ब्‍लैकहोल के गुणों को निर्धारित करने के लिए जामिया के प्रोफेसर और छात्रों ने सरल विधि विकसित की

    ये सभी वैज्ञानिक अल्‍ट्रा कॉम्पैक्ट ऑब्जेक्ट्स पर भी काम कर रहे हैं, जिन्हें ब्लैक होल का विकल्प माना जाता है।

    0
    39
    ब्‍लैकहोल
    ब्‍लैकहोल

    जामिया के प्रोफेसर अल्‍ट्रा कॉम्पैक्ट ऑब्जेक्ट्स पर भी काम कर रहे हैं, जिन्हें ब्लैकहोल का विकल्प माना जाता है

    जामिया मिलिया इस्‍लामिया के सैद्धांतिक भौतिकी केंद्र के प्रोफेसर प्रो. सुशांत घोष, अपने पीएचडी छात्रों और राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय सहयोगियों के साथ मिलकर ब्लैकहोल के विभिन्न पहलुओं पर काम कर रहे हैं। ये सभी ब्लैकहोल के सैद्धांतिक मॉडल विकसित करने और उनकी छाया का अनुकरण करने की जांच कर रहे हैं। डॉ. राहुल वालिया के साथ, प्रो. घोष ने छाया अवलोकनों का उपयोग करके ब्लैक होल के गुणों को निर्धारित करने के लिए एक सरल विधि तैयार की है। इसके बहुत पास से गुजरने वाले एक पर्यवेक्षक के लिए एक ब्लैकहोल कैसा दिखेगा और विभिन्न ब्लैकहोल मॉडल की स्पष्ट छाया पर एक गहन विश्लेषणात्मक जांच भी की। वे अल्‍ट्रा कॉम्पैक्ट ऑब्जेक्ट्स पर भी काम कर रहे हैं, जिन्हें ब्लैकहोल का विकल्प माना जाता है।

    प्रो. घोष ईएचटी द्वारा प्रकाशित किए जा रहे एक श्वेत पत्र के लेखकों में से एक हैं, “Tests of GR and the Kerr hypothesis with the ngEHT”. वह पिछले तीन वर्षों से दुनिया के शीर्ष 2 फीसदी वैज्ञानिकों की प्रतिष्ठित सूची, लंबा करियर और एकल वर्ष दोनों सूची में हैं। वैज्ञानिकों की वैश्विक सूची स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा प्रकाशित की गई थी। यह साइटेशन, एच-इंडेक्स, को-ऑथरशिप, अलग-अलग आंथरशिप पोजीशन में पेपर्स के माइटेशन और एक कंपोजिट इंडिकेटर के बारे में जानकारी प्रदान करता है।

    प्रो. घोष एक उत्कृष्ट अनुसंधान वातावरण और सहायता प्रदान करने के लिए जामिया मिलिया इस्लामिया के बहुत आभारी हैं। प्रो. घोष और डॉ. वालिया एनजीईएचटी ग्रुप का हिस्सा हैं जो थ्योरी डिवीजन के मौलिक भौतिकी के तहत काम कर रहे हैं।

    दुनिया के शीर्ष वैज्ञानिक प्रकाशकों में से एक यूके स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिक्स (आईओपी) पब्लिशिंग ने प्रोफेसर सुशांत घोष, डॉ. राहुल वालिया और शफकत उल इस्लाम को भारत के शीर्ष उद्धृत शोध पत्र पुरस्कार से सम्मानित किया है। आईओपी ने ये पुरस्कार भारत के शोधकर्ताओं को प्रदान किए, जो पिछले तीन वर्षों (2019-2021) में आईओपी प्रकाशन के पत्रिकाओं के पोर्टफोलियो में प्रकाशित सबसे अधिक उद्धृत लेखों के शीर्ष 1 फीसदी में हैं। आईओपी ने ब्लैकहोल पर शोध पत्रों के लिए खगोल विज्ञान और खगोल भौतिकी श्रेणी के तहत शोधकर्ताओं को पुरस्कार दिए हैं। आईओपी पब्लिशिंग आमतौर पर हर साल भारत से खगोल विज्ञान और खगोल भौतिकी श्रेणी के तहत केवल तीन शोध पत्रों को पुरस्कार देता है। 2022 में उन्होंने चार पुरस्कार दिए और सभी पुरस्कार उनके पास गए।

    डॉ. राहुल वालिया को 2022-2024 के लिए इंडो-यूएस USIEf की ओर से फुलब्राइट-नेहरू पोस्टडॉक्टोरल रिसर्च फेलोशिप अवार्ड मिला है। यह दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित शोध फेलोशिप में से एक है। वह जल्द ही एरिजोना विश्वविद्यालय, संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में फुलब्राइट पोस्टडॉक्टोरल रिसर्च फेलो के रूप में शामिल होंगे। 2021 में पीएचडी डिग्री प्राप्त करने के बाद, वह वर्तमान में क्वाजुलु-नटाल विश्वविद्यालय, डरबन, दक्षिण अफ्रीका में पोस्टडॉक्टोरल शोधकर्ता के रूप में कार्यरत हैं।

    भौतिकी में सबसे दिलचस्प चुनौतियों में से एक “कॉस्मोलॉजिकल कॉन्स्टेंट” के मूल्य का निर्धारण है, जो डार्क एनर्जी का एक उम्मीदवार है जिसे ब्रह्मांड के त्वरित विस्तार के पीछे मुख्य कारक माना जाता है। M87* ब्लैक होल की तस्वीर के आकार का उपयोग करके पीएचडी छात्र मिस्बा ने हाल ही में ब्रह्माण्ड संबंधी कॉस्मोलॉजिकल कॉन्स्टेंट का अनुमान लगाया है।

    यह अनुमान खगोलभौतिकीय ब्लैकहोल के अवलोकनों का उपयोग करने की रोमांचक संभावना को खोलता है। हमारे समूह ने यह भी जांच की है कि क्या सुपरमैनिव ब्लैकहोल जैसे M87* और Sgr A को विद्युत रूप से चार्ज किया जा सकता है। जांच में पाया है कि ईएचटी की वर्तमान टिप्पणियों के साथ-साथ भविष्य की अधिक सटीक टिप्‍पणियों (जैसे ngEHT और अंतरिक्ष-आधारित टेलीस्कोप सरणियों) के साथ, विद्युत आवेशित ब्लैकहोल की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.