भारतीय अर्थव्यवस्था और नीति-निर्माण में अमेरिका-आधारित लोगों को आयात करने के इस त्रुटिपूर्ण विचार के पीछे कौन है?

क्या अमेरिका प्रशिक्षित वित्तीय विशेषज्ञों के आयात से भारत को फायदा हुआ है? या उनके विचार भी कट्टरपंथी थे?

0
665
भारतीय अर्थव्यवस्था और नीति-निर्माण में अमेरिका-आधारित लोगों को आयात करने के इस त्रुटिपूर्ण विचार के पीछे कौन है?
भारतीय अर्थव्यवस्था और नीति-निर्माण में अमेरिका-आधारित लोगों को आयात करने के इस त्रुटिपूर्ण विचार के पीछे कौन है?

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य के इस्तीफे के साथ, एक सवाल जो पूछा जाना चाहिए, वह है, “किसके दिमाग की उपज थी, कि अमेरिका से अर्थशास्त्रियों और बैंकरों को भारत के सिस्टम में आयात करने का एक गलत लागू किया जाए?” क्या यह एक त्रुटिपूर्ण विचार था या भारत ने अमेरिका के कट्टर राजनीतिक नेतृत्व द्वारा भारत में महत्वपूर्ण निर्णय लेने वाली प्रणालियों में अपने आदमियों को घुसपैठ करने के लिए अमेरिकी लॉबी की चाल को अपना लिया था?

यह अमेरिकी आयात लक्षण 2012 में वित्त मंत्रालय में भ्रष्ट चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान मुख्य आर्थिक सलाहकार के रूप में रघुराम राजन (आर 3) के साथ शुरू हुआ और 2013 में आरबीआई गवर्नर के रूप में उन्नत हुआ। राजन की छवि को चमकाने के लिए विशाल जनसंपर्क मशीनरी लगाई गई। यहां तक कि मीडिया जगत की कुछ सोशलाइट लेडीज और चीयर गर्ल्स ने आरबीआई गवर्नर कितने कामुक दिखते हैं, उस पर कामोन्माद में लेख लिखे और ट्वीट किए।

राजन की विलक्षण “उपलब्धि” ब्याज दरों को उच्च रखकर भारत के लघु उद्योग और मध्यम पैमाने के उद्योग (MSME) का विनाश था। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और अर्थशास्त्र के प्रोफेसर सुब्रमण्यम स्वामी दृढ़ रहे और राजन की त्रुटिपूर्ण नीतियों का खुलासा किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनका कार्यकाल बढ़ाया नहीं किया जाए। अंतिम क्षण तक, मुख्य धारा की मीडिया अपने प्यारे राजन की प्रशंसा करती रही [1]

मोदी भी छल के लपेट में आ गए …

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इन अमेरिकी लोगों के चंगुल में आ कर अपना विवेक खो दिया। सबसे खराब नियुक्तियों में से एक मुख्य आर्थिक सलाहकार (सीईए) के रूप में अरविंद सुब्रमण्यन की पोस्टिंग थी। यह ज्ञात तथ्य है कि मोदी तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली के दबाव में झुक रहे थे, जो भ्रष्ट चिदंबरम के दोस्त थे। अरविंद सुब्रमण्यन, यूपीए शासन के दौरान, एक अर्थशास्त्री के वेश में मोदी के लिए आलोचनात्मक लेख लिख रहे थे [2]। उन्होंने यहां तक लिखा कि मोदी औसत दर्जे के हैं और उनका गुजरात मॉडल विकास एक दिखावा था और सबसे अच्छा नीतीश कुमार का बिहार मॉडल था। फिर भी ऐसा व्यक्ति मोदी सरकार का मुख्य आर्थिक सलाहकार बन गया। क्या कोई इसे समझा सकता है?

बाद में सुब्रमण्यम स्वामी ने अरविंद सुब्रमण्यन को उनके तत्कालीन नियोक्ता, दवा कंपनी फाइज़र (Pfizerके लिए अमेरिकी सीनेट समिति में भारत के खिलाफ वकालत करने के लिए पकड़ा था [3]। उनका भाषण अब यूट्यूब (YouTube) पर वायरल हो रहा है जिसमें कहा गया है कि कैसे अमेरिका को भारत को अमेरिकी फार्मा-फर्मों के लाभ के लिए दबाव डालना चाहिए। सौभाग्य से, कुछ समय बाद मोदी ने रघुराम राजन और अरविंद सुब्रमण्यन के धोखाधड़ी का एहसास किया और जेटली की सिफारिशों को अनदेखा करते हुए उन्हें विस्तार देने से इनकार कर दिया। अब दोनों मोदी से नफरत करते हैं और उपहास करते हैं और मोदी के खिलाफ कपटी अमर्त्य सेन की तरह बात करते हैं, जिन्होंने नालंदा विश्वविद्यालय को लूटा।

मोदी सरकार ने राजन को बाहर निकलने के बाद फिर से एक और आयात उर्जित पटेल को आरबीआई गवर्नर के रूप में नियुक्त किया। वह भी कार्यकाल पूरा किए बिना ही चले गए। इस मामले का तथ्य यह है कि इन विदेशी आयातों ने खुद का भव्य भारतीय आर्थिक प्रणाली के साथ समन्वय नहीं स्थापित कर पाए, जो कि 130 करोड़ लोगों को सेवित करता है।
नीती अयोग के प्रमुख के रूप में अरविंद पनागरिया का आयात सबसे खराब था। वह वास्तव में नीति आयोग में एक अनुपयुक्त व्यक्ति था जिसकी अव्यावहारिक योजनाएं कैबिनेट बैठकों में व्यंग्य के विषय बन गए थे।

राजीव गांधी ने राॅ में आर 3 के पिता की भूमिका को समाप्त कर दिया

आर3 पिसी के बहुत अच्छे दोस्त, एक भारतीय पुलिस सेवा (IPS) अधिकारी गोविंद राजन का बेटा था। गोविंद राजन को राजीव गांधी ने रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) से तब बर्खास्त किया था जब वे रॉ के कार्यवाहक प्रमुख थे। ऐसे आरोप थे कि 1987 में रॉ अधिकारी के बेटे राजन का यूएस में एडमिशन सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (CIA) द्वारा प्रायोजित किया गया था। दिग्गजों का कहना है कि राजीव गांधी को तत्कालीन आईबी प्रमुख एम के नारायणन द्वारा अमेरिकी शिक्षा संस्थानों की फीस प्राप्तियों को पेश करके गोविंद राजन के बेटे के प्रवेश के बारे में सूचित किया गया था।

खैर, 2012 में, पीसी ने अपने बदनाम दोस्त के बेटे को 26 साल बाद सीईए के रूप में वापस लाया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

आखिर क्यों?

यहां करोडों का सवाल है कि भारतीय राजनीतिक नेतृत्व मुख्य रूप से संयुक्त राज्य अमेरिका से आयातित अर्थशास्त्रियों और बैंकरों के बारे में इतना मोहक क्यों है। यह भारतीय राजनीतिक नेतृत्व के लिए उचित समय है कि वे भारत में बचत आधारित अर्थव्यवस्था के लिए काम करने वाले मॉडल का उपयोग करके अर्थव्यवस्था को ठीक से चलाएं। हम आशा करते हैं कि सरकारी सेवाओं में ज्यादा कट्टरपंथी पार्श्व भर्ती को सही ढंग से लागू किया जाए न कि कुछ कॉरपोरेट घुसपैठ या भाई-भतीजावाद की पोस्टिंग की जाए।

संदर्भ:

[1] The ‘sexy’ central banker who’s causing a stirOct 10, 2013, CNBC.com

[2] Arvind Subramanian: Is the Modi miracle overrated? Jan 29, 2013, Business Standard

[3] India pressured by U S Congressional committee, Pfizer, over drug patentsMar 26, 2013, KEIonline.org

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.