प्रतिबंधों को लागू करने की अमेरिकी धमकी को रूस ने दरकिनार किया। कहा कि भारत को एस-400 मिसाइल प्रणाली की आपूर्ति वाले छह-बिलियन-डॉलर कीमत के सौदे को निश्चित समय पर ही पूरा करेंगे!

अमेरिका की भारत के खिलाफ प्रतिबंधों की धमकी को रूस ने दरकिनार किया, दावा किया कि चीन को भी बेचा!

0
1482
अमेरिका की भारत के खिलाफ प्रतिबंधों की धमकी को रूस ने दरकिनार किया, दावा किया कि चीन को भी बेचा!
अमेरिका की भारत के खिलाफ प्रतिबंधों की धमकी को रूस ने दरकिनार किया, दावा किया कि चीन को भी बेचा!

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा लागू किए गए प्रतिबंधों के अलावा किसी अन्य प्रतिबंध को नहीं मानते

प्रतिबंधों को लागू करने पर संयुक्त राज्य अमेरिका की धमकी के साथ, रूस ने सोमवार को कहा कि भारत को एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम (वायु सुरक्षा प्रणाली) की आपूर्ति वाला छह बिलियन-डॉलर का सौदा अपने निश्चित समयानुसार ही आगे बढ़ रहा है। भारत में रूसी राजदूत निकोले कुदाशेव का यह बयान, रूस द्वारा निर्मित एस-400 मिसाइल प्रणाली का सौदा करने के लिए तुर्की के खिलाफ अमेरिका द्वारा प्रतिबंध लगाने के कुछ दिनों के बाद आया है। चीन पहले ही रूस से छह से अधिक ऐसे सिस्टम खरीद चुका है।

भारत और रूस ने 2018 में पांच एस-400 सिस्टम के लिए 5.6 बिलियन डॉलर से अधिक का सौदा किया था। ये हवाई रक्षा प्रणालियां 400 किमी से अधिक दूरी तक अपनी जद में आने वाली मिसाइलों और विमानों का पता लगाने और नष्ट करने में सक्षम होंगी। 2021 तक सिस्टम भारत में आना शुरू हो जाएगा और पूरे पांच सिस्टम पांच साल की समयावधि में भारत आ जायेंगे। पिछले दो वर्षों से, रूस से हथियारों की खरीद करने पर अमेरिका द्वारा भारत को संभावित प्रतिबंध की चेतावनी को दरकिनार करते हुए, राजदूत कुदाशेव ने कहा कि सैन्य हार्डवेयर के लिए भारत के साथ चल रहे सौदे अच्छी तरह से आगे बढ़ रहे हैं।

भविष्य में कुछ भी हो, हम मानते हैं कि हमारे संबंध आने वाली चुनौतियों का सामना करेंगे।” बाबूस्किन ने कहा, प्रतिबंध लगाने पर अमेरिका की धमकियों को दोहराते हुए।

उन्होंने यह भी कहा कि केए-226 हेलीकॉप्टरों की खरीद और भारत में एके-203 असॉल्ट राइफलों की आपूर्ति के उत्पादन में अच्छी प्रगति है। भारत स्थित रूसी राजदूत ने कहा – “जहां तक वर्तमान सौदों का सवाल है, हम एस-400 आपूर्ति के साथ अच्छी गति से आगे बढ़ रहे हैं। यदि केए-226 हेलीकॉप्टर और एके-203 राइफल उत्पादन से संबंधित काम शुरू करने के लिए प्रासंगिक निर्णयों में तेजी लाई जाती है, तो जल्द ही हम अच्छी प्रगति देखेंगे, जो भारतीय सशस्त्र बलों द्वारा व्यक्त किए गए गहरे हितों के कारण विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

भारत के खिलाफ प्रतिबंधों की अमेरिकी धमकी पर, कुदाशेव ने कहा कि भारत की तरह रूस, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के अलावा अन्य किसी प्रतिबंध को मान्यता नहीं देता है। रूसी दूतावास में कार्यदूत रोमन बबुस्कीन ने रूस से हथियारों की खरीद पर अमेरिकी अतिरिक्त प्रतिबंधों को, “अनुचित प्रतिस्पर्धा और दबाव के अवैध उपकरण” के रूप में वर्णित किया।

अमेरिका द्वारा प्रतिबंध लागू करने की धमकी के जवाब में बबुस्कीन ने कहा – “जहां तक प्रतिबंधों का सवाल है, कोई भी भविष्यवाणी करना कठिन है और पहले बिडेन प्रशासन को सार्वजनिक रूप से अपनी योजनाओं और विदेश नीति के दृष्टिकोण की घोषणा करने दें। हम अंतरराज्यीय या अंतरराष्ट्रीय संबंधों के लिए लगाए गए एकतरफा प्रतिबंधों को मान्यता नहीं देते, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा लागू किए गए प्रतिबंधों के अलावा हम किसी अन्य प्रतिबंध को नहीं मानते, यही तुर्की के संबंध में भी है। जहां तक भारत का संबंध है, हम एक ही दृष्टिकोण रखते हैं। भारत की स्थिति बिल्कुल स्पष्ट है – संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा लागू किए गए प्रतिबंधों के अलावा किसी भी प्रतिबंध को स्वीकार नहीं किया जायेगा। भविष्य में कुछ भी हो, हम मानते हैं कि हमारे संबंध आने वाली चुनौतियों का सामना करेंगे।” बाबूस्किन ने कहा, प्रतिबंध लगाने पर अमेरिका की धमकियों को दोहराते हुए।

रूस एयरो-इंडिया 2021 में भाग लेने के लिए भी उत्सुक है, जहां वह एसयू-57, एसयू-35, मिग-35 लड़ाकू जेट, केए-52, केए-226, एमआई-17बी-5, एमआई-26 हेलीकॉप्टर और एस-400 मिसाइल सिस्टम का प्रदर्शन करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.