5 नवंबर को वैश्विक निवेशक गोलमेज सम्मेलन (ग्लोबल इन्वेस्टर्स राउंडटेबल) की अध्यक्षता करेंगे प्रधान मंत्री मोदी। दुनिया भर से टॉप पेंशन और सॉवरिन वेल्थ फंड हिस्सा लेंगे!

विदेशी निवेश में तेजी लाने के उद्देश्य से, भारत ने पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक वैश्विक निवेशक गोलमेज सम्मेलन आयोजित किया है!

0
426
विदेशी निवेश में तेजी लाने के उद्देश्य से, भारत ने पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक वैश्विक निवेशक गोलमेज सम्मेलन आयोजित किया है!
विदेशी निवेश में तेजी लाने के उद्देश्य से, भारत ने पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक वैश्विक निवेशक गोलमेज सम्मेलन आयोजित किया है!

विदेशी निवेश में तेजी लाने के लिए, भारत 5 नवंबर को एक वैश्विक निवेशक गोलमेज सम्मेलन का आयोजन करेगा, जिसमें शीर्ष पेंशन फंड और सॉवरेन वेल्थ फंड सहित प्रमुख वैश्विक कंपनियों के सीईओ द्वारा भाग लेंगे। वैश्विक निवेशक गोलमेज सम्मेलन की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे जो भारत में निवेश की संभावनाओं और अवसरों के बारे में सीईओ को जानकारी देंगे। बैठक को वर्चुअल रूप से आयोजित किया जायेगा और वित्त मंत्रालय, राष्ट्रीय निवेश और अवसंरचना कोष द्वारा प्रबंधित किया जाएगा। यह प्रमुख वैश्विक संस्थागत निवेशकों, भारतीय व्यापार जगत के व्यापारियों और भारत सरकार और वित्तीय बाजार नियामकों के उच्चतम निर्णयकर्ताओं के बीच एक विशेष बातचीत है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर, आरबीआई गवर्नर शक्ति कांत दास, और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी वर्चुअल ग्लोबल इनवेस्टर राउंडटेबल (वीजीआईआर) में मौजूद रहेंगे।

अमेरिका, यूरोप, कनाडा, कोरिया, जापान, मध्य पूर्व, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर में स्थित शीर्ष 20 वैश्विक कंपनियां प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में विदेशी निवेशकों के सम्मेलन में भाग लेंगी। वित्त मंत्रालय ने मंगलवार शाम दिल्ली में जारी एक बयान में कहा – “राउंडटेबल में दुनिया की सबसे बड़े पेंशन और सोवरन कंपनियों में से बीस, जिनकी कुल परिसंपत्ति 6 ट्रिलियन डॉलर है, हिस्सा लेंगी। ये वैश्विक संस्थागत निवेशक अमेरिका, यूरोप, कनाडा, कोरिया, जापान, मध्य पूर्व, ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर सहित प्रमुख क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस आयोजन में इन फंड्स कंपनियों के मुख्य निर्णयकर्ता, अर्थात सीईओ और सीआईओ की भागीदारी होगी। इनमें से कुछ निवेशक पहली बार भारत सरकार के साथ बातचीत करेंगे। वैश्विक निवेशकों के अलावा, गोलमेज सम्मेलन में कई शीर्ष भारतीय बिजनेस लीडर्स (बड़े भारतीय व्यवसायी) की भागीदारी भी देखी जाएगी।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

वीजीआईआर 2020 में भारत के आर्थिक और निवेश के दृष्टिकोण, संरचनात्मक सुधारों और सरकार के 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण पर चर्चा होगी[1]। यह कार्यक्रम भारत में अंतर्राष्ट्रीय निवेश के विकास को और तेज करने के लिए वैश्विक निवेशकों और भारतीय व्यापार जगत के दिग्गजों को वरिष्ठ नीति निर्माताओं के साथ जुड़ने और विचार करने का अवसर प्रदान करेगा। भारत में विदेशी निवेश इस वित्तीय वर्ष के पहले पांच महीनों में सबसे अधिक है। वित्त मंत्रालय ने कहा, “वीजीआईआर 2020 सभी साझेदारों के लिए एक अवसर प्रदान करेगा, जो मजबूत साझेदारियों को और मजबूत बनाने के लिए और अंतरराष्ट्रीय संस्थागत निवेशकों के साथ जुड़ाव बढ़ाने के लिए होगा, जो कि अपने भारतीय निवेश को बढ़ाना चाहते हैं।”

संदर्भ:

[1] Sree Iyer at Indo-American Press Club Webinar on India-US relations offers 2 steps for Modi GovtNov 1, 2020, Youtube

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.