दो पोलित ब्यूरो सदस्यों द्वारा सोने की तस्करी और नशीले पदार्थों के व्यापार में विवादों का सामना करने के बाद कम्युनिस्ट गहरी चुप्पी साधे हुए हैं!

सीपीआई (एम) (माकपा), जो मामूली बात पर भी मंत्रियों के इस्तीफे की मांग करने सबसे पहले आती है, अब अपने खुद के सदस्यों के पकड़े जाने पर मौन-व्रत धारण किये हुए है!

2
643
सीपीआई (एम) (माकपा), जो मामूली बात पर भी मंत्रियों के इस्तीफे की मांग करने सबसे पहले आती है, अब अपने खुद के सदस्यों के पकड़े जाने पर मौन-व्रत धारण किये हुए है!
सीपीआई (एम) (माकपा), जो मामूली बात पर भी मंत्रियों के इस्तीफे की मांग करने सबसे पहले आती है, अब अपने खुद के सदस्यों के पकड़े जाने पर मौन-व्रत धारण किये हुए है!

दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने के बारे में दुविधा में सीपीआई (एम) का केंद्रीय नेतृत्व!

प्रमुख वामपंथी पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया-मार्क्सवादी [सीपीआई (एम)] की प्रमाणिकता अपने दो पोलित ब्यूरो सदस्यों के सहयोगी और बेटे के सोने की तस्करी और नशीले पदार्थों के व्यापार में फंसने के बाद से ही खलबली में है। सीपीआई (एम) का केंद्रीय नेतृत्व वस्तुतः मूकदर्शक बन गया है क्योंकि इसके दो शक्तिशाली सदस्य केरल के मुख्यमंत्री (सीएम) पिनारयी विजयन और पार्टी के केरल राज्य सचिव कोडिएरी बालाकृष्णन कई प्रकार के आरोपों का सामना कर रहे हैं। सीपीआई (एम) शासित एकमात्र राज्‍य केरल के मुख्‍यमंत्री पिनारयी विजयन की एक मजबूत प्रशासक वाली छवि मुश्किल में है, क्योंकि उनके प्रमुख सचिव एम शिवशंकर यूएई वाणिज्य दूतावास के राजनयिक सामान का उपयोग करके दुबई से सोने की तस्करी करने के मामले में एक ठग महिला के साथ आरोपी बनाये गए हैं। अब वह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में है। केरल का मीडिया मुख्यमंत्री के निलंबित प्रमुख सचिव की तस्करी एजेंट स्वप्ना सुरेश के साथ उथल-पुथल भरी जिंदगी के बारे में भद्दी कहानियों से भरा हुआ है, स्वप्ना भी तिरुवनंतपुरम में यूएई वाणिज्य दूतावास में एक कर्मचारी थी। वह सीएम कार्यालय में भी अक्सर आया जाया करती थी और सभी प्रकार की ठगी की गतिविधियों में शामिल थी[1]

सीपीआई (एम) को ताजा झटका तब लगा जब राज्य इकाई के प्रमुख कोडियरी बालाकृष्णन के बेटे बिनीश को बेंगलुरु स्थित होटल से जुड़े मादक पदार्थों के व्यापार के लिए गिरफ्तार किया गया। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने बेंगलुरु में ड्रग गिरोह चलाने वाले लोगों को बिनीश द्वारा 3 करोड़ रुपये से अधिक दिये जाने का खुलासा किया है[2]। केरल मीडिया में यह व्यापक रूप से बताया गया है कि बिनीश मादक पदार्थों के व्यापार को पैसा दे रहा था। यह सर्वविदित (सभी को पता) है कि मुख्यमंत्री विजयन और सीपीआई (एम) के सचिव बालाकृष्णन एक ही इकाई के रूप में काम कर रहे हैं और बालाकृष्णन के पुत्रों को बहुत सारे विवादों और संदिग्ध व्यापारिक सौदों का सामना करना पड़ रहा है। बालाकृष्णन का बड़ा बेटा बिनॉय पहले से ही महाराष्ट्र न्यायालय में एक मामले का सामना कर रहा है जिसमें एक बिहारी महिला द्वारा नाजायज बच्चे के जन्म के मुआवजे का दावा दर्ज किया गया है[3]

दो पोलित ब्यूरो सदस्य सोने की तस्करी और मादक पदार्थों के व्यापार के लिए पकड़े गए हैं तो महासचिव सीताराम येचुरी के नेतृत्व वाली वही पार्टी मौन-व्रत पर है।

विपक्षी दलों कांग्रेस और भाजपा के अनुसार, मुख्यमंत्री विजयन की बेटी को भी बेंगलुरु में फर्जी कंपनियों को बनाने और केरल में परियोजनायों को प्राप्त करने से जुड़े होने के लिए विवादों का सामना करना पड़ रहा है[4]। बहुत ही गरीब परिवार में पैदा होने वाले विजयन के सत्ता के इस मुकाम पर पहुँचने के बाद उनकी आलीशान जीवनशैली और धन सृजन के लिए उनकी आलोचना की जाती है, यह पार्टी के अंदरूनी हलकों में भी चर्चा का विषय बना रहता है। लेकिन पार्टी के अंदर उनके दबदबे और नियंत्रण के कारण विद्रोहियों को दरकिनार कर दिया जाता है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सीपीआई (एम) के केंद्रीय नेतृत्व के सामने बड़ी समस्या यह है कि केरल के इन दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई कैसे की जाए। यह सर्वविदित है कि भारत में नृशंस कम्युनिस्ट पार्टी को केवल केरल से वित्त प्राप्त हो रहा है, जो देश का एकमात्र राज्य है जहां पार्टी सत्ता में बनी हुई है। पिछले कुछ वर्षों से, कम्युनिस्ट पार्टियों के संसाधन पश्चिम बंगाल में खत्म हो गए हैं, जहाँ पार्टी 35 वर्षों से अधिक समय तक लगातार सत्ता में रही थी।

भारत में, यदि अन्य दलों का कोई भी नेता किसी भी अनियमितता के साथ पकड़ा जाता है तो उनके इस्तीफे या उन्हें हटाने की मांग करने में हमेशा पहले स्थान पर सीपीआई (एम) रहती है। अब जबकि उनके ही दो पोलित ब्यूरो सदस्य सोने की तस्करी और मादक पदार्थों के व्यापार के लिए पकड़े गए हैं तो महासचिव सीताराम येचुरी के नेतृत्व वाली वही पार्टी मौन-व्रत पर है।

संदर्भ:

[1] संयुक्त अरब अमीरात के वाणिज्य दूतावास के सामान में तस्करी का सोना: पूर्व कर्मचारी स्वप्ना छुपी है और सीमा शुल्क ने पूर्व पीआरओ सरिथ को उठा लिया है। शीर्ष आईएएस अधिकारी के सम्बन्ध की जांच की जानी हैJul 6, 2020, hindi.pgurus.com

[2] CPI(M) Leader’s Son Bineesh Kodiyeri Arrested In Case Related To Bengaluru Drug SeizureOct 29, 2020, NDTV

[3] Ready for DNA test to prove Binoy is the father of my child: Bihari womanJun 18, 2019, Mathrubhumi

[4] केरल के मुख्यमंत्री विजयन पर कोविड-19 रोगियों के डेटा को अमेरिकी कम्पनी के साथ साझा करने और उनकी बेटी की कम्पनी के सम्बंध का आरोप हैApr 26, 2020, hindi.pgurus.com