विश्व हिंदू परिषद अयोध्या राम मंदिर भूमि पूजन के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस का सुझाव देने के लिए उद्धव ठाकरे पर जमकर बरसी, हिंदुत्व पार्टी के पतन पर शोक व्यक्त किया

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भूमिपूजन का सुझाव देने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को विश्व हिंदू परिषद प्रमुख से खरी खोटी सुननी पड़ी

1
661
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भूमिपूजन का सुझाव देने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को विश्व हिंदू परिषद प्रमुख से खरी खोटी सुननी पड़ी
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भूमिपूजन का सुझाव देने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को विश्व हिंदू परिषद प्रमुख से खरी खोटी सुननी पड़ी

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने सोमवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे द्वारा यह सुझाव दिये जाने कि 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर का भूमिपूजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया जाए, पर जमकर निशाना साधा। विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि उद्धव ठाकरे के बयान से पता चलता है कि जो एक समय हिंदुत्व पार्टी थी, जिसका नेतृत्व दिग्गज बाला साहब ठाकरे कर रहे थे, उसका पतन हुआ है। यह पहली बार है जब शिवसेना ने विहिप के प्रकोप को आमंत्रित किया।

विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष ने एक बयान में कहा कि ई-कॉंफ़्रेंस के माध्यम से भूमिपूजन जैसे पवित्र अनुष्ठान का आयोजन कैसे किया जा सकता है और कहा कि विहिप शिवसेना के पतन पर शोक व्यक्त करती है, जो कभी एक हिंदुत्व पार्टी थी। आलोक कुमार ने कहा कि कोरोना का हवाला देते हुए एक वीडियो कॉन्फ्रेंस का सुझाव देना एक झूठा दिखावा है।
आलोक कुमार ने कहा कि “हम उद्धव ठाकरे के उस बयान से चिंतित हैं, जिसमें कहा गया है कि वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा भूमिपूजन किया जाना चाहिए। उद्धव ठाकरे का बयान केवल उनके अंध विरोध को दर्शाता है और हमें दुख है कि ये वही हिंदुत्व पार्टी है जिसका नेतृत्व महान बाला साहेब करते थे।”

विहिप ने हमेशा स्पष्ट किया है कि भूमिपूजन 200 व्यक्तियों की भागीदारी को सीमित करके और सभी स्वास्थ्य और सुरक्षा सलाह के साथ किया जाएगा।

“भूमि पूजन एक आवश्यक और पवित्र अनुष्ठान है। किसी भी निर्माण कार्य को शुरू करने से पहले हम धरती माता की पूजा करते हैं, धरती को खोदने और संरचनाओं का निर्माण करने की अनुमति लेते हैं, और कार्य हेतु उनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। जाहिर है, यह ई-कॉंफ़्रेंस द्वारा नहीं किया जा सकता है।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा – “देश कोविड-19 से संबंधित सभी सावधानियों के साथ अपनी सामान्य गतिविधियों से गुजर रहा है। उच्चतम न्यायालय ने प्रतीकात्मक रूप से श्री जगन्नाथ रथ यात्रा निकालने की अनुमति दी। श्री अमरनाथ यात्रा के सभी अनुष्ठान किए गए हैं, हालांकि इस वर्ष यात्रा की अनुमति नहीं है। विहिप ने हमेशा स्पष्ट किया है कि भूमिपूजन 200 व्यक्तियों की भागीदारी को सीमित करके और सभी स्वास्थ्य और सुरक्षा सलाह के साथ किया जाएगा। इस स्थिति में, ठाकरे द्वारा व्यक्त सार्वजनिक स्वास्थ्य के बारे में चिंता केवल झूठा मिथ्याभिमान है।”

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.