भारत स्थित इजरायली दूतावास में जनवरी से ‘जल अधिकारी’ होगा!

कृषि अधिकारी के बाद, अब भारत स्थित इजराइली वाणिज्यिक दूतावास में इजराइल का पूर्णकालिक 'जल अधिकारी' होगा!

0
233
कृषि अधिकारी के बाद, अब भारत स्थित इजराइली वाणिज्यिक दूतावास में इजराइल का पूर्णकालिक 'जल अधिकारी' होगा!
कृषि अधिकारी के बाद, अब भारत स्थित इजराइली वाणिज्यिक दूतावास में इजराइल का पूर्णकालिक 'जल अधिकारी' होगा!

भारत के साथ अपने संबंधों को मजबूत करने और अपनी प्रौद्योगिकियों को साझा करने के लिए, दिल्ली स्थित इजरायली दूतावास में जनवरी 2021 से एक अलग ‘जल अधिकारी‘ होगा जो भारत के जल प्रबंधन और कृषि क्षेत्रों में प्रगति के लिए अपने देश की सर्वोत्तम तकनीक और प्रौद्योगिकियों को साझा करने में मदद करेगा। एक अन्य महत्वपूर्ण घटनाक्रम में, इजरायल जल्द ही उत्तर-पूर्व में मानद वाणिज्यिक दूत को नियुक्त करेगा, जिसका उद्देश्य उस क्षेत्र में अपनी उपस्थिति और सहयोग को बढ़ाना होगा, भारत के प्रमुख समाचार एजेंसी पीटीआई के साथ एक साक्षात्कार में भारत में इजरायली राजदूत रॉन मलका ने कहा।

इजरायली राजदूत ने यह भी कहा कि जनवरी में उनका देश पहली बार एक जल अधिकारी को नियुक्त करने जा रहा है, जो कृषि अधिकारी के साथ मिलकर काम करेगा, कृषि अधिकारी कई वर्षों से यहां हैं, और साथ में वे भारत-इजराइल सहयोग के कदम के रूप में स्थापित कृषि के लिए उत्कृष्टता केंद्रों में जाएंगे और जल प्रबंधन और कृषि के क्षेत्र में भारत में प्रौद्योगिकी और प्रणालियों को लाएंगे। उन्होंने कहा कि पूरे भारत में इस तरह के 29 उत्कृष्टता केंद्र पहले ही स्थापित किए जा चुके हैं और सिर्फ एक साल में लगभग 1.5 लाख किसानों को इन केंद्रों पर प्रशिक्षित किया गया है।

रक्षा और सुरक्षा पहले मुख्य बिंदु हो सकता था, लेकिन यह अभी कई मुख्य बिंदुओं में से एक है क्योंकि दोनों देशों के बीच साझेदारी कई क्षेत्रों में गहरी और विस्तारित हुई है।

मलका ने कहा – “भारत और इजरायल के बीच जल प्रबंधन में रणनीतिक भागीदारी है। यह मुख्य स्तंभों में से एक है, हम इस पर सहयोग कर रहे हैं क्योंकि हम समझते हैं और महसूस करते हैं कि पानी, कोविड के बाद भारत में सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है।” उन्होंने यह भी कहा कि इजराइल इस चुनौती से निपटने के लिए सही विकल्प है। उन्होंने कहा – “हमारे पास इस क्षेत्र में एक साथ करने के लिए बहुत कुछ है। हमने यूपी में पानी पर एक प्रमुख परियोजना पर हस्ताक्षर किए हैं। हम इस मोर्चे पर तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।”

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

उन्होंने कहा – “हम केंद्र और राज्य सरकारों के साथ मिलकर पानी से संबंधित मामलों पर बहुत बारीकी से काम कर रहे हैं। हम जल क्षेत्र में सुधारों और जल शक्ति मंत्रालय के सभी प्राधिकरणों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए भारत को बधाई देते हैं।” मलका ने प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के बीच के संबंधों को गहरा करने के लिए तालमेल की सराहना की।

उन्होंने कहा, “इसके अलावा, अब हम जिस मुकाम पर पहुंचे हैं, वह किसी व्यक्ति विशेष या किसी पार्टी या किसी राजनीतिक घटनाक्रम से बहुत परे है क्योंकि अब हमारा रिश्ता लोगों से है।” मलका ने कहा कि इजरायल के प्रयास उन सभी संभावित क्षेत्रों की पहचान करना है जहाँ वह भारत सरकार द्वारा चिंहित महत्वपूर्ण क्षेत्रों में मूल्यवर्धन ला सकते हैं और ये क्षेत्र कृषि, जल, रक्षा और सुरक्षा, नव-पद्धति, स्वास्थ्य और प्रौद्योगिकी से लेकर अन्य कई क्षेत्रों में हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या भारत-इजरायल के द्विपक्षीय संबंधों में रक्षा मुख्य बिंदु है, उन्होंने कहा कि यह “मुख्य बिंदुओं में से एक” है। रक्षा और सुरक्षा पहले मुख्य बिंदु हो सकता था, लेकिन यह अभी कई मुख्य बिंदुओं में से एक है क्योंकि दोनों देशों के बीच साझेदारी कई क्षेत्रों में गहरी और विस्तारित हुई है। उन्होंने वर्तमान में सहयोग के सबसे विविध क्षेत्रों में से एक के रूप में कृषि की पहचान करते हुए कहा कि इस क्षेत्र में सुधार करने की बहुत गुंजाइश है, जिसमें नवीनतम जल प्रौद्योगिकी समाधानों का उपयोग शामिल है जो कि इजरायल ने बनाया है और भारतीय संदर्भ के लिए सरलता से तैयार किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.