मोदी सरकार फिर से किसानों के प्रति झुकी, गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली की अनुमति दी

मोदी सरकार को अपनी कार्यशैली में सुधार करने का समय - एक अच्छा बिल अब बेकार!

0
842
मोदी सरकार को अपनी कार्यशैली में सुधार करने का समय - एक अच्छा बिल अब बेकार!
मोदी सरकार को अपनी कार्यशैली में सुधार करने का समय - एक अच्छा बिल अब बेकार!

दिल्ली की सीमाओं पर तीन अलग-अलग विरोध प्रदर्शन स्थानों पर ट्रैक्टर रैली की अनुमति दी गई

नरेंद्र मोदी सरकार, 26 जनवरी, गणतंत्र दिवस पर किसानों को ट्रैक्टर रैली निकालने की अनुमति देकर एक बार फिर झुक गयी। “शक्तिशाली” केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के अंतर्गत आने वाली दिल्ली पुलिस ने आज दिल्ली की सीमाओं में तीन अलग-अलग विरोध प्रदर्शन स्थानों पर ट्रैक्टरों की रैली की, किसान संगठनों की मांग पर सहमति दे दी। दिल्ली पुलिस द्वारा यह फैसला तब आया है, जबकि कुछ दिनों पहले उसने सर्वोच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की थी, जिसमें देश विरोधी खालिस्तानी तत्वों के प्रवेश सहित कई आरोपों का हवाला देते हुए ट्रैक्टर रैली पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गयी थी। शीर्ष न्यायालय ने दिल्ली पुलिस को यह नसीहत देते हुए याचिका खारिज कर दी थी कि पुलिस न्यायालय से अनुमति मांगने के बजाय स्वयं निर्णय करे। ये बातें स्पष्ट रूप से दर्शाती हैं कि, नरेंद्र मोदी सरकार दुविधा में पडी है। स्पष्ट रूप से यह दर्शाता है कि सत्ताधारी पार्टी भाजपा में शीर्ष दो नेताओं (मोदी-शाह) को छोड़कर कोई परामर्श या विचार-मंथन नहीं हो रहा है, और वे दोनों अपनी ही दुनिया में रहते हैं।

पिछले सप्ताह, कईयों को झटका लगा जब सरकार ने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को 18 महीने के लिए स्थगित करने की पेशकश की[1]। लेकिन किसान संगठनों ने इतने उदार इस प्रस्ताव को भी खारिज कर दिया और कानूनों को रद्द करने के अपने रुख पर अड़े रहे। कानूनों को निरस्त करने का मतलब है, सरकार को संसद को सूचित करना होगा कि वे कानूनों को वापस ले रहे हैं, जो कि सत्तारूढ़ भाजपा के लिए एक दयनीय स्थिति होगी, जो मई 2019 के चुनावों में लोकसभा में 303 सांसदों के साथ सत्ता में आई और उसके पास राज्यसभा में भी पर्याप्त प्रबंधनीय बहुमत है। सच कहूँ तो, बीजेपी इन कृषि बिलों में हारी हुई है, क्योंकि उन्होंने अपने दशकों पुराने सहयोगी अकाली दल को खो दिया है।

राज्य सभा में अराजकता भारतीय लोकतंत्र में एक काला अध्याय है, और दो महीनों के भीतर, इन तीन अधिनियमों के सबसे बड़े लाभार्थी, मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल विदेशी निवेशकों को अपने 10% शेयर बेचकर 41,000 करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार करने में सफल रही।

प्रशासनिक शैली त्रुटिपूर्ण है

मोदी की प्रशासन शैली में एक समस्या है। पूर्व राष्ट्रपति दिवंगत प्रणब मुखर्जी ने अपनी हालिया किताब में कहा है कि उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को विपक्ष के लोगों सहित सभी से सलाह लेने की सलाह दी थी। अफसोस की बात है कि मोदी की विपक्षी दलों से बातचीत केवल चालाक शरद पवार के साथ बात करने तक ही सीमित रही और हमने देखा है कि कैसे शरद पवार ने महाराष्ट्र सरकार के गठन में मोदी को ठेंगा दिखाया। जले पर नमक छिड़कने के लिए, मोदी ने पवार को पद्म विभूषण पुरस्कार भी दिया, और इन पुरस्कारों की पवित्रता पर प्रश्न चिन्ह लगाया। परिणामस्वरूप, भाजपा ने एक और विश्वसनीय सहयोगी शिवसेना को खो दिया। कृषि कानूनों पर वापस आते हैं – जून 2020 में इन कानूनों को अध्यादेश के रूप में लाने की आवश्यकता क्या थी, जब पूरा देश लॉकडाउन में था? मोदी और उनके लोग और उनके सोशल मीडिया विंग ने सोचा कि लोग पकाऊ बातचीत और स्लाइड शो पर विश्वास करेंगे?

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

इरादा अच्छा है लेकिन…

संसद के माध्यम से इस तरह के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक विधेयकों को जबरन लागू किया जाना लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं था। स्थायी समिति को भेजे बिना विधेयकों को सितंबर सत्र (महामारी के समय) में पारित किया गया था, स्थायी समिति कम से कम इस पर चर्चा करती। राज्य सभा में अराजकता भारतीय लोकतंत्र में एक काला अध्याय है, और दो महीनों के भीतर, इन तीन अधिनियमों के सबसे बड़े लाभार्थी, मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल विदेशी निवेशकों को अपने 10% शेयर बेचकर 41,000 करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार करने में सफल रही। अब विदेशी धन प्रवाह पर इस तरह की तमाम गाथाएं पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों द्वारा इन सर्दियों की ठंड के महीनों में पिछले 60 दिनों से दिल्ली की सीमाओं को अवरुद्ध करके तीव्र उग्र लड़ाई में बदल गई हैं।

जब सर्वोच्च न्यायालय ने भी संदेश दिया…

यहां तक कि सर्वोच्च न्यायालय ने भी इस उपद्रव को रोकने की कोशिश की। इसने कानूनों को निलंबित करके एक अभूतपूर्व तरीके से इसमें कदम रखा। संदेश स्पष्ट था – अपनी कार्यशैली को बदलने का समय हैं। अब इस सरकार के लिए आत्मनिरीक्षण का समय है, बातचीत और मंथन के साथ। सोशल मीडिया सेल मदद नहीं कर सकती। वे केवल सार्वजनिक संबंध अभ्यास बनाने, शोर करने और/ या गालियां देने के लिए भुगतान किए गए प्रबंधक हैं। लेकिन किसानों ने ठंड के मौसम को किनारे करके अपने दृढ़ विरोध के माध्यम से उन्हें गलत साबित कर दिया है। अब वे कानूनों को संपूर्ण निरस्त करने के अलावा और कुछ नहीं मांगते। क्या हर हितधारक से परामर्श करके, नए कृषि कानून लाने के लिए खुले दिमाग के साथ, विधेयक को संसद की सभी जरूरी प्रक्रियाओं से गुजरकर एक बेहतर दृष्टिकोण अपनाने के लिए समय आ गया है? यह ध्यान में रखना चाहिए कि कृषि एक राज्य सरकार का विषय है और केंद्र को राज्य सरकारों के साथ परामर्श अवश्य करना चाहिए।

संदर्भ:

[1] Modi Government budges, agrees to put on hold the controversial farm laws for 18 monthsJan 20, 2021, PGurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.