जनहित याचिका (पीआईएल) सर्कस और सीबीआई विशेष निदेशक

क्या जनहित याचिका नाटक जल्द ही बंद हो जाएगा और क्या हमारी जांच एजेंसियों को मानसिक स्थिरता प्रदान की जाएगी?

0
1171
क्या अस्थाना एक जनहित याचिका (पीआईएल) सर्कस चला रहे है?
क्या अस्थाना एक जनहित याचिका (पीआईएल) सर्कस चला रहे है?

क्या “चार के गिरोह” के कुछ सदस्य कुछ भ्रष्ट लोगो को बचाने के लिए जनहित याचिका का निर्माण कर सुप्रीम कोर्ट मैं दर्ज रहे है ?

सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच से संबंधित विशिष्ट मुद्दों पर सुप्रीम कोर्ट के सामने दायर जनहित याचिका (पीआईएल) की संख्या में अचानक वृद्धि हुई है, दिल्ली में कुछ भौहें चढ़ गयीं हैं। यह सब 2 जी घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय के जांच अधिकारी के खिलाफ लुटियंस दिल्ली में एक पत्रकार के रूप में उपेंद्र राय (एक बिचौलिये) द्वारा दायर पीआईएल के साथ शुरू हुआ। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में ईडी अधिकारी के खिलाफ फिर से एक रजनीश कपूर द्वारा पीआईएल दायर की गई। दोनों मुकदमे तथ्यहीन थे। हालांकि, यह दूसरी पीआईएल की सुनवाई के दौरान था कि भारत सरकार ने एक मुहरबंद लिफाफे में एक पुराना अनुसंधान और विश्लेषण विंग (रॉ) खुफिया नोट प्रस्तुत किया, जिसे 2 साल पहले दायर और बंद कर दिया गया था।

चिंताजनक बात वह खबर है लुटियंस दिल्ली से है कि प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) में एक बहुत ही वरिष्ठ अधिकारी सिर्फ समर्थन नहीं दे रहा है बल्कि इन मुकदमे को दर्ज करने के इस प्रयास में अस्थाना को सक्रिय रूप से मदद भी दे रहा है।

भाजपा सांसद और भ्रष्टाचार विरोधी योद्धा सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि दोनों मामलों को सीबीआई विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के आदेश पर कथित तौर पर दायर किया गया था। स्वामी भी नौकरशाही में “चार की गिरोह” के बारे में लगातार ट्वीट कर रहे हैं जो सरकार के भ्रष्टाचार विरोधी अभियान को रोकने और दागी पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को बचाने के उनके प्रयासों को कर रहे हैं। इसके अलावा, स्वामी ने एक गोपनीय पत्र भी लिखा जिसमें चार नौकरशाहों के इस गिरोह, राकेश अस्थाना शामिल हैं, पी चिदंबरम की रक्षा के लिए बिचौलियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति से संबंधित जांच को अस्थाना से हटा दिया था और सीबीआई ने एयरसेल मैक्सिस मामले में आरोप-पत्र सीबीआई विशेष अदालत के समक्ष पिछले हफ्ते दायर किया था। यहां उल्लेख करना जरूरी है कि उपेंद्र राय को सीबीआई और ईडी दोनों ने गिरफ्तार कर लिया है और उनके निवास की खोज के दौरान कई संदिग्ध दस्तावेज पाए गए हैं। यह अब जांच के रिकॉर्ड का हिस्सा है कि राकेश अस्थाना कुछ समय के लिए नियमित रूप से उपेंद्र राय के संपर्क में थे।

नाटक यहां खत्म नहीं होता है। इस पीआईएल खतरे में जोड़ने के लिए, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय सतर्कता आयोग (सीवीसी) के निदेशकों को अनिवार्य “निश्चित कार्यकाल” से संबंधित मामले में एक याचिकाकर्ता वेंकटेश कुमार शर्मा द्वारा “आईआरसीटीसी” मामले के नाम पर एक नया पीआईएल दायर किया गया है। सीबीआई के आईआरसीटीसी होटल मामले की जांच पर प्रश्न उठाने के भयावह परिधान में, यह याचिका, एक ही झटके में, सीबीआई के वर्तमान अध्यक्ष समेत चार अध्यक्षों पर व्यापक आरोप लगाती है। इस एवँ अन्य बहानों के अंतर्गत, उसने इन जाँच एजेंसियों के अध्यक्षों को कानूनी तौर पर दिए गए निश्चित कार्यकाल को चुनौती दी है।

यहां ध्यान देना महत्वपूर्ण है, फिर से, सीबीआई विशेष निदेशक राकेश अस्थाना का अदृश्य हाथ है। इस पीआईएल के वकील न केवल अस्थाना के करीबी दोस्त हैं बल्कि यह भी कि दोनों एक ही राज्य, बिहार से हैं। इसके अलावा, इस वकील द्वारा अपने परिवार और करीबी दोस्तों के लिए आयोजित हाल ही में एक निजी पार्टी में, अस्थाना उनके खास आदमी थे और यहां तक कि सभी मेहमानों का स्वागत भी करते देखे गए थे।

पीगुरूज ने भरोसेमंद तरीके से पता लगा है कि केंद्रीय खुफिया एजेंसी के एक प्रमुख ने हाल ही में पीआईएल कारखाने में लगे इन लोगों के साथ अस्थाना के इन सभी विकास और निकटता पर पीएमओ को विस्तार से बताया था। यह गौरतलब है कि सीबीआई में उच्च पदों पर स्थापित स्रोतों के मुताबिक, अस्थाना ने अपनी फर्जी पीआईएल के माध्यम से तीन पूर्व सीबीआई निदेशकों – अनिल सिन्हा, रणजीत सिंह और एपी सिंह पर गंभीर आरोप लगाए हैं – सभी तीन बिहार के रहने वाले है और जाहिर तौर पर अस्थाना के बहुत करीब हैं और उन्होंने काफी समय तक उनकी मदद की है। यह अस्थाना की विषैली और अकृतज्ञ प्रकृति के बारे में बताता है और यह भी कि वह अपने फायदे के लिए किसी भी हद तक जाएंगे।

चिंताजनक बात वह खबर है लुटियंस दिल्ली से है कि प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) में एक बहुत ही वरिष्ठ अधिकारी सिर्फ समर्थन नहीं दे रहा है बल्कि इन मुकदमे को दर्ज करने के इस प्रयास में अस्थाना को सक्रिय रूप से मदद भी दे रहा है जो स्पष्ट रूप से सार्वजनिक हित में नहीं है। हमें आगे क्या परेशान करता है यह है कि इन वरिष्ठ अधिकारियों का भयावह एजेंडा उपेंद्र राय जैसे तत्वों के साथ मिलकर हासिल करने का इरादा रखता है, जिन्होंने सिस्टम को भारी नुकसान पहुंचाया है। क्या पीआईएल नाटक जल्द ही बंद हो जाएगा और क्या हमारी जांच एजेंसियों को मानसिक स्थिरता प्रदान की जाएगी?

हम निगरानी रख रहे हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.