द्विपक्षीय व्यापार संभावनाएं तलाशने, रक्षा उपकरणों के सह-उत्पादन और सह-विकास के अवसर पैदा करने के लिए भारत-अमेरिका की रक्षा बैठक।

डीटीटीआई के तहत भूमि, नौसेना, वायु और विमान वाहक प्रौद्योगिकियों पर केंद्रित 4 संयुक्त कार्य समूहों की स्थापना उनके क्षेत्र के भीतर परस्पर सहमत परियोजनाओं को बढ़ावा देने के लिए की गई है।

0
213
डीटीटीआई के तहत भूमि, नौसेना, वायु और विमान वाहक प्रौद्योगिकियों पर केंद्रित 4 संयुक्त कार्य समूहों की स्थापना उनके क्षेत्र के भीतर परस्पर सहमत परियोजनाओं को बढ़ावा देने के लिए की गई है।
डीटीटीआई के तहत भूमि, नौसेना, वायु और विमान वाहक प्रौद्योगिकियों पर केंद्रित 4 संयुक्त कार्य समूहों की स्थापना उनके क्षेत्र के भीतर परस्पर सहमत परियोजनाओं को बढ़ावा देने के लिए की गई है।

भारत-अमेरिका ने 11वीं रक्षा प्रौद्योगिकी और व्यापार पहल समूह की आभासी बैठक आयोजित की

हाई-टेक हथियारों और प्रणालियों के संयुक्त उत्पादन के उद्देश्य से, भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने बुधवार को 11 वीं रक्षा प्रौद्योगिकी और व्यापार पहल (डीटीटीआई) समूह की बैठक की। बैठक की सह-अध्यक्षता भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय के सचिव (रक्षा उत्पादन) राज कुमार और अमेरिकी रक्षा विभाग के सेकेट्री ऑफ डिफेंस फ़ॉर एक्यूजीसन एंड सस्टेनमेन्ट के तहत पीटीडीओ (परफोर्मिंग द ड्यूटीज ऑफ) ग्रेगरी कौसनर के अवर रक्षा सचिव के अवर सचिव ग्रेगरी कौसनर ने की।

डीटीटीआई समूह की बैठकें आम तौर पर भारत और अमेरिका के बीच बारी-बारी से साल में दो बार आयोजित की जाती हैं। हालाँकि, यह डीटीटीआई बैठक कोविड-19 महामारी के कारण लगातार दूसरी बार वीडियो टेलीकांफ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित की गई। डीटीटीआई समूह का उद्देश्य द्विपक्षीय रक्षा व्यापार संबंधों में निरंतर नेतृत्व पर ध्यान केंद्रित करना और रक्षा उपकरणों के सह-उत्पादन और सह-विकास के अवसर पैदा करना है।

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

डीटीटीआई के तहत भूमि, नौसेना, वायु और विमान वाहक प्रौद्योगिकियों पर केंद्रित चार संयुक्त कार्य समूहों की स्थापना की गई है ताकि उनके क्षेत्र के भीतर परस्पर सहमत परियोजनाओं को बढ़ावा दिया जा सके। समूहों ने सह-अध्यक्षों को जारी गतिविधियों और सहयोगी अवसरों के बारे में सूचना दी, जिसमें प्राथमिकता को पूरा करने के लिए लक्षित कई निकट अवधि की परियोजनाएं शामिल हैं। डीटीटीआई की सफलता को प्रदर्शित करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता के साक्ष्य के रूप में, सह-अध्यक्षों ने एक संयुक्त वक्तव्य (एसओआई) दिया, जो “विस्तृत योजना बनाकर और कई विशिष्ट डीटीटीआई परियोजनाओं पर पर्याप्त प्रगति करके रक्षा प्रौद्योगिकी सहयोग पर हमारे संवाद को मजबूत करने के लिए” प्रतिबद्ध है।

सह-अध्यक्षों को यह बताते भी प्रसन्नता हुई कि सितंबर 2020 में डीटीटीआई समूह की पिछली बैठक के बाद संयुक्त कार्य समूह एयर सिस्टम के तहत मानव रहित हवाई वाहन के लॉन्च के लिए पहले परियोजना समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे, जो डीटीटीआई के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। डीटीटीआई समूह के तहत विशिष्ट प्रौद्योगिकियों को विकसित करने के लिए अमेरिकी और भारतीय उद्योगों को और प्रोत्साहित करने के लिए मंगलवार को रक्षा उद्योग सहयोग मंच (डीआईसीएफ) वर्चुअल प्रदर्शनी आयोजित की गई।

डीआईसीएफ का आयोजन संयुक्त सचिव (रक्षा उद्योग संवर्धन) अनुराग बाजपेयी और औद्योगिक नीति के लिए उप सहायक रक्षा सचिव और जेसी सालाजार ने किया था। यह मंच भारतीय और अमेरिकी उद्योगों को सीधे डीटीटीआई में शामिल होने का अवसर प्रदान करता है और औद्योगिक सहयोग को प्रभावित करने वाले मुद्दों पर सरकार और उद्योगों के बीच संवाद की सुविधा प्रदान करता है। चर्चा के परिणामों के बारे में डीटीटीआई समूह के सह-अध्यक्षों को जानकारी दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.