संयुक्त अरब अमीरात के वाणिज्य दूतावास के सामान में तस्करी का सोना: पूर्व कर्मचारी स्वप्ना छुपी है और सीमा शुल्क ने पूर्व पीआरओ सरिथ को उठा लिया है। शीर्ष आईएएस अधिकारी के सम्बन्ध की जांच की जानी है

सनसनीखेज मोड़ में, यूएई राजनयिक के बटुए का उपयोग कर सोने की तस्करी करने वाले गिरोह के तार केरल के सीएम के सचिव तक पहुँच गए हैं

1
889
सनसनीखेज मोड़ में, यूएई राजनयिक के बटुए का उपयोग कर सोने की तस्करी करने वाले गिरोह के तार केरल के सीएम के सचिव तक पहुँच गए हैं
सनसनीखेज मोड़ में, यूएई राजनयिक के बटुए का उपयोग कर सोने की तस्करी करने वाले गिरोह के तार केरल के सीएम के सचिव तक पहुँच गए हैं

केरल में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के वाणिज्य दूतावास के राजनयिक सामान के माध्यम से तस्करी, एक कामवासना और गन्दगी से परिपूर्ण कहानी बन गयी और इसके तार भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के एक वरिष्ठ अधिकारी तक जाते हैं। सीमा शुल्क पूर्व कार्यकारी सहायक स्वप्ना सुरेश की तलाश में है और वाणिज्य दूतावास के पूर्व जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) सरिथ को हिरासत में ले लिया।

एम शिवशंकर आईएएस और सरिथ के साथ स्वप्ना सुरेश
एम शिवशंकर आईएएस और सरिथ के साथ स्वप्ना सुरेश

स्वप्ना सुरेश वर्तमान में केरल सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) पार्क में संचालन प्रबंधक के रूप में काम कर रही हैं और आईटी सचिव आईएएस एम शिवशंकर की बहुत करीबी हैं, एम शिवशंकर भी मुख्यमंत्री के सचिव हैं। आईटी विभाग ने स्वप्ना की सेवाओं को पर्यवसान कर दिया है। पूर्व सहकर्मी सरिथ को सीमा शुल्क द्वारा उठाए जाने के बाद वह छिप गई।

एक वाणिज्य दूतावास कार्यक्रम में केरल के सीएम पिनाराई विजयन के साथ स्वप्ना सुरेश
एक वाणिज्य दूतावास कार्यक्रम में केरल के सीएम पिनाराई विजयन के साथ स्वप्ना सुरेश

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

स्वप्ना ने इससे पहले एयर इंडिया में भी काम किया था और एक वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ नकली यौन शोषण के मामले दर्ज कराये थे और फर्जी आरोप लगाने के लिए पुलिस केस का सामना कर रही थी। अब केरल की विपक्षी पार्टियां पूछ रही हैं कि आईटी विभाग द्वारा ऐसी संदिग्ध पृष्ठभूमि होने के बावजूद उसकी भर्ती कैसे की गई। विपक्षी नेताओं ने आरोप लगाया कि शिवशंकर के साथ निकटता के कारण, वह केरल के मुख्यमंत्री कार्यालय में नियमित रूप से आती जाती थी। उनके फेसबुक पोस्ट आईएएस अधिकारी के साथ उनकी निकटता दिखाते हैं और केरल के टीवी चैनलों ने गार्ड के साक्षात्कार (स्वप्ना जहां रहती हैं वहाँ के गार्ड) को प्रसारित किया कि शिवशंकर शाम को रोज आते हैं। आईएएस शिवशंकर को केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन का सबसे विश्वासपात्र माना जाता है। शिवशंकर द्वारा मामले को शांत करने के लिए सीमा शुल्क अधिकारियों को प्रभावित करने की कोशिश के बाद विवादों का जन्म हुआ।

तस्करी का सोना
तस्करी का सोना

अपने युवा काल में अबू धाबी में रहने के और अरबी भाषा में निपुण होने के कारण, स्वप्ना केरल के तिरुवनंतपुरम में यूएई वाणिज्य दूतावास के मुख्य अधिकारी की कार्यकारी सचिव बनीं। वह अपने पूर्व सहयोगी सरिथ के साथ लंबे समय से वाणिज्य दूतावास का राजनयिक सामान संभाल रही थी। 30 जून को, हवाई सीमा शुल्क ने दुबई से राजनयिक सामान में 30 किलोग्राम सोना पाया। तस्करी वाले सोने को खाद्य पदार्थों के रूप में दावा किए जा रहे लोहे के पैक में छुपाया गया था। इसका बाजार मूल्य वर्तमान में 15 करोड़ रुपये है और यह माना जाता है कि गहनों की दुकान के कुछ मालिक जिनकी मध्य पूर्व में भी शाखाएँ हैं, राजनयिक सामान के माध्यम से इस तस्करी के संचालन के पीछे हैं।

इस बीच, दिल्ली में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत ने कहा कि कुछ पूर्व स्थानीय कर्मचारी इस तस्करी के पीछे हैं[1]। पूर्व पीआरओ सरिथ कार्गो को संभालते थे और जब 3 जुलाई को सीमा शुल्क द्वारा उन्हें उठाया गया, तो स्वप्ना छिप गयी।

देर रात घटनाक्रम… सरिथ को मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया और 14 दिनों के लिए रिमांड पर लिया गया। वर्तमान में, उन्हें एक कोविड निरोध केंद्र में रखा गया है। सीमा शुल्क ने भगोड़े स्वप्ना के घर पर छापा भी मारा।

संदर्भ:

[1] Ex-employee of UAE consulate in Kerala behind gold smugglingJul 6, 2020, GulfNews.com

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.