत्वपूर्ण है। और ऐसे व्यक्ति को सेबी में कड़ी कार्यवाही करनी चाहिए – भ्रष्ट व्यक्तियों को दंडित कर उचित और पारदर्शी स्टॉक एक्सचेंज बनाना चाहिए ताकि सटीक मूल्यांकन प्रदान हो सके। क्या सरकार ऐसा करेगी? यह तो केवल समय ही बताएगा।

संदर्भ:

[1] Exclusive: SEC probes Siemens, GE, Philips in alleged China medical equipment schemeJun 4, 2019, Reuters.com

[2] क्या रमेश अभिषेक ने संदिग्ध मुखबिर को परेशान करने के लिए गृह मंत्रालय में अपने संपर्कों का इस्तेमाल किया?Jun 9, 2019, hindi.pgurus.com

[3] राजनेताओं की सेवा करने और खुद को समृद्ध करने की कला – भाग 1Jun 3, 2019, hindi.pgurus.com

[4] लालू का प्रमुख सलाहकार और पीसी की चंडाल चौकड़ी का हिस्सा – भाग 2Jun 7, 2019, hindi.pgurus.com

[5] डीपीआईआईटी – रमेश अभिषेक और परिवार के लिए रुपये छापने का स्टार्ट-अप? – Jul 14, 2019, hindi.pgurus.com

[6] भाग 5 – क्या मोदी भ्रष्ट आईएएस अधिकारियों को बाहर करेंगे?Jun 17, 2019, hindi.pgurus.com

[7] Ex-IAS Ramesh Abhishek will not be considered for SEBI chairman post: Govt to Madras HCJul 21, 2020, The Times of India

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.