सुब्रमण्यम स्वामी ने पटियाला में मोदी मंदिर की संपत्तियों की अवैध बिक्री की, जांच के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से आग्रह किया

मोदी मंदिर की अवैध बिक्री धर्मिक संस्थाओं के प्रति बुरे इरादों को दर्शाती है!

0
977
मोदी मंदिर की अवैध बिक्री धर्मिक संस्थाओं के प्रति बुरे इरादों को दर्शाती है!
मोदी मंदिर की अवैध बिक्री धर्मिक संस्थाओं के प्रति बुरे इरादों को दर्शाती है!

स्वामी ने राज्य सरकार से मोदी मंदिर परिसर की संपत्तियों की जब्ती और बिक्री का आदेश देने का आग्रह किया

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से पटियाला के मोदी मंदिर के कुछ ट्रस्टियों द्वारा की गयी संपत्तियों की बिक्री की जांच करने का आग्रह किया। वर्तमान संरक्षकों द्वारा अवैध रूप से निष्पादित कई बिक्रियों को संलग्न करते हुए, एक विस्तृत शिकायत में, स्वामी ने कहा कि जनता के हित में, राज्य सरकार को मोदी मंदिर परिसर और विभिन्न स्थानों पर मंदिर की अन्य संपत्तियों की जब्ती और बिक्री की जांच का आदेश देना चाहिए। उन्होंने कहा कि हरिद्वार और बरसाना में मोदी मंदिर की संपत्तियों का भी वर्तमान संरक्षकों द्वारा निपटारण संदिग्ध तरीके से किया गया है।

“मैंने यह पत्र अपने युवा कानूनी सहयोगी, श्री सत्य सभरवाल द्वारा प्राप्त जानकारी पर आपका ध्यान आकर्षित करने और पटियाला के पासी रोड पर बने मोदी मंदिर परिसर जिसे मोदी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, की जांच के निर्देश देने के लिए अनुरोध करने के लिए लिखा है [परिसर का विवरण : जामवंदी 2017-2018 के अनुसार भूमि की माप 42 बीघा 16 बिस्वा जैसे भूमि 36 बीघा 07 बिस्वा जिसमें खसरा नं 7 (7-17), 10/3/2 (6-7), 12/1/1 (9-19), 13/2 (6-19), 550/5 (5/5) के खेवट नं 605, खतौनी नं 1162 शामिल हैं, और भूमि की माप 06 बीघा 09 बिस्वा जिसमें खसरा नंबर 16/1 (6-9), खेवट नंबर 24, खतौनी नंबर 64 शामिल हैं।] मुझे मेरे सहयोगी ने बताया कि एक देवेंद्र कुमार मोदी और उनके अन्य सहयोगियों द्वारा मंदिर परिसर (मंदिर की 42 बीघा 16 विश्वा की प्रमुख संपत्ति) विभिन्न बनावटी और बेनामी लेनदेन के माध्यम से उक्त मंदिर परिसर को अपने फायदे के लिए बेचने पर तुला हुआ है। 60 वर्ष पुराने मंदिर में होने वाली अवैधताओं के बारे में बात करते हुए स्वामी ने कहा – “मुझे यह भी सूचित किया गया है कि, पासी रोड पटियाला स्थित उक्त मंदिर परिसर मोदी मंदिर के रूप में भी जाना जाता है, भगवान लक्ष्मी नारायण को समर्पित है जिसमें बड़ी संख्या में दैनिक रूप से भक्तों का तांता लगा रहता है, जो पूजा के लिए प्रतिदिन आते हैं।”

ट्रस्ट शिक्षा के क्षेत्र में भी लगा हुआ है और एक मोदी कॉलेज, पटियाला की तरह स्कूलों और कॉलेजों आदि शिक्षण संस्थानों को संचालित करता है।

मोदी मंदिर परिसर को एक परिवारिक चैरिटेबल (धर्मार्थ) ट्रस्ट द्वारा प्रबंधित किया गया था, जिसे राय बहादुर मुल्तानी मल मोदी चैरिटेबल ट्रस्ट के रूप में जाना जाता है, जो पटियाला में पंजीकृत है और जिसका कार्यालय भी पटियाला में है, 12 जुलाई 1944 को राय बहादुर मुल्तानी मल मोदी इसके संस्थापक अध्यक्ष और सेठ बनारसी दास इस न्यास के संस्थापक ट्रस्टी थे। उक्त चैरिटेबल ट्रस्ट भी धर्मार्थ गतिविधियों को करने में सक्रिय रूप से लगा हुआ था और इस तरह धर्मशालाओं और मंदिरों/ पूजा स्थलों के रूप में ज्यादातर बड़ी संख्या में अचल संपत्तियाँ इस ट्रस्ट के पास हैं और वे मोदी भवन या मोदी मंदिर के रूप में जाने जाते हैं और इसी तरह विभिन्न राज्यों में, भारत के विभिन्न भागों सहित मोदी नगर, पटियाला, हरिद्वार, ऋषिकेश और बरसाना आदि में जनहित हेतु कई भवन इस ट्रस्ट द्वारा निर्मित किये गए। इसके अलावा, ट्रस्ट शिक्षा के क्षेत्र में भी लगा हुआ है और एक मोदी कॉलेज, पटियाला की तरह स्कूलों और कॉलेजों आदि शिक्षण संस्थानों को संचालित करता है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

जनहित में जाँच की मांग करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा – “मुझे सूचित किया गया है कि ट्रस्ट के वर्तमान अध्यक्ष, देवेंद्र कुमार मोदी अपने सहयोगियों के साथ ट्रस्ट के मामलों को गलत तरीके से संचालित कर रहे हैं। यह जानकर भी हैरानी हो रही है कि, इससे पहले अध्यक्ष, देवेंद्र कुमार मोदी ने अपने साथियों के साथ मिलकर कुप्रबंधन किया था और ट्रस्ट की विभिन्न मूल्यवान संपत्तियों को पहले ही बेच दिया है, जैसा कि नीचे बताया गया है:

  1. “ऋषिकेश (हरिद्वार के पास) में मोदी भवन के रूप में जानी जाने वाली एक धर्मशाला को वास्तविक बाजार मूल्य की तुलना में कम कीमत पर बेच दिया गया और बिक्री से हुई आय का गलत इस्तेमाल किया गया और ट्रस्ट के प्रयोजनों के लिए खर्च नहीं किया गया।”
  2. “बरसाना (यूपी) में मोदी भवन के रूप में विख्यात संपत्ति को मोदी भवन नामक बरसाना (यूपी) में स्थित संपत्ति को इस झूठे कारण के साथ कि न्यास के पास भवन को बनाए रखने के लिए या उसकी आवश्यक मरम्मत के लिए पर्याप्त धन नहीं है और तीनों ने अपने अवैध आय के लिए उपरोक्त सम्पत्ति के बिक्री का निर्णय लिया, इसके अलावा, ट्रस्ट खातों में राशि जमा नहीं की गई थी।”

उन्होंने मंदिर की संपत्ति के अवैध बिक्री को रद्द करने की भी मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.