प्रधान मंत्री मोदी ने जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए वैश्विक नेताओं से उच्च गति और बड़े पैमाने पर ठोस कार्रवाई की आवश्यकता का आग्रह किया

विश्व को हरा-भरा बनाने के आग्रह को रेखांकित करते हुए, मोदी ने भारत के रिकॉर्ड को प्रदर्शित किया!

0
789
विश्व को हरा-भरा बनाने के आग्रह को रेखांकित करते हुए, मोदी ने भारत के रिकॉर्ड को प्रदर्शित किया!
विश्व को हरा-भरा बनाने के आग्रह को रेखांकित करते हुए, मोदी ने भारत के रिकॉर्ड को प्रदर्शित किया!

मोदी और बिडेन ‘भारत-अमेरिका जलवायु और स्वच्छ ऊर्जा एजेंडा 2030 साझेदारी शुरू कर रहे हैं!

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने हेतु “उच्च गति” और बड़े पैमाने पर एक ठोस कार्रवाई करने हेतु अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन सहित विश्व के नेताओं से बातचीत की और कहा कि भारत इस चुनौती से निपटने के लिए अपनी ओर से सार्थक प्रयास कर रहा है। अमेरिका की अध्यक्षता में 40 वैश्विक नेताओं की इस समिट को संबोधित करते हुए, मोदी ने कहा कि स्थायी जीवनशैली और “बैक टू बेसिक्स” (बुनियादी तौर-तरीकों पर वापस लौटने) के मार्गदर्शक दर्शनशास्र को कोविड युग के बाद की आर्थिक रणनीति का महत्वपूर्ण स्तंभ होने चाहिए।

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि वह और राष्ट्रपति बिडेन ‘भारत-अमेरिका जलवायु और स्वच्छ ऊर्जा एजेंडा 2030 साझेदारी’ शुरू कर रहे हैं। शिखर सम्मेलन में उन्होंने कहा, “एक साथ, हम निवेश जुटाने, स्वच्छ प्रौद्योगिकियों को प्रदर्शित करने और हरित सहयोग को सक्षम करने में मदद करेंगे।” मोदी ने कहा कि भारत ने अपनी विकास चुनौतियों के बावजूद स्वच्छ ऊर्जा, ऊर्जा दक्षता, वनीकरण और जैव-विविधता पर “कई साहसिक कदम” उठाए हैं।

मोदी ने कहा कि मानवता अभी वैश्विक महामारी से जूझ रही है और शिखर सम्मेलन याद दिलाता है कि जलवायु परिवर्तन का गंभीर खतरा टला नहीं है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए मानवता के लिए ठोस कार्रवाई की जरूरत है। हमें बड़े पैमाने पर और वैश्विक दायरे के साथ बड़े पैमाने पर ऐसी कार्रवाई की आवश्यकता है। हम भारत में अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभा रहे हैं।” इस रिपोर्ट के नीचे प्रधानमंत्री मोदी का पूरा भाषण प्रकाशित है।

उन्होंने कहा – “जलवायु के प्रति जिम्मेदार विकासशील देश के रूप में, भारत सतत विकास का खाका तैयार करने के लिए भागीदारों का स्वागत करता है। ये अन्य विकासशील देशों को भी मदद कर सकते हैं, जिन्हें ग्रीन फाइनेंस और स्वच्छ प्रौद्योगिकियों तक सस्ती पहुंच की आवश्यकता है।” मोदी ने कहा कि मानवता अभी वैश्विक महामारी से जूझ रही है और शिखर सम्मेलन याद दिलाता है कि जलवायु परिवर्तन का गंभीर खतरा टला नहीं है। शिखर सम्मेलन की मेजबानी के लिए प्रधान मंत्री ने राष्ट्रपति बिडेन को धन्यवाद भी दिया।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पूरा भाषण नीचे प्रकाशित किया गया है:

महामहिम राष्ट्रपति बिडेन,
विशिष्ट सहयोगियों,
इस ग्रह के मेरे साथी नागरिक,

नमस्कार!

मैं इस पहल को करने के लिए राष्ट्रपति बिडेन को धन्यवाद देना चाहूंगा। मानवता अभी वैश्विक महामारी से जूझ रही है। और, यह घटना याद दिलाने के लिए चेतावनी है कि जलवायु परिवर्तन का गंभीर खतरा टला नहीं है।

वास्तव में, जलवायु परिवर्तन दुनिया भर के लाखों लोगों के लिए एक जीवित वास्तविकता है। उनकी ज़िंदगी और आजीविका पहले से ही इसके प्रतिकूल परिणामों का सामना कर रहे हैं

दोस्तों,

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए मानवता के लिए, ठोस कदम उठाने की आवश्यकता है। हमें बड़े पैमाने पर तेजी के साथ और वैश्विक दायरे में ऐसी कार्रवाई की आवश्यकता है। हम, भारत में अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। 2030 तक 450 गीगावाट की महत्वाकांक्षी नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

हमारी विकास की चुनौतियों के बावजूद, हमने स्वच्छ ऊर्जा, ऊर्जा दक्षता, वनीकरण और जैव-विविधता पर कई साहसिक कदम उठाए हैं। इसीलिए हम उन कुछ देशों में से हैं, जिनके एनडीसी 2-डिग्री सेल्सियस के अनुकूल हैं।

हमने अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन, लीड आईटी और आपदा रोधी संरचना के लिए गठबंधन जैसी वैश्विक पहलों को भी प्रोत्साहित किया है।

दोस्तों,

एक जलवायु के प्रति जिम्मेदार विकासशील देश के रूप में, भारत सतत विकास के खाके तैयार करने के लिए भागीदारों का स्वागत करता है। ये अन्य विकासशील देशों की भी मदद कर सकते हैं, जिन्हें हरित वित्त और स्वच्छ प्रौद्योगिकियों तक सस्ती पहुंच की आवश्यकता है।

इसीलिए, राष्ट्रपति बिडेन और मैं “भारत-अमेरिका जलवायु और स्वच्छ ऊर्जा एजेंडा 2030 साझेदारी” शुरू कर रहे हैं। साथ में, हम निवेश जुटाने, स्वच्छ प्रौद्योगिकियों के प्रदर्शन और ग्रीन फाइनेंस को सक्षम करने में मदद करेंगे।

दोस्तों,

आज, जैसा कि हम वैश्विक जलवायु कार्रवाई पर चर्चा कर रहे हैं, मैं आपके साथ एक विचार साझा करना चाहता हूं। भारत की प्रति व्यक्ति कार्बन फुटप्रिंट (उत्सर्जन) वैश्विक औसत से 60% कम है। यह इसलिए है क्योंकि हमारी जीवन शैली अभी भी स्थायी पारंपरिक प्रथाओं में निहित है।

इसलिए आज, मैं जलवायु कार्रवाई हेतु जीवन शैली में बदलाव के महत्व पर जोर देना चाहता हूं। सतत जीवन शैली और “बैक टू बेसिक्स” के एक मार्गदर्शक दर्शनशास्र को कोविड के बाद के युग के लिए हमारी आर्थिक रणनीति का एक महत्वपूर्ण स्तंभ होना चाहिए।

दोस्तों,

मैं महान भारतीय सन्यासी स्वामी विवेकानंद के शब्दों को याद करता हूं। उन्होंने हमें “उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक कि लक्ष्य पूरा न हो जाए।” का पाठ पढ़ाया। चलिए हम इसे जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्रवाई का दशक बनाएं।

धन्यवाद। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.