क्या प्रशांत किशोर एक राजनीतिक वेतन-भोगी हैं – कैम्ब्रिज एनालिटिका का देसी संस्करण?

जब प्रतिभाशाली और अच्छे लोग दुष्ट तत्वों की सेवा में पड़ जाते हैं, तो वे बड़ी सटीकता के साथ समाज के विनाश में संलग्न होते हैं और मदद करते हैं

0
835
क्या प्रशांत किशोर एक राजनीतिक वेतन-भोगी हैं - कैम्ब्रिज एनालिटिका का देसी संस्करण?
क्या प्रशांत किशोर एक राजनीतिक वेतन-भोगी हैं - कैम्ब्रिज एनालिटिका का देसी संस्करण?

आइए देखते हैं कि प्रशांत किशोर और टीम ममता के लिए कैसा रेखा-चित्र बनाते हैं। वह ममता का कायाकल्प करेगा, एक दयालु, सज्जन व्यक्ति के रूप में, सभी बंगालियों के लिए उसके दिल में अच्छाई के अलावा कुछ नहीं।

महाभारत में एक सुंदर कहानी है। एक स्वाभाविक प्रतिभाशाली तीरंदाज, एकलव्य द्रोण से अपने तीरंदाजी कला में सुधार कराना चाहता था लेकिन द्रोण ने उसे सिखाने से इनकार कर दिया। हालाँकि उत्साही एकलव्य ने द्रोण की मूर्ति बनाई और द्रोण को अपने शिक्षक के रूप में स्थापित कर समर्पण की भावना के साथ खुद को धनुर्विद्या सिखाई। बाद में, जब पांडव और कौरव राजकुमारों के शिक्षक द्रोण जंगल में घूमते थे तब एक कुत्ते के मुंह के चारों ओर तीरों का एक अद्भुत कवच देखा, जिसने कुत्ते को भौंकने से रोक दिया, लेकिन फिर भी वह हानिरहित था, उन्होंने पूछताछ की कि उसका शिक्षक कौन है, एकलव्य ने कहा द्रोण स्वयं। फिर द्रोण ने एकलव्य से गुरुदक्षिणा की मांग की और उसके दाहिने अंगूठे को मांगा, अच्छी तरह से जानते हुए कि वे एकलव्य को महान धनुर्धर होने से रोक देंगे। बाद में जब इस कृत्य की निष्पक्षता के बारे में पूछा गया, तो द्रोण ने जवाब दिया कि एकलव्य किसी भी राजनीतिक वर्ग के आधार के बिना एक महान प्रतिभाशाली तीरंदाज है और उसे आसानी से गलत तत्वों द्वारा संचालित किया जा सकता है और समाज की भलाई के लिए कहर पैदा किया जा सकता है।

जैसा कि उन्होंने बताया था, एकलव्य ने बाद में राक्षस राजा जरासंध के लिए काम किया और कृष्ण के राज्य मथुरा पर कब्जा करने की उसकी योजना के दौरान उसकी मदद की और यहां तक कि जरासंध और शिशुपाल की भी मदद की, जब कृष्ण रुक्मिणी को साथ लेकर चले गए, जो शिशुपाल से बचाने के लिए कृष्ण के पास पहुंचीं थीं, क्योंकि उन्होंने शिशुपाल से विवाह से इनकार कर दिया था। द्वारका पर हमले के दौरान कृष्ण द्वारा आखिरकार उसे मार दिया गया। कहानी की नैतिक शिक्षा यह है कि जब प्रतिभाशाली और अच्छे लोग दुष्ट तत्वों की सेवा में आते हैं, तो वे बड़ी सटीकता के साथ समाज के विनाश में संलग्न होते हैं और मदद करते हैं।

जैसे आंध्र प्रदेश में उन्हें जगन का साथ देने के लिए एक भोला हिंदू साधु मिल गया वैसे ही इच्छाशक्तिहीन बंगाली साधुओं को पुरस्कार और दंड नीति की मदद से उसके साथ खड़ा करके ये साबित करने की कोशिश करेंगे कि वह हिन्दुओं के साथ स्नेहशील है।

प्रशांत किशोर एक बहुत ही प्रतिभाशाली राजनीतिक रणनीतिकार हैं। मोदी जी उनके द्वारा लिखे गए एक पत्र के आधार पर उनके पास पहुँचे और उन्होंने 2011 के गुजरात राज्य चुनावों में और फिर 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान पहले मोदी जी के राजनीतिक अभियान में भागीदारी की। उनके विकी (Wiki) के अनुसार, ‘चाय पे चर्चा’ को उन्हीं के दिमाग की उपज माना जाता है और मोदी जी की उच्च तकनीकी सार्वजनिक सभाओं में एक साथ कई जगहों पर उपस्थिति हेतु होलोग्राम तकनीक (3 डी रैलियों) का उपयोग किया जाता है, यहां तक कि मीडिया आदि के साथ साक्षात्कार तकनीकों में भी मदद की जाती है। परंतु, उनके बीच मतभेद हो गया और तत्पश्चात साक्षात्कारों में उसने बताया कि इसका मुख्य कारण यह है कि उसने तभी सत्तारूढ़ हुए मोदी जी के सरकार से ऐसे सुधारों की मांग की जो राजनीति में मुमकिन नहीं। कुछ लोग कहते हैं कि उसके अन्य कारण हो सकते हैं, खुद के लिए अधिक प्रमुखता की मांग करने और कुछ लोग उसकी प्रमुखता के लिए ईर्ष्या भी कहते हैं। हम सच्चाई को कभी नहीं जान सकते।

प्रशांत ने इसके बाद 2015 में बिहार में नीतीश कुमार को जीत दिलाने में मदद की, पंजाब में कांग्रेस के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह और हाल ही में 2019 में जगन के लिए। जगन के लिए बड़ी चतुराई से रणनीति बनाने में प्रशांत का ही दिमाग है, कि कैसे लोगों के विभिन्न समूहों को लुभाया जाए, खासकर हिंदुओं को, हिंदू आध्यात्मिक शिक्षकों से मिलना और कई अन्य साधनों के द्वारा। 2017 में यूपी विधानसभा चुनावों के दौरान उन्हें केवल असफलता मिली थी, जब वे कांग्रेस द्वारा नियुक्त किए गए थे, उनके विचारों / सुझावों के पार्टी द्वारा असहयोग के परिणामस्वरूप। अब ममता बनर्जी के उनसे संपर्क करने की खबर है, पश्चिम बंगाल राज्य के चुनावों के लिए एक-दो साल में रणनीति तैयार करने के लिए।

इस सारी गतिविधि में, प्रशांत किशोर केवल मुनाफे से प्रेरित हैं, एक चुनावी रणनीति संगठन जो अपने संसाधनों और विशेषज्ञता को उच्चतम बोलीदाता को दे रहा है। यह कैम्ब्रिज एनालिटिका के देसी संस्करण जैसा है। सत्ता में राजनेताओं और दलों को लाने में उनके कार्यों के परिणाम जो समाज के लिए अयोग्य हैं और मतदाताओं को बेवकूफ बनाने के लिए चतुर उपकरणों का उपयोग सावधानीपूर्वक सुविचारित नहीं किये जाते। ऐसा नहीं है कि जब वह मोदी जी का समर्थन करते हैं तब अच्छे हैं और जब नहीं करते तब अच्छे नहीं हैं। वास्तव में, अमरिंदर सिंह कांग्रेस से एक अच्छे प्रशासक के रूप में जाने जाते हैं और अकाली दल एक अप्रभावी और भ्रष्ट प्रतिष्ठान के रूप में जाना जाता है। जगन को सभी पूर्वसूचना से उनका समर्थन एक बहुत मजबूत ईसाई मिशनरी लॉबी के साथ आंध्र के लिए एक संभावित आपदा हो सकती है जिस लॉबी उन्हें जीतने में मदद की, क्योंकि यह एक प्रारंभिक खामोशी के बाद समाज के तानेबाने को तोड़ देगा। ईसाई जगन रेड्डी की अनदेखी के लिए ताकतें बहुत मजबूत हैं, ताकि वह आंध्र के सभी लोगों के लिए निष्पक्ष रूप से शासन करने के लिए तैयार न हों, भले ही वह अगला चुनाव जीते या नहीं। अब पश्चिम बंगाल में ममता है, जिसके शासन में, दुष्ट इस्लामी तत्वों को हिंदुओं को गाँव से दूर भगाने के लिए खुली छूट दी जाती है, जहाँ दंगे, राजनीतिक हत्याएँ और अराजकता सभी आसानी से देख सकते हैं, एक राज्य एक पागल और असुरक्षित व्यक्ति द्वारा शासित। यह बड़ी शर्म की बात है कि भारतीय संविधान ऐसे राक्षसी राजनेताओं का पूर्वाभास नहीं कर पा रहा है और अब हमारे पास राजनीतिक वेतनभोगी नए वर्ग के लोग हैं जो उसकी मदद के लिए तैयार हैं।

ममता – पीके का अगला अध्याय?

आइए देखते हैं कि प्रशांत किशोर और टीम ममता के लिए कैसा रेखा-चित्र बनाते हैं। वह ममता का कायाकल्प करेगा, एक दयालु, सज्जन व्यक्ति के रूप में, सभी बंगालियों (यानी, हिन्दू भी शामिल हैं) के लिए उसके दिल में अच्छाई के अलावा कुछ नहीं, कम से कम तब तक जब तक चुनाव खत्म नहीं हो जाते। वह मीडिया प्रवक्ता के रूप में सभ्य और पेशेवर व्यक्तियों को नियुक्त करेगा और साथ ही चतुराईपूर्ण विज्ञापन और वीडियो भी पेश करेगा। ममता विशेष रूप से दुर्गा पूजा आयोजित करने और हिंदुओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हिंदुओं को एक सौम्य चेहरा दिखाएगी और यहां तक कि चुनाव जीतने तक इस्लामी तत्वों से अनुरोध करते हुए और मोटी रकम देकर, हिंदुओं को उनके गांवों में वापस लाएगी। वह यह दिखाने के लिए मीडिया का समय खरीदेगी कि वह बंगालियों के प्रति कितनी अनुकूल है और कैसे भाजपा और मोदी उनकी संस्कृति के गौरव को नष्ट करना चाहती है और कैसे आरएसएस देश के लिए खतरा है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

ममता उन परिवारों का भी दौरा करेंगी जिनकी राजनीतिक हत्या कर दी गई थी और उन्होंने घोषणा की थी कि वह इस तरह की गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं करेंगी। वह सभी बंगाली नेताओं, बंगाली गौरव का आह्वान करेंगी और बोस जयंती मनाना शुरू करेंगी, टैगोर के साहित्यिक उत्सवों में भाग लेंगी और भी कुछ। प्रशांत उसे एक विषयवस्तु देगा, उसे बाकियों से अलग करने के लिए, विशेष रूप से भाजपा, ताकि बंगाली उसका साथ दें। जैसे आंध्र प्रदेश में उन्हें जगन का साथ देने के लिए एक भोला हिंदू साधु मिल गया वैसे ही इच्छाशक्तिहीन बंगाली साधुओं को पुरस्कार और दंड नीति की मदद से उसके साथ खड़ा करके ये साबित करने की कोशिश करेंगे कि वह हिन्दुओं के साथ स्नेहशील है। वह पाठ्यपुस्तकों में ‘राम’ नाम को भी वापस जोड़ देगी, जहां ‘राम‘ नाम का उल्लेख किसी भी चीज से हटा दिया गया था और यहां तक कि राज्य में भगवा रंग को प्रतिबंधित करने के बाद फिर अनुमति दी जाएगी।

यह रॉकेट साइंस नहीं है, बल्कि यह भारत की एक क्रूर सच्चाई है, जहां सब कुछ खरीदा जा सकता है और राजनीतिक व्यापारियों द्वारा मतदाताओं को बेवकूफ बनाया जा सकता है। उठो, मेरे महान देश जागो और यथार्थ की ओर बढ़ो।

ध्यान दें:
1. यहां व्यक्त विचार लेखक के हैं और पी गुरुस के विचारों का जरूरी प्रतिनिधित्व या प्रतिबिंबित नहीं करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.