स्वामी: एलटीटीई के खत्म हो जाने, राजीव के हत्यारों को सोनिया द्वारा दया याचना-पत्र देने और प्रियंका का हत्यारों से जेल में मुलाकात के बाद सोनिया और परिवार को कोई ख़तरा नहीं है

स्वामी ने कहा कि सोनिया और परिवार इस तथ्य के आधार पर सुरक्षित हैं कि एलटीटीई से उनका खतरा अब नहीं है!

0
881
स्वामी ने कहा कि सोनिया और परिवार इस तथ्य के आधार पर सुरक्षित हैं कि एलटीटीई से उनका खतरा अब नहीं है!
स्वामी ने कहा कि सोनिया और परिवार इस तथ्य के आधार पर सुरक्षित हैं कि एलटीटीई से उनका खतरा अब नहीं है!

सोनिया गांधी और उनके परिवार की सुरक्षा को कम करने के केंद्रीय गृह मंत्रालय के फैसले का बचाव करते हुए, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सदस्य (सांसद) सुब्रमण्यम स्वामी ने बुधवार को कहा कि सोनिया और परिवार के लिए कोई खतरा नहीं है क्योंकि आतंकवादी संगठन लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (एलटीटीई) अब नहीं बचा है और उन्होंने राजीव गांधी के हत्यारों के प्रति नरम रुख अपनाया है। राज्यसभा में कांग्रेस के सांसदों को सबक सिखाते हुए, स्वामी ने विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) की सुरक्षा को वापस लेने को सही ठहराया क्योंकि सभी भारतीय कानून के समक्ष समान हैं और कोई भी विशेषाधिकार का आनंद नहीं ले सकता।

स्वामी ने कहा, “खतरों को समझना हमेशा से गृह मंत्रालय का निर्णय रहा है … गृह मंत्रालय में हमेशा एक विशेष समिति रही है जो निर्णय (इन बातों का) लेती है। यदि इसके बारे में कोई प्रश्न है, तो कोई भी अदालत में जा सकता है और इसे चुनौती दे सकता है।” आगे कांग्रेस के सांसदों को सबक देते हुए, स्वामी ने कहा कि यह खतरा मूल रूप से पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या और लिट्टे से पैदा हुआ था और उन्हें (कांग्रेस सांसद) आरोपियों में से एक नलिनी की मौत की सजा कम करने के लिए सोनिया गांधी के भारत के राष्ट्रपति के पत्र और बाद में प्रियंका द्वारा जेल में आरोपी से मिलने के बारे में याद दिलाया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

 स्वामी ने एसपीजी सुरक्षा वापस लेने का मुद्दा उठाने वाले कांग्रेस नेता आनन्द शर्मा को जवाब देते हुए कहा – “वह मुद्दा (एलटीटीई से खतरा) दो कारणों से खत्म हो गया है। पहला अब कोई लिट्टे नहीं है और दूसरा सुप्रीम कोर्ट द्वारा राजीव गांधी की हत्या के लिए मौत की सजा देने वालों के प्रति संरक्षकों (सोनिया परिवार) का रवैया,”। स्वामी की प्रतिक्रिया का वीडियो आप यहां देख सकते हैं:

सभापति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि वह भी सजा में कमी के पक्ष में नहीं थे।

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि उनके सुरक्षा कवच को बदलने को राजनीतिक दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय के पास नेताओं के लिए खतरे की धारणा का आकलन करने में एक “निश्चित प्रक्रिया” और “नवाचार”(प्रोटोकॉल) है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.