मोदी और बिडेन कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एक साथ मिलकर काम करेंगे। बिडेन ने ऑक्सीजन, वैक्सीन के कच्चे माल और चिकित्सकीय आपूर्ति का आश्वासन दिया

कम से कम कोविड के खिलाफ लड़ाई के संदर्भ में अमेरिका-भारत संबंध स्थिर हो गए हैं!

0
313
कम से कम कोविड के खिलाफ लड़ाई के संदर्भ में अमेरिका-भारत संबंध स्थिर हो गए हैं!
कम से कम कोविड के खिलाफ लड़ाई के संदर्भ में अमेरिका-भारत संबंध स्थिर हो गए हैं!

भारत-अमेरिका कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहेंगे!

भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच बातचीत होने के एक दिन बाद, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन ने सोमवार को बात की और कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में “मिलकर काम करने” और आपातकाल सामग्री भेजने को गति देने का फैसला किया।

दोनों नेताओं ने अपने देशों की कोविड-19 स्थिति पर चर्चा की, जिसमें भारत में जारी टीकाकरण प्रयासों के माध्यम से कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटने के लिए चल रहे प्रयास, और महत्वपूर्ण दवाओं, चिकित्सीय और स्वास्थ्य संबंधी उपकरणों की आपूर्ति सुनिश्चित करना शामिल रहे। सोमवार की शाम प्रधान मंत्री कार्यालय ने कहा – “राष्ट्रपति जो बिडेन ने भारत के साथ एकजुटता व्यक्त की और पुष्टि की कि संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के प्रयासों का समर्थन करने के लिए दृढ़ है, और इसके लिए चिकित्सीय सामग्री, वेंटिलेटर और कोविशील्ड टीकों के निर्माण हेतु कच्चे माल के स्रोतों की पहचान कर उपलब्ध कराने की बात कही।”

प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से संबंधित टीकों, दवाओं, और चिकित्सीय सामग्री के निर्माण के लिए आवश्यक कच्चे माल और जरूरी चीजों की सुगम और खुली आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

बिडेन के साथ बातचीत पर संतोष व्यक्त करते हुए मोदी ने ट्वीट किया:

“राष्ट्रपति जोसेफ आर बिडेन ने आज भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बात करते हुए कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में एक साथ मिलकर काम करेंगे। राष्ट्रपति ने भारत के लोगों के लिए अमेरिका के दृढ़ समर्थन का वादा किया, जो कोविड-19 मामलों में हालिया बढ़ोतरी के बाद इससे प्रभावित हुए हैं। प्रतिक्रिया में, संयुक्त राज्य अमेरिका आपातकालीन सहायता, जिसमें ऑक्सीजन से संबंधित आपूर्ति, टीके की सामग्री और चिकित्सीय सहायता शामिल है, प्रदान कर रहा है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

व्हाइटहाउस ने एक बयान में कहा – “प्रधानमंत्री मोदी ने दोनों देशों के बीच मजबूत सहयोग के लिए सराहना व्यक्त की। दोनों नेताओं ने संकल्प लिया कि संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत हमारे नागरिकों और हमारे समुदायों के स्वास्थ्य की रक्षा के लिए कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहेंगे।”

पीएमओ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार से सहायता और समर्थन की पेशकश की हार्दिक सराहना की है। उन्होंने वैक्सीन मैत्री के माध्यम से कोविड-19 महामारी से विश्व स्तर पर निपटने की भारत की प्रतिबद्धता, और कोवैक्स (COVAX) और क्वाड वैक्सीन पहल में भारत की भागीदारी का उल्लेख किया। प्रधानमंत्री ने कोविड-19 से संबंधित टीकों, दवाओं, और चिकित्सीय सामग्री के निर्माण के लिए आवश्यक कच्चे माल और जरूरी चीजों की सुगम और खुली आपूर्ति श्रृंखला सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

पीएमओ ने कहा – “दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए वैक्सीन विकास और आपूर्ति में भारत-अमेरिका साझेदारी की क्षमता को रेखांकित किया, और इस क्षेत्र में अपने प्रयासों में निकट समन्वय और सहयोग बनाए रखने के लिए अपने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने विकासशील देशों के लिए टीकों और दवाओं की त्वरित और सस्ती पहुंच सुनिश्चित करने के लिए ट्रिप्स (बौद्धिक संपदा अधिकार के व्यापार संबंधी पहलू) पर समझौते के मानदंडों में छूट के लिए डब्ल्यूटीओ (विश्व व्यापार संगठन) में भारत की पहल के बारे में राष्ट्रपति बिडेन को सूचित किया।। दोनों नेताओं ने नियमित संपर्क में रहने के लिए सहमति व्यक्त की।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.