रडार उपकरणों की खरीद में धोखाधड़ी के लिए अमेरिकी फर्म एकॉन इंक और भारतीय महिला वैज्ञानिक को सीबीआई ने आरोपित किया

डीएआरई की महिला वैज्ञानिक को एक गैर-कामकाजी उत्पाद के झूठे प्रमाणीकरण के लिए आरोपित किया

0
497
डीएआरई की महिला वैज्ञानिक को एक गैर-कामकाजी उत्पाद के झूठे प्रमाणीकरण के लिए आरोपित किया
डीएआरई की महिला वैज्ञानिक को एक गैर-कामकाजी उत्पाद के झूठे प्रमाणीकरण के लिए आरोपित किया

एकॉन इंक भारतीय महिला वैज्ञानिक के साथ साजिश में था

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सोमवार को भारत के प्रमुख डिफेंस एविओनिक्स रिसर्च इस्टेब्लिशमेंट (डीएआरई) को धोखा देने के लिए यूएस-आधारित कंपनी एकॉन इंक और एक भारतीय वैज्ञानिक प्रिया सुरेश को आरोपित किया है। यह धोखाधड़ी 2009 में 1 मिलियन डॉलर के सौदे में हुई जिसमें कारण राडार उपकरणों की खरीद और बाद में गैर आपूर्ति रही। कैलिफोर्निया स्थित कंपनी एकॉन इंक ने एक महिला वैज्ञानिक के साथ साजिश रची थी, जो कि उस समय डीएआरई में काम कर रही थी।

एजेंसी ने प्रिया सुरेश (एक वैज्ञानिक, उस समय डीएआरई बेंगलुरू में कार्यरत) के खिलाफ प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज करने के लिए मंजूरी मिलने के बाद मामला दर्ज किया। सीबीआई ने यूएस के कैलिफ़ोर्निया स्थित एकॉन इंक को, रडार आधारित इलेक्ट्रॉनिक युद्ध में उपयोग होने वाले 35 वोल्टेज कंट्रोल्ड ऑस्किलेटर (वीसीओ) आधारित रेडियो फ्रीक्वेंसी (आरएफ) जेनरेटर के लिए एक मिलियन डॉलर का पूरा भुगतान प्राप्त करने के बाद भी अधूरे उपकरण भेजने के लिए, एफआईआर में नामित किया है। एकॉन को एक वैश्विक निविदा (टेंडर) के बाद चुना गया था और इसे तीन किश्तों में उपकरण की आपूर्ति करनी थी।

जांच एजेंसी ने कहा कि अब भी केवल 13 इकाइयाँ डीएआरई के पास हैं और शेष एकॉन के पास हैं।

सीबीआई ने कहा कि प्रिया ने इन 35 इकाइयों को यह जानते हुए स्वीकार किया कि ये इकाइयां विकास के चरण में थीं, क्योंकि यह बात एकॉन के प्रतिनिधियों ने मेल के माध्यम से उन्हें बताई थी। सीबीआई ने कहा कि एफआईआर दर्ज करने से पहले मामले की प्रारंभिक जांच करने वाली एजेंसी ने पाया कि 24 इकाइयों को, अपग्रेड की प्रकृति के बारे में बताए बिना वापस भेज दिया गया, 11 इकाईं डीएआरई स्टोर में 2011 तक बिना उपयोग और बिना परीक्षण के पड़ी रहीं।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

सीबीआई ने कहा – महिला वैज्ञानिक ने यह प्रमाणित करते हुए कि उपकरण संतोषजनक स्थिति में काम कर रहे हैं, एकॉन के शेष भुगतान को मंजूरी दे दी, यह जानते हुए भी कि 24 इकाइयाँ अभी भी अमेरिका स्थित विक्रेता के पास थीं। 2011 में, विक्रेता को भुगतान सुनिश्चित करने के बाद, वैज्ञानिक ने सिफारिश की कि स्टोर में पड़ीं 11 इकाइयां काम नहीं कर रही थीं और इनको मरम्मत के लिए विक्रेता को वापस भेजा जाना चाहिए। जांच एजेंसी ने कहा कि अब भी केवल 13 इकाइयाँ डीएआरई के पास हैं और शेष एकॉन के पास हैं।

उन्होंने कहा कि विक्रेता द्वारा आपूर्ति की गई इकाइयां आदेश के विनिर्देशों को पूरा नहीं करती हैं और उनका वजन इसके द्वारा प्रदान की गई कृत्रिम से लगभग तीन गुना अधिक था। सीबीआई ने कहा कि एकॉन द्वारा उपकरणों की आपूर्ति न करने के कारण, वीसीओ – आधारित रडार थ्रेट सिम्युलेटर (खतरे का पता लगाने वाला) का परीक्षण 9.5 लाख रुपये के पूर्ण भुगतान के बाद भी बेंगलुरु के एक विक्रेता द्वारा पूरा नहीं किया जा सका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.