मुंबई उच्च न्यायालय शुक्रवार को अर्नब गोस्वामी की जमानत याचिका पर सुनवाई करेगा। एनसीपी ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर मामला बंद करने का आरोप लगाया

मुंबई उच्च न्यायालय शुक्रवार को अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत अर्जी पर सुनवाई करेगा, यह मामला गोस्वामी द्वारा स्टूडियो के आर्किटेक्ट को भुगतान न किये जाने पर उसकी आत्महत्या पर दर्ज किया गया।

0
623
मुंबई उच्च न्यायालय शुक्रवार को अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत अर्जी पर सुनवाई करेगा, यह मामला गोस्वामी द्वारा स्टूडियो के आर्किटेक्ट को भुगतान न किये जाने पर उसकी आत्महत्या पर दर्ज किया गया।
मुंबई उच्च न्यायालय शुक्रवार को अर्नब गोस्वामी की अंतरिम जमानत अर्जी पर सुनवाई करेगा, यह मामला गोस्वामी द्वारा स्टूडियो के आर्किटेक्ट को भुगतान न किये जाने पर उसकी आत्महत्या पर दर्ज किया गया।

जब पुलिस ने मामला फिर से खोला तो अर्नब को अग्रिम जमानत क्यों नहीं मिली?

चूंकि रिपब्लिक टीवी के संपादक और मालिक अर्नब गोस्वामी का न्यायिक हिरासत में लगातार दूसरा दिन है, मुंबई उच्च न्यायालय उनके स्टूडियो के वास्तुकार के गैर-भुगतान से प्रेरित आत्महत्या कर लेने के मामले में शुक्रवार को उनकी अंतरिम जमानत आवेदन पर सुनवाई करेगा। ऐसा प्रतीत होता है, कई कानूनी विशेषज्ञों के अनुसार अर्नब की कानूनी टीम भ्रम में है, गुरुवार को सुनवाई न्यायालय (ट्रायल कोर्ट) से जमानत याचिका वापस लेने और हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने में देरी की, हाईकोर्ट पुलिस द्वारा दर्ज प्राथमिकी को रद्द करने के लिए उनकी याचिका पर सुनवाई कर रहा था। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) जैसे सत्ताधारी दलों ने पहले ही मांग की है कि पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को भी अप्रैल 2019 में मामले को संदिग्ध रूप से बंद करने के लिए सह-अभियुक्त के रूप में आरोपित किया जाए[1]। अर्नब के खिलाफ मामला मजबूत करने के लिए, महाराष्ट्र पुलिस ने अर्नब के साथ साजिश रचने का आरोप लगाते हुए मामले को बंद करने वाले पहले के जांच अधिकारी को भी गिरफ्तार कर लिया।

अर्नब को बुधवार को रायगढ़ पुलिस ने मुंबई के लोअर परेल स्थित उनके निवास से काफी शारीरिक हमलों और नाटकीयता के बाद गिरफ्तार किया था। 4 नवम्बर को अलीबाग की ट्रायल कोर्ट ने अर्नब को 14 दिनों (18 नवंबर तक) की न्यायिक हिरासत पर भेज दिया। अन्वय नाइक के परिवार ने भी प्राथमिकी को रद्द करने के लिए अर्नब की याचिका पर पुनर्विचार की मांग की[2]। पालघर में साधुओं की हत्या में अरनब गोस्वामी के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ बहुत ही तीखे तरीके से हमले के तुरंत बाद, शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस द्वारा शासित महाराष्ट्र सरकार ने मई 2020 में अर्नब को निशाना बनाते हुए आत्महत्या के मामले को फिर से खोल दिया था। कानूनी हलकों में सभी अचंभित हैं कि जब पुलिस ने मामले को फिर से खोल दिया तो अर्नब को अग्रिम जमानत क्यों नहीं मिली?

वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे, जो इस समय अपनी दूसरी शादी के बाद लंदन में हनीमून पर हैं, ने भी गोस्वामी के लिए प्रस्तुत होते हुए तर्क दिया कि अगर वह जमानत पर रिहा हुए तो अभियोजन पक्ष को कोई क्षति नहीं होगी।

न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और एमएस कर्णिक की खंडपीठ ने गुरुवार को गोस्वामी को मामले में शिकायतकर्ता, अन्वय नाइक की पत्नी अक्षिता नाइक को, उनकी याचिका के प्रति जवाबदेह बनाने का निर्देश दिया। पीठ ने कहा, “हमें अंतरिम राहत पर विचार करने से पहले सभी पक्षों को सुनना होगा। हमें शिकायतकर्ता को भी सुनना है क्योंकि मृतक के परिवार ने यहां एक याचिका दायर की है, जिसमें जांच स्थानांतरित करने की मांग की गई है।”

न्यायालय ने कहा, “उत्तरदाता (महाराष्ट्र सरकार और शिकायतकर्ता) प्रतिक्रिया के हकदार हैं। हम कल मांगी गई अंतरिम राहत पर विचार करेंगे।” कई कानूनी विशेषज्ञों का कहना है कि एफआईआर को खारिज करने की याचिका के बजाय अर्नब को ट्रायल कोर्ट से ही जमानत मिलने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए था

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

गोस्वामी की ओर से पेश वरिष्ठ वकील आबाद पोंडा ने कहा कि अलीबाग न्यायाधीश की अदालत के समक्ष दायर जमानत याचिका वापस ले ली गई है। पोंडा ने कहा – “मजिस्ट्रेट ने यह स्पष्ट नहीं किया था कि जमानत याचिका पर सुनवाई कब होगी और इस मामले की सुनवाई सत्र न्यायालय के अधिकार क्षेत्र में होने के कारण भी सुनवाई में मुश्किल व्यक्त की गई। इसलिए, हम उच्च न्यायालय में अंतरिम जमानत की मांग कर रहे हैं।”

वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे, जो इस समय अपनी दूसरी शादी के बाद लंदन में हनीमून पर हैं, ने भी गोस्वामी के लिए प्रस्तुत होते हुए तर्क दिया कि अगर वह जमानत पर रिहा हुए तो अभियोजन पक्ष को कोई क्षति नहीं होगी। हालाँकि, हाई कोर्ट ने कहा कि वह बहस करने वालों को बहस का मौका दिये बिना जमानत के मुद्दे पर विचार नहीं कर सकते।

इस बीच, सत्तारूढ़ शिवसेना ने गुरुवार को रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ (प्रधान संपादक) अर्नब गोस्वामी की, एक व्यक्ति को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तारी को, “काला दिन” और “प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला” के रूप में वर्णित करने के लिए भाजपा को दोषी ठहराया। सेना के मुखपत्र ‘सामना’ के एक संपादकीय में कहा गया है कि यह आश्चर्यजनक है कि राज्य के भाजपा नेताओं के साथ केंद्रीय मंत्रियों का कहना है कि गोस्वामी की गिरफ्तारी के कारण महाराष्ट्र में “आपातकाल जैसी स्थिति” है। ‘सामना’ के संपादकीय में आरोप लगाया गया कि पिछली राज्य सरकार ने गोस्वामी की सुरक्षा के लिए नाइक की आत्महत्या के मामले को “दबा दिया” था।

इसमें आगे दावा किया गया कि गुजरात में एक पत्रकार को राज्य सरकार के खिलाफ लिखने के लिए गिरफ्तार किया गया था, जबकि उत्तर प्रदेश में पत्रकारों को मार दिया गया था। संपादकीय में कहा – “तब किसी को भी नहीं लगा कि ये घटनाएं आपातकाल की याद दिलाती हैं। वास्तव में, राज्य के बीजेपी नेताओं को मिट्टी के एक सपूत अन्वय नाइक के लिए न्याय की मांग करनी चाहिए।”

संपादकीय में कहा गया – “एक मासूम ने अपनी वृद्ध माँ के साथ आत्महत्या कर ली। मृत व्यक्ति की पत्नी न्याय की मांग कर रही है और पुलिस कानून का पालन कर रही है। चौथे स्तंभ (लोकतंत्र के) पर हमले का सवाल कहां उठता है? जो लोग यह कह रहे हैं वे पहले स्तंभ को रौंदने का प्रयास कर रहे हैं।”

संदर्भ:

[1] Arnab Goswami arrest: NCP calls for making Devendra Fadnavis co-accused in abetment to suicide caseNov 05, 2020, Scroll

[2] Arnab Goswami, 2 others sent to 14-day judicial custody in 2018 suicide abetment caseNov 04, 2020, Hindustan times

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.