क्या सुप्रीम कोर्ट हिंदुत्व को परिभाषित कर पाएगा?

सर्वोच्च न्यायालय हिंदुत्व की सटीक परिभाषा पर दुविधा में है, क्योंकि कोई भी व्यक्ति जो यह प्रदर्शित करेगा कि 'हिंदुत्व' शब्द का संदर्भ है, अदालत उसे सुनने के लिए तैयार है।

0
702
सर्वोच्च न्यायालय हिंदुत्व की सटीक परिभाषा पर दुविधा में है, क्योंकि कोई भी व्यक्ति जो यह प्रदर्शित करेगा कि 'हिंदुत्व' शब्द का संदर्भ है, अदालत उसे सुनने के लिए तैयार है।
सर्वोच्च न्यायालय हिंदुत्व की सटीक परिभाषा पर दुविधा में है, क्योंकि कोई भी व्यक्ति जो यह प्रदर्शित करेगा कि 'हिंदुत्व' शब्द का संदर्भ है, अदालत उसे सुनने के लिए तैयार है।

“अगर कोई भी यह साबित करेगा कि ‘हिंदुत्व’ शब्द का संदर्भ है, तो हम उसे सुनेंगे। हम इस चरण पर ‘हिंदुत्व’ की परिभाषा के वादविवाद में नहीं पड़ेंगे”। कोर्ट ने कहा।

एक बार सुप्रीम कोर्ट सबरीमाला मामले में समीक्षा याचिका को निपटा दे, तो संभवतः हिंदुत्व को परिभाषित करने वाले एक और विवादास्पद मुद्दे पर फिर से विचार करेगा। भगवान जाने न्यायालय यह कैसे करेगा, यह देखते हुए कि सबसे अच्छे आध्यात्मिक और धार्मिक दिमाग वाले लोग भी लगातार इस कार्य को असंभव बता रहे हैं? विद्वानों ने बताया है कि चूंकि हिंदूधर्म, धर्म का संस्थागत रूप नहीं है – इसलिए इसमें सर्वोच्च शासी अधिकारी नहीं है (रोमन कैथोलिक ईसाई के विपरीत, जिसमें पोप है); इस्लाम में अल्लाह के विपरीत, यहाँ कोई एक ईश्वर नहीं है; और इसमें गैर-भारतिय धर्मों की तरह अच्छी तरह से परिभाषित ‘क्या करना चाहिए’ और ‘क्या नहीं करना चाहिए’ नहीं है जो आभासी धर्मादेशओं और विकास में बाधक प्रथाओं और विश्वासों के रूप में काम करता है जो के गैर-भारतिय धर्मों को परिभाषित करता हैं – हिंदू-नेस को ठीक से परिभाषित करना मुश्किल है, जो अनिवार्य रूप से हिंदुत्व है।

1976 में, शीर्ष अदालत ने देखा कि “यह सामान्य ज्ञान का विषय है कि हिंदू धर्म स्वयं के भीतर विश्वासों, प्रथाओं और पूजाओं के इतने विविध रूपों को ग्रहण करता है कि ‘हिंदू’ शब्द को सटीक रूप से परिभाषित करना मुश्किल है”।

बहरहाल, शीर्ष अदालत ने कमोबेश लगभग असम्भव कार्य को करने का फैसला किया है क्योंकि राजनीतिक क्षेत्र में अक्सर लाभ और हानि दोनों परिपेक्ष्य में हिंदुत्व का इस्तेमाल किया जाता रहा है। पिछले अवसरों पर, इसे मामले में निर्णय देना पड़ा। एक मामले में, यह सुनिश्चित किया गया कि हिंदुत्व एक धर्म नहीं है, बल्कि जीवन शैली है और राजनीतिक अभियानों में अपने चुनावी संभावनाओं को बढ़ाने के लिए इसका (बिना किसी संदर्भ के) उपयोग करने के लिए जनप्रतिनिधित्व अधिनियम के प्रावधानों के तहत उन्हें दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। बाद के एक मामले में, अदालत ने इस फैसले को फिर से जारी करने से इनकार कर दिया, यह कहते हुए कि यह “संपूर्ण बहस” में नहीं जाएगा, क्योंकि इस मुद्दे का उल्लेख किसी अन्य खंडपीठ द्वारा नहीं किया गया है। यह देखा जाना बाकी है कि, अपने तीसरे प्रयास में, क्या यह कोई नई खोज करगा।

दिसंबर 1995 में, शिवसेना नेताओं के एक समूह से संबंधित एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया, कि चुनावी भाषण में ‘हिंदुत्व’ या ‘हिंदू धर्म’ शब्द का मात्र उपयोग जनप्रतिनिधि अधिनियम के प्रावधानों को आकर्षित नहीं करेगा। इसमें कहा गया है कि “कोई सटीक अर्थ ‘हिंदुत्व’ और ‘हिंदू धर्म’ के शब्दों में नहीं लिखा जा सकता है और ना इसका कोई निराकार अर्थ भारतीय संस्कृति और विरासत की सामग्री को छोड़कर अकेले इसे धर्म की संकीर्ण सीमा तक सीमित कर सकता है। यह संकेत भी दिया कि ‘हिंदुत्व’ शब्द उपमहाद्वीप में लोगों के जीवन के तरीके से संबंधित है।

तीन न्यायाधीशों वाली पीठ ने आगे कहा, “इन फैसलों का सामना करना मुश्किल है, अमूर्त में ‘हिंदुत्व’ या ‘हिंदू धर्म’ शब्द को दरअसल कट्टरपंथी हिंदू के साथ जोड़ सकते है या धारा 123 की उपधारा (3) और / या (3 ए) के निषेध का हिस्सा माना जा सकता है (जनप्रतिनिधित्व अधिनियम के)। इस आदेश को जेएस वर्मा द्वारा लिखा गया था। शीर्ष अदालत बॉम्बे हाईकोर्ट के उस आदेश के खिलाफ पीड़ित द्वारा की गई अपील पर सुनवाई कर रही थी जिसने उन्हें अधिनियम के तहत भ्रष्ट आचरण का दोषी ठहराया था। दिलचस्प बात यह है कि, जबकि अदालत ने कहा कि ‘हिंदुत्व’ जीवन का एक तरीका है और एक विशेष धर्म तक सीमित नहीं है, इसने अपील को भी खारिज कर दिया और कुछ अपीलकर्ताओं को अन्य मामलों में दोषी ठहराया। इन मामलों में अदालत की मुख्य राय डॉ रमेश यशवंत प्रभु बनाम प्रभाकर काशीनाथ कुंटे के विशेष मामले में दी गई थी।[1]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

2016 में, शीर्ष अदालत की सात-न्यायाधीशों की खंडपीठ ने कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ द्वारा एक याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिन्होंने अदालत को 1995 के फैसले पर फिर से विचार करने के लिए कहा था[2]। इसने कहा कि इस मुद्दे को विशेष रूप से पांच-न्यायाधीश खंडपीठ द्वारा संदर्भित नहीं किया गया था। इसने ‘संपूर्ण बहस’ को छोड़ने का फैसला किया और केवल जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 123 (3) के “दायरे” की जांच की, जिसमें चुनावी दुर्भावनाओं से संबंधित, अन्य बातों के साथ-साथ, भ्रष्ट प्रथाओं का भी उल्लेख है। अदालत ने कहा कि “अगर कोई भी यह साबित करेगा कि ‘हिंदुत्व’ शब्द का संदर्भ है, तो हम उसे सुनेंगे। हम इस चरण पर ‘हिंदुत्व’ की परिभाषा के वादविवाद में नहीं पड़ेंगे।” यह टिप्पणी वरिष्ठ अधिवक्ता केके वेणुगोपाल द्वारा एक ओपी गुप्ता की ओर हाजिर होने पर कई गई, उन्होंने अनुरोध किया कि अगर अदालत हिंदुत्व के सवाल पर सुनवाई करें तो उन्हें भी सुना जाए। सीतलवाड़ ने अदालत को एक आवेदन दिया था जिसमें कहा गया था कि धर्म और राजनीति को मिश्रित नहीं होने दिया जा सकता है, और उन्होंने इस संबंध में अदालत से निर्देश मांगा। अदालत अपनी स्थिति पर अड़ी रही कि वह केवल चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों और धार्मिक नेताओं के बीच सांठगांठ पर गौर करेगी, ताकि लोक अधिनियम के संबंधित प्रावधानों के खिलाफ उसका परीक्षण किया जा सके।

वीडी सावरकर, जिन्हें आज के समझ के अनुसार वाले ‘हिंदुत्व’ शब्द को गढ़ने का श्रेय दिया जाता है, ने भी एक सटीक परिभाषा देने से परहेज करते हुए सिर्फ यह कहा कि इसका मतलब हिंदू-नेस से है।

संयोग से, 1966 में, भारत के मुख्य न्यायाधीश पीबी गजेन्द्रगडकर की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने ऐतिहासिक और व्युत्पत्तिपरक अर्थ में ‘हिंदू’ शब्द को स्थान देने का प्रयास किया था[3]। निर्णय लिखते हुए, मुख्य न्यायाधीश ने कहा था, “जब हम हिंदू धर्म के बारे में सोचते हैं, तो हिंदू धर्म को परिभाषित करना या पर्याप्त रूप से इसका वर्णन करना हमें असंभव नहीं तो मुश्किल जरूर लगता है। दुनिया के अन्य धर्मों के विपरीत, हिंदू धर्म किसी एक पैगंबर का दावा नहीं करता, यह किसी भी भगवान की पूजा नहीं करता, यह किसी एक हठधर्मिता की सदस्यता नहीं लेता, यह किसी भी एक दार्शनिक अवधारणाओं में विश्वास नहीं करता, यह किसी को धार्मिक संस्कार या प्रदर्शन का पालन नहीं करता है। वास्तव में, यह किसी भी धर्म या पंथ की संकीर्ण पारंपरिक विशेषताओं को पूरा करता दिखाई देता है। इसे बड़े तौर पर जीवन के तरीके के रूप में वर्णित किया जा सकता है और इससे अधिक कुछ नहीं। ”

पुन: 1976 में, शीर्ष अदालत ने देखा कि “यह सामान्य ज्ञान का विषय है कि हिंदू धर्म स्वयं के भीतर विश्वासों, प्रथाओं और पूजाओं के इतने विविध रूपों को ग्रहण करता है कि ‘हिंदू’ शब्द को सटीक रूप से परिभाषित करना मुश्किल है। ”

हिंदू धर्म के बारे में जो कुछ भी कहा गया है उस में कुछ भी नहीं बदला है। इस प्रकार, जब ‘हिंदू’ को परिभाषित करना भी एक चुनौती है, तो ‘हिंदुत्व’ को परिभाषित करना दोगुना चुनौतीपूर्ण है। वीडी सावरकर, जिन्हें आज के समझ के अनुसार वाले ‘हिंदुत्व’ शब्द को गढ़ने का श्रेय दिया जाता है, ने भी एक सटीक परिभाषा देने से परहेज करते हुए सिर्फ यह कहा कि इसका मतलब हिंदू-नेस से है। देखते है कि सर्वोच्च न्यायालय इससे कैसे निपटेगा और कब तय करने का निर्णय लेता है।

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

संदर्भ:

[1] Dr. Ramesh Yeshwant Prabhoo vs Shri Prabhakar Kashinath Kunte & … on 11 December 1995 – Indiankanoon.org

[2] Supreme Court for final disposal of pleas to defreeze account of Teesta Setalvad, othersNov 09, 2016, Indiatimes.com

[3] Sastri Yagnapurushadji And … vs Muldas Brudardas Vaishya And … on 14 January, 1966 – Indiankanoon.org

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.