प्रधान मंत्री मोदी एशिया के सबसे बडे हेलीकॉप्टर कारखाने को करेंगे राष्ट्र को समर्पित

    रक्षा मंत्रालय ने कहा कि शुरू में यह कारखाना प्रति वर्ष करीब 30 हेलीकॉप्टरों का उत्पादन करेगा

    0
    301
    प्रधान मंत्री मोदी एशिया के सबसे बडे हेलीकॉप्टर कारखाने को करेंगे राष्ट्र को समर्पित
    प्रधान मंत्री मोदी एशिया के सबसे बडे हेलीकॉप्टर कारखाने को करेंगे राष्ट्र को समर्पित

    हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के हेलीकॉप्टर कारखाने को देश को समर्पित करेंगे पीएम मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर्नाटक की अपनी यात्रा के दौरान सोमवार को तुमकुरु में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के हेलीकॉप्टर कारखाने को देश को समर्पित करेंगे। रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है कि कारखाना देश के सभी हेलीकॉप्टर आवश्यकताओं को पूरा करेगा। 615 एकड़ में फैली ग्रीनफील्ड हेलीकॉप्टर फैक्ट्री भारत की सबसे बड़ी हेलीकॉप्टर निर्माण सुविधा है। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहेंगे। मालूम हो कि साल 2016 में पीएम मोदी ने इस कारखाने का शिलान्यास किया था।

    रक्षा मंत्रालय ने कहा कि शुरू में यह कारखाना प्रति वर्ष करीब 30 हेलीकॉप्टरों का उत्पादन करेगा। हालांकि बाद चरणबद्ध तरीके से इसके उत्पादन को 60 और फिर 90 प्रति वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है। ग्रीनफील्ड हेलीकॉप्टर फैक्ट्री एशिया की सबसे बड़ी हेलीकॉप्टर निर्माण सुविधा है, जो शुरुआती दिनों में लाइट यूटिलिटी हेलीकॉप्टर (एलयूएच) का उत्पादन करेगी।

    लाइट कॉम्बैट हेलीकॉप्टर (एलसीएच) और इंडियन मल्टीरोल हेलीकॉप्टर (आईएमआरएच) के निर्माण के साथ-साथ भविष्य में एलसीएच, एलयूएच, सिविल एएलएच और आईएमएरएच की मरम्मत जैसे कार्यों से इस कारखाने का विस्तार किया जा सकता है। रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि भविष्य में इस फैक्ट्री से सिविल एलयूएच के संभावित निर्यात की भी आपूर्ती की जाएगी।

    मालूम हो कि हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड की योजना 20 सालों के दौरान चार लाख करोड़ रुपये से अधिक के कुल कारोबार के साथ 3-15 टन की सीमा में 1,000 से अधिक हेलीकाप्टरों का निर्माण करने की है। प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगार पैदा करने के अलावा, तुमकुरु सुविधाकेन्द्र बड़े पैमाने पर समुदाय केंद्रित कार्यक्रमों के साथ अपनी सीएसआर गतिविधियों के माध्यम से निकटवर्ती क्षेत्रों के विकास को बढ़ावा देगी।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.