जैसे मंत्री, वैसे ही उनके चेले

रमेश अभिषेक कि कथित उच्च स्थानों में उनकी पहुंच है इसलिए उन्हें बदनाम किया जा रहा है, तिरस्कार-योग्य लक्षण है और इसे सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए

0
359
रमेश अभिषेक ने आरोप लगाया कि उच्च स्थानों में उनकी पहुंच है इसलिए उन्हें बदनाम किया जा रहा है, तिरस्कार-योग्य लक्षण है और इसे सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए
रमेश अभिषेक ने आरोप लगाया कि उच्च स्थानों में उनकी पहुंच है इसलिए उन्हें बदनाम किया जा रहा है, तिरस्कार-योग्य लक्षण है और इसे सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए

यथा मंत्री, तथा तंत्री

पीसी के साथ भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के सेवानिवृत्त अधिकारी रमेश अभिषेक (आरए) का “विशेष” संबंध अच्छी तरह से प्रलेखित है। वह अपने मालिक के नक्शेकदम पर चल रहे हैं। फॉरवर्ड मार्केट कमीशन (एफएमसी) के अध्यक्ष रहते हुए इन पीसी वफादार पर आरोप लगाया गया कि वह एलसी फेरो मैंगनीज, फेरो क्रोम, फेरो मोली, फेरो वैनेडियम, फेरो टाइटेनियम, एमसी फेरो मैंगनीज और अन्य एलसी फेरो मिश्रित विभिन्न वस्तुओं में उनके भाई वॉयज शंकर अग्रवाल की कंपनी “जगदंबा आयरन स्टील (पी) लिमिटेड” जो रायरंगपुर, उड़ीसा – 757043 में स्थित है, के माध्यम से लिप्त हैं[2]। उनके पास वस्तुओं के भंडारण के लिए एक गोदाम भी है। इस और भ्रष्टाचार के अन्य विभिन्न आरोपों के लिए, यह बिकाऊ बाबू केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) और लोकपाल द्वारा जांच के अधीन है।

आरए की चिदंबरम बनने की कोशिश!

वर्तमान में वह सेवा से सेवानिवृत्त हो चुके हैं, किसी भी प्रकार की चैन की नौकरी में नहीं हैं और वर्तमान कैबिनेट सचिव राजीव गौबा से उनकी निकटता का लाभ लेते हुए, कथित रूप से सौदों को व्यवस्थित करने में व्यस्त हैं।

कथित तौर पर आरए द्वारा अफवाहों के माध्यम से निम्नलिखित दावे किए गए थे:

  • उन्होंने पोस्टिंग, ट्रांसफर आदि के लिए अपनी दुकान शुरू कर दी है।
  • वह गौबा के इतना करीब है कि सेवानिवृत्ति के बाद भी वह मोतीबाग में ही रहते हैं। यह व्यवस्था गौबा ने की थी।
  • गौबा की मेहरबानी से सेबी द्वारा उनके कानूनी खर्चों का भी ध्यान रखा गया है।

सभी यह दर्शा रहे हैं कि वह गौबा के बहुत करीब हैं और कोई भी काम कर सकते हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि गौबा को इस बारे में पता है या नहीं; किसी भी तरह, इसे सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

वैसा ही जैसा 2018 में पीसी ने किया था?

तारीख थी 12 जुलाई 2018, घटना थी रामनाथ गोयनका व्याख्यान श्रृंखला। जगह थी नई दिल्ली। मुख्य वक्ता भारत के अगले मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई थे। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (पीसी) ने अभी तिहार जेल की हवा ठीक से खाई भी नहीं। चालबाज पर केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और अन्य एजेंसियों के लगभग 10 मामले चल रहे थे और वह सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों के लिए शर्मिंदगी के पात्र बन गये जब वह सर्वोच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश से दूसरे न्यायाधीश के समक्ष उपस्थित होते रहे[1]

सबसे पहले, वह न्यायमूर्ति रंजन गोगोई के बगल में बैठे थे और जब गोगोई मंच पर गए, तो पीसी ने स्थान को बदल दिया ताकि वह सर्वोच्च न्यायालय के एक अन्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ के बगल में बैठ सकें।

दूसरा, वह जमानत पर थे और सीबीआई और ईडी द्वारा झूठे मामले का आरोप लगाते हुए जीवन के अधिकार और शालीनता का दावा करने वाली उनकी तुच्छ याचिका मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की बेंच के समक्ष लंबित थी, जहां जस्टिस चंद्रचूड अक्सर सदस्य होते थे। बेंच ने, विदेश जाने के लिए कार्ति की कई याचिकाएं और आईएनएक्स मीडिया रिश्वत मामले के संबंध में हवाई अड्डों में सीबीआई के लुक आउट नोटिस को रद्द करने वाली याचिकाओं को भी संभाला।

तीसरा, उन्हें सुप्रीम कोर्ट और दिल्ली उच्च न्यायालय के कई अन्य न्यायाधीशों के साथ नजदीकियां बढ़ाते हुए देखा गया था। अनुपयुक्तता के अलावा, यह एक रहस्य है कि आयोजकों ने उन्हें कुर्सियों को बदलने की अनुमति कैसे दी। यह इस सवाल पर वापस ले जाता है कि क्या पीसी की बेनामी के माध्यम से इंडियन एक्सप्रेस में हिस्सेदारी है, जो किसी अनाम लेकिन किसी परिचित व्यक्ति के पास जाएगी। यह बेनामी एक समाचार वेबसाइट भी चलाता है जिस पर अक्सर समाचार बनाने का आरोप लगाया जाता है। लेकिन यह सब, आप पहले से ही जानते हैं। होनी को कोई टाल नहीं सकता। और सारे प्रयासों के बावज़ूद पीसी को 106 दिनों तक तिहार जेल की हवा खानी पड़ी!

संदर्भ:

[1] दागी चिदंबरम ने न्यायाधीशों को शर्मिंदा कियाJul 13, 2018, hindi.pgurus.com

[2] भाग 5 – क्या मोदी भ्रष्ट आईएएस अधिकारियों को बाहर करेंगे? – Jun 17, 2019, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.