एमजे अकबर मानहानि का मामला क्यों हारे?

पूर्व संपादक और पूर्व एमओएस-ईए एमजे अकबर के करियर को झटका!

0
436
पूर्व संपादक और पूर्व एमओएस-ईए एमजे अकबर के करियर को झटका!
पूर्व संपादक और पूर्व एमओएस-ईए एमजे अकबर के करियर को झटका!

अकबर ने यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिला को चुप कराने की कोशिश की!

पूर्व तेजतर्रार संपादक और पूर्व केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री, एमजे अकबर, जो #MeToo (मीटू) अभियान में पकड़े गए थे, की बुधवार को अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट रवींद्र कुमार पांडे द्वारा पत्रकार प्रिया रमानी को बरी करने के साथ ही नाक कट गयी। तीन साल पहले, जब दुनिया भर में मीटू आंदोलन ज़ोर-शोर से चल रहा था, भारत में लगभग 16 महिला पत्रकारों ने 1990 के दशक से न्यूज़रूम में एमजे अकबर की यौन शिकारी प्रकृति को उजागर किया। और अंततः अकबर जो उस समय केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री थे, को अक्टूबर 2018 में इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया गया, जब पत्रकारों के आरोपों ने एमएसएम को हिला दिया था।

यह याद रखना चाहिए कि अकबर के साथ अपने अनुभवों को पोस्ट करने के अलावा किसी भी पत्रकार ने आपराधिक शिकायत दर्ज नहीं की थी। लेकिन मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने के बाद, अकबर ने केवल एक पत्रकार प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया। प्रिया रमानी ही क्यों? क्योंकि प्रिया रमानी का बयान सबसे कमजोर था और अकबर ने सोचा कि वह उसे मानहानि के आरोप में सबक सिखा सकते हैं। लेकिन 17 फरवरी, 2021 को एसीएमएम रवींद्र कुमार पांडे के आदेश ने अकबर की योजनाओं को ध्वस्त कर दिया। “हालांकि, शिकायतकर्ता (अकबर) ने आरोपी प्रिया रमानी का चयन किया और केवल उसके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला दर्ज किया, न कि अन्य महिलाओं के खिलाफ, जिनमें से कुछ ने अकबर के खिलाफ यौन उत्पीड़न के बारे में लेख प्रिया से पहले प्रकाशित किये थे।

महिला को अपनी पसंद के किसी भी मंच पर और दशकों बाद भी अपनी शिकायत रखने का अधिकार है। यह शर्मनाक है कि महिलाओं के खिलाफ अपराध और हिंसा की घटनाएं ऐसे देश में हो रही हैं, जहां “महाभारत” और “रामायण” जैसे ग्रंथ महिलाओं के सम्मान के विषय के इर्द गिर्द लिखे गए।

ओबेरॉय होटल की घटना

“अभियुक्त (प्रिया रमानी) ने दलील दी कि शिकायतकर्ता एमजे अकबर द्वारा उसके खिलाफ यौन उत्पीड़न की घटना उसकी खुद की गवाही और गवाह डीडब्ल्यू 2 निलोफ़र् वेंकटरमण की गवाही से साबित हो चुकी है और डीडब्ल्यू 2 ने दिसंबर 1993 में शाम 7.00 बजे ओबेरॉय होटल में आरोपी की उपस्थिति और उसकी नौकरी के साक्षात्कार के बारे में शिकायतकर्ता एमजे अकबर के साथ मुलाकात की पुष्टि की। अभियुक्त ने यह भी तर्क दिया कि मुंबई स्थित ओबेरॉय होटल के बेडरूम में शिकायतकर्ता द्वारा किये यौन उत्पीड़न के बाद, जब वह वापस लौटी, तो उसने डीडब्ल्यू 2 के सामने यौन उत्पीड़न की परिस्थितियों और तथ्यों का खुलासा किया। न्यायालय ने अभियुक्त की दलील और अभियुक्त के बचाव की संभावना को स्वीकार किया कि उसने ओबेरॉय होटल, मुंबई में दिसंबर 1993 में उसके खिलाफ हुई यौन उत्पीड़न की घटना के बारे में सच्चाई का खुलासा किया, अभियुक्त डीडब्ल्यू1 की गवाही और डीडब्ल्यू2 निलॉफर वेंकटरमण की गवाही द्वारा इसका अनुमोदन भी किया गया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

“न्यायालय ने अभियुक्त के इस तर्क को भी स्वीकार किया कि अभियुक्त डीडब्ल्यू1 की गवाही और डीडब्ल्यू3 ग़ज़ला वहाब की गवाही के आधार पर शिकायतकर्ता तारकीय प्रतिष्ठा का आदमी नहीं है। यह नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है कि ज्यादातर समय, यौन उत्पीड़न और यौन शोषण के अपराध बंद दरवाजे के पीछे या निजी तौर पर किए जाते हैं। कभी-कभी पीड़ितों को खुद समझ नहीं आता है कि उनके साथ क्या हो रहा है, या उनके साथ जो हो रहा है, वह गलत है। समाज में सम्मानित होने के बावजूद व्यक्ति अपने व्यक्तिगत जीवन में महिलाओं के साथ अत्यधिक क्रूरता दिखा सकते हैं। आरोपी प्रिया रमानी और गवाह ग़ज़ला वहाब के खिलाफ यौन उत्पीड़न की घटना के समय यौन उत्पीड़न की शिकायत के निवारण के लिए कार्यस्थल पर व्यवस्थित लापरवाही के कारण पर न्यायालय ने विचार किया है और भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा विशाखा दिशानिर्देश जारी करने और कार्यस्थल पर महिलाओं का यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013 को अधिनियमित करने से पहले की घटना है, या महिलाओं के यौन उत्पीड़न के साथ जुड़े सामाजिक कलंक के कारण यौन उत्पीड़न की शिकायत दर्ज नहीं करने का उनका फैसला, इन सब बातों पर भी न्यायालय ने विचार किया है।

ज्यादातर पीड़ित महिलाएं शर्म के कारण इसके बारे में या इसके खिलाफ नहीं बोलती हैं

“यौन शोषण और यौन उत्पीड़न और पीड़ितों पर इसके निहितार्थ को अब हमारे समाज को समझना होगा। समाज को समझना चाहिए कि, एक अपमानजनक व्यक्ति बाकी लोगों की तरह ही है और उसके पास भी परिवार और दोस्त हैं। वह भी समाज में एक सु-सम्मानित व्यक्ति बन सकता है। यौन शोषण की शिकार महिलाएं कई वर्षों तक दुर्व्यवहार के बारे में एक शब्द भी नहीं बोलती हैं क्योंकि कभी-कभी उसे खुद भी पता नहीं होता है कि वह दुर्व्यवहार की शिकार है। पीड़िता यह मान लेती है कि गलती उसकी है और पीड़ित वर्षों या दशकों तक उस शर्म के साथ जीवन जीती रहती है। अधिकांश महिलाएं जो दुर्व्यवहार का शिकार हुई हैं, वे इसके बारे में कुछ नहीं बोलतीं, इसका एक सरल कारण “शर्म” है या यौन उत्पीड़न से जुड़ा सामाजिक कलंक। यौन दुर्व्यवहार, अगर महिला के खिलाफ किया जाता है, तो उसकी गरिमा और आत्मविश्वास को छीन लेता है। यौन शोषण पीड़िता द्वारा यौन अपराधी या अपराधी के चरित्र पर हमला, उसके खिलाफ किए गए अपराध से जुड़ी शर्म के बारे में पीड़ित द्वारा मानसिक आघात के बाद आत्मरक्षा की प्रतिक्रिया है। मानहानि की आपराधिक शिकायत के बहाने महिला को यौन उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने के लिए दंडित नहीं किया जा सकता है क्योंकि संविधान के अनुच्छेद 21 और कानून के समक्ष समानता का अधिकार और समान कानूनी सुरक्षा जैसा की अनुच्छेद 14 में वर्णित है, के तहत महिला के जीवन की कीमत पर किसी के सम्मान की सुरक्षा नहीं की जा सकती है।

“महिला को अपनी पसंद के किसी भी मंच पर और दशकों बाद भी अपनी शिकायत रखने का अधिकार है। यह शर्मनाक है कि महिलाओं के खिलाफ अपराध और हिंसा की घटनाएं ऐसे देश में हो रही हैं, जहां “महाभारत” और “रामायण” जैसे ग्रंथ महिलाओं के सम्मान के विषय के इर्द गिर्द लिखे गए। “वाल्मीकि रामायण में, महान सम्मान का संदर्भ मिलता है, जब राजकुमार लक्ष्मण को राजकुमारी सीता का वर्णन करने के लिए कहा गया था, तो उन्होंने जवाब दिया कि उन्हें केवल उनके पैर याद हैं क्योंकि उन्होंने कभी उसके अलावा कुछ देखा ही नहीं”। “रामचरितमानस के अरण्य कांड” में, महिलाओं की गरिमा की रक्षा, सम्मान और उसे बढ़ावा देने की महान परंपरा का संदर्भ मिलता है, और महान ‘जटायु’ (पौराणिक पक्षी), जब राजकुमारी ‘सीता’ के अपहरण का अपराध देखते हैं, वह राजकुमारी सीता की रक्षा के लिए तेजी से आये और फलस्वरूप उनके पंखों को सीता के अपहरणकर्ता रावण ने काट दिया। महान ‘जटायु’ भले ही घायल हो गए थे और मर रहे थे, लेकिन राजकुमार राम और राजकुमार लक्ष्मण को राजकुमारी सीता के अपहरण की सूचना देने के बाद उन्होंने प्राण त्यागे। इसी तरह, “महाभारत के सभा पर्व” में, कुरु राज सभा से न्याय के लिए रानी द्रौपदी की गुहार के बारे में संदर्भ मिलता है और उन्होंने दुशासन द्वारा चौपड़ कक्ष में घसीटे जाने के व्यवहार पर प्रश्न चिन्ह उठाया। गहन व्यक्तिगत आघात की स्थिति में पूछे जाने वाले प्रश्नों की सूक्ष्मता, उनकी मस्तिष्क शक्ति और तेज और तार्किक विश्लेषण की क्षमता का संकेत है। भारतीय महिलाएं सक्षम हैं, उन्हें उत्कृष्टता प्राप्त करने का मार्ग प्रशस्त करना है, उन्हें केवल स्वतंत्रता और समानता की आवश्यकता है। ये सामाजिक बंधन भारतीय महिलाओं को समाज में उनकी उन्नति के लिए रोड़ा नहीं बन सकते, बस उन्हें समान अवसर और सामाजिक सुरक्षा दी जाए।

महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए सरकार के सकारात्मक कदम

न्यायाधीश ने अकबर के मानहानि मामले को खारिज करते हुए कहा – “संसद में प्रस्तुत वर्ष 2020-2021 की आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट के अनुसार, अखिल भारतीय उत्पादक आयु में महिला की भागीदारी दर (वर्ष 2018-2019 में 80.3% पुरुषों की तुलना में 15-59 वर्ष की महिलाएं 26.5%) रही। उक्त रिपोर्ट में यह सुझाव दिया गया है कि संस्थागत सहायता और अन्य क्षेत्रों में निवेश के अलावा अधिक महिलाओं को कार्यबल में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए, कार्यस्थल पर सुरक्षित वातावरण बनाने की आवश्यकता है। भारतीय संसद ने महिलाओं के लिए सुरक्षा, कल्याण और सुरक्षित वातावरण प्रदान करने के लिए विभिन्न कानून बनाए हैं जैसे – अनैतिक भार (रोकथाम अधिनियम) 1956, महिलाओं का अभद्र चित्रण (निषेध) अधिनियम, 1986, घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005, महिलाओं के साथ कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न (रोकथाम, निषेध और निवारण) अधिनियम, 2013, मुस्लिम महिला (विवाह पर अधिकार का संरक्षण) अधिनियम, 2019। महिलाओं के लिए जमीनी स्तर पर सशक्तिकरण के लिए उज्ज्वला योजना और जन धन योजना जैसी विभिन्न योजनाएँ भारत सरकार के अन्य सकारात्मक कदम हैं।”

निर्णय में उपरोक्त महत्वपूर्ण निष्कर्षों ने अकबर द्वारा यौन शोषण का आरोप लगाने वाली महिलाओं को चुप कराने के प्रयास को ध्वस्त कर दिया। पूरा निर्णय बार और बेंच की विस्तृत रिपोर्ट से प्राप्त किया जा सकता है[1]

संदर्भ:

[1] [BREAKING] Right of reputation can’t be protected at the cost of right to dignity: Delhi Court acquits Priya Ramani in MJ Akbar defamation caseFeb 17, 2021, Bar and Bench

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.