क्यों 3 “म” एक अन्य “म” (मोहन लाल) से डरते हैं?

केरल में 3 एम ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा एक और आइकन ध्वस्त करने के लिए गठबंधन किया है।

0
4653
केरल में 3 एम ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा एक और आइकन ध्वस्त करने के लिए गठबंधन किया है।
केरल में 3 एम ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा एक और आइकन ध्वस्त करने के लिए गठबंधन किया है।

3 “म” मंडली के कुछ बिके हुए लेखकों द्वारा हस्ताक्षरित, मोहन लाल को दिए गए निमंत्रण को वापस लेने वाबत एक ज्ञापन को केरल संस्कृति मंत्री को सौंप दिया गया।

केरल में मार्क्सवादियों, मेथरान (चर्च) और मुल्ला – (3 म) ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा एक और आइकन ध्वस्त करने के लिए गठबंधन किया है। यह मलयालम सिनेमा का सबसे जबरदस्त व्यक्ति मोहन लाल है। सांप्रदायिक, कम्युनिस्ट और उनके खरीदे हुए एजेंट कला और साहित्य के क्षेत्र में 8 अगस्त को तिरुवनंतपुरम में होने वाले केरल राज्य फिल्म पुरस्कार समारोह में भाग लेने के लिए मोहन लाल को दिए गए निमंत्रण के खिलाफ आए हैं।

सीपीआई-एम के महासचिव सीताराम येचुरी को मुख्य अतिथि के रूप में अपने ग्लैमर का उपयोग करने और पार्टी के लिए महिला सितारों को आकर्षित करने की कोशिश कर रहे हैं।

मंडली का नेतृत्वकर्ता कमलुद्दीन मोहम्मद मजीद है, एक फिल्म निर्देशक जो खुद को जमाने के सामने ‘कमल’ प्रदर्शित करता है और बैजू नाम से एक अन्य फिल्म निर्माता है। सीपीआई-एम के प्रति विशेष झुकाव के कारण, कमल – एक कट्टर मुस्लिम जिसे गुप्त रूप से मलयालम सिनेमा के बिन लादेन के रूप में संबोधित किया जाता है, को केरल फिल्म अकादमी के अध्यक्ष के रूप में मनोनीत किया गया है।

बैजू, एक दलित, जो पुरस्कार समितियों में उनके कनेक्शन के लिए राज्य और राष्ट्रीय पुरस्कारों को प्राप्त करने में कामयाब रहे हैं। उनकी कोई भी फिल्म आज तक जारी नहीं हुई है, हालांकि राज्य में साहित्यिक मंडल उन्हें मलयालम सिनेमा के आंद्रेई तर्कोव्स्की के रूप में पेश करते हैं। राज्य में औसत फिल्मप्रेमी को बैजू के बारे में कुछ भी पता नहीं है, इस तथ्य को छोड़कर कि वह एक शपथग्रही मार्क्सवादी है।

3 म मंडली के कुछ खरीदे हुए लेखकों और उपरोक्त बताए गए निदेशकों द्वारा हस्ताक्षरित एक ज्ञापन केरल संस्कृति मंत्री ए के बालन को दिया गया कि मोहन लाल को दिए गए निमंत्रण को वापस लेना चाहिए।

“हमारा मानना यह है कि मुख्यमंत्री और पुरस्कार विजेताओं के अलावा, कोई अन्य मुख्य अतिथि अनुचित है। यह उनकी उपलब्धि को भी कम कर देता है। हमने बयान में किसी भी अभिनेता का उल्लेख नहीं किया है। जो भी मुख्य अतिथि होगा वही हमारा पक्ष होगा, “बैजू ने कुछ दैनिक समाचार पत्रों के अनुसार उद्धृत किया है।

लेकिन मुख्यमंत्री पिनाराय विजयन, जो गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं, इस हफ्ते संयुक्त राज्य अमेरिका में मेयो क्लिनिक में हैं, जिससे इस अवसर पर उनकी उपस्थिति असम्भव होगी। मार्क्सवादी सीपीआई-एम के महासचिव सीताराम येचुरी को मुख्य अतिथि के रूप में अपने ग्लैमर का उपयोग करने और पार्टी के लिए जितनी संभव हो उतनी महिला सितारों को आकर्षित करने की कोशिश कर रहे हैं।

कुछ महिला कलाकार जैसे रीमा कालिनगल, जो सिनेमा निर्माता आशिक अबु की पत्नी है, मोहन लाल का, अभिनेता दिलीप को एएमएमए (मलयालम मूवी कलाकारों की एसोसिएशन) में वापिस लेने के लिए समर्थन कर रही है। दिलीप को पिछले वर्ष निकाला गया था क्योंकि उसने एक आगामी अभिनेत्री का अपहरण और बलात्कार व्यक्तिगत प्रतिद्वंद्विता के कारण करवाया था। इस मामले की सुनवाई केरल के न्यायालय में चल रही है और दिलीप को तीन महीने अदालती निगरानी में बिताना पड़ा।

कुछ वामपंथी और इस्लामी झुकाव से ग्रसित पुरस्कार विजेताओं ने मेरिट के प्रमाण पत्रों को फाड़ने और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा दिए जाने वाले ट्रॉफी को फेंक देने का निश्चय किया

हालांकि एएमएमए के अध्यक्ष मोहन लाल ने दिलीप को फिर से दाखिल करवाया, बाद में संगठन से दूर रहकर और प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया। पदाधिकारियों का रुख यह था कि चूंकि दिलीप को दोषी साबित नहीं किया गया है, इसलिए उन्हें उस संगठन से दूर रखना अनुचित था जिसे स्थापित करने में उनका भी योगदान है।

लेकिन मोहन लाल के अन्य सहयोगियों के अनुसार जिनसे टीम पीगुरूज ने चर्चा की, मोहनलाल को अलग-थलग करने के कदम के पीछे कारण कुछ और है। टीम पीगुरूज के पाठक 3 मई, 2018 को नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में बाधा डालने के लिए फिल्म उद्योग के एक वर्ग द्वारा कल्पना की गई अप्रिय घटनाओं से अवगत हो सकते हैं। कुछ वामपंथी और इस्लामी झुकाव से ग्रसित पुरस्कार विजेताओं ने मेरिट के प्रमाण पत्रों को फाड़ने और राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा दिए जाने वाले ट्रॉफी को फेंक देने का निश्चय किया जो निश्चित रूप से केंद्र सरकार को शर्मिंदा कर दे। उनका इरादा मोदी सरकार को कठुआ बलात्कार और जम्मू-कश्मीर में गोलीबारी पर बदनाम करना था। लेकिन सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों को षड्यंत्र की गंध मिली और पूरे पुरस्कार समारोह को इस तरह से पुनर्निर्धारित किया गया कि राष्ट्रपति 137 पुरस्कारियों में से केवल 11 को पुरस्कार देंगे और बाकी को पुरुस्कार सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा दिया जाएगा।

एक बार जब उनका षणयंत्र विफल हो गया, तो अपराधियों ने जल्दबाजी में वापसी की और के जे यसुदास (सर्वश्रेष्ठ पार्श्व गायिका) जैसे पुरस्कार विजेताओं का दुरुपयोग करना शुरू कर दिया। चूंकि यसुदास ने अपनी लाइन को पार करने से इनकार कर दिया, इसलिए मलयालम में कई हस्तियों ने गायक को बदनाम करने वाले लेख प्रकाशित करना शुरू कर दिया, जिनका उन्होंने स्वयं अतीत में अनुकरण किया था।

एक संदेश था जिसे पूरे देश में 2006 में प्रसारित किया गया था: “सभी मुसलमान आतंकवादी नहीं हैं लेकिन सभी आतंकवादी मुस्लिम हैं”।

एक और दिलचस्प तथ्य जिसने मोहन लाल को अलग करने का प्रयास किया, वह भारतीय सेना के बहादुर सैनिकों का समर्थन करने के लिए लगातार अग्रसर हैं। पीगुरूज के पाठक इस तथ्य से अवगत हैं कि मोहन लाल भारत के क्षेत्रीय सेना (टीएआई) में लेफ्टिनेंट कर्नल के पद से सम्मानित होने वाले पहले और एकमात्र अभिनेता हैं। टीएआई में अपने जीवन के हिस्से के रूप में, लाल ने जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना के सैनिकों और कमांडो के साथ प्रशिक्षण लिया है, जहां उन्होंने आतंकवादियों द्वारा हमलों का जवाब दिया है। “ऐसे कई उदाहरण थे जब कश्मीरी महिलाएं अपना मूत्र फेंकती थीं, जिसे उन्होंने हमारे सैनिकों पर फेंकने के लिए मिट्टी के बर्तनों में संरक्षित किया था। याद रखें, इन सैनिकों को इन्हीं महिलाओं के जीवन को बचाने के लिए कश्मीर में नियुक्त किया गया है। सैकड़ों सैनिकों ने कश्मीर में इस प्रकार के यातना और अपमान का सामना किया है। कोट्टयम में एक ईसाई परिवार के स्वामित्व वाले भारत विरोधी चैनल के बाहर मनोरम टीवी के साथ एक साक्षात्कार के दौरान लाल ने कहा, “कृपया याद रखें कि हम लोग जवानों और भारतीय सेना के अधिकारियों द्वारा किए गए निःस्वार्थ बलिदान के कारण शांतिपूर्वक सोते हैं।”

एक संदेश था जिसे पूरे देश में 2006 में प्रसारित किया गया था: “सभी मुसलमान आतंकवादी नहीं हैं लेकिन सभी आतंकवादी मुस्लिम हैं”। तथाकथित सांस्कृतिक नेताओं का दृष्टिकोण इस नारे को दिमाग में वापस लाता है लेकिन एक अलग तरीके से। “सभी मार्क्सवादी, मुसलमान और मेथरान राष्ट्र-विरोधी नहीं हैं। लेकिन सभी राष्ट्र-विरोधी मार्क्सवादी, मुल्लास और मेथरान हैं “।

गलत छवि में हिंदुओं को चित्रित करके इतिहास को विकृत करने में कमल का आकर्षण है। उनके नवीनतम निर्देशक उद्यम “आमी”, स्वर्गीय लेखक कमला दास के जीवन और समय के बारे में हिंदुओं के लिए उनकी घृणा का प्रमाण है। यह फिल्म केरल में होने वाले लव जिहाद को औचित्य देने का प्रयास था जिसमें कई मुस्लिम रोमियो द्वारा हजारों हिंदू लड़कियां लुप्त होती हैं, उन्हें इस्लाम में धर्मांतरित कर दिया जाता है और उन्हें इस्लामी आतंकवादियों के यौन दासों के रूप में काम करने के लिए सीरिया में भेज दिया जाता है।

पाठकों के लिए यह पता लगाना है कि भारतीय सिनेमा के अग्रणी सुपरस्टार को अलग करने और धूमिल करने का यह प्रयास क्यों है जो हमेशा विवादों से दूर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.